मेयर ने पेश किया बजट..शहर की सुन्दरता में खर्च होंगे 3000 लाख रूपए..भाजपा नेताओं ने किया वाकआउट..श्रद्धांजलि सभा का भी किया बहिष्कार

बिलासपुर—पूरे एक साल बाद निगम की सामान्य सभा का आयोजन लखीराम आडिटोरियम सभाकार में किया गया। इस दौरान 93 प्रस्ताव को पास किया गया। इस दौरान भाजपा नेताओं ने जमकर हंगामा भी किया। नाराज भाजपा नेताओं ने सामान्य आंचार संहिता का पालन नहीं करते हुए महत्वपूर्ण बजट सत्र का बहिष्कार किया। साथ ही श्रद्धांजलि सभा में शिरकत नहीं किया। 
 
                 मेयर रामशरण यादव ने निगम की सामान्य सभा बैठक के बाद 155 करोड़ का बजट पेश किया। मेयर ने बताया कि साल 2021-22 कुल आठ सौ उन्नीस करोड़ एक्तालिश लाख बहत्तर हजार का बजट पेश किया जाता है।
 
         मेयर ने बजट पेश कर बताया कि साल 2021-22 का पुनरीक्षित आय-व्यय का कुल बजट छः सौ चौंसठ करोड़ बयालिस लाख छब्बीस हजारा है। जबकि अनुमानित आय व्यय का कुल योग आठ सौ उन्नीस करोड़ इक्तालिश लाख बहत्तर हजार है। 
               
                    मेयर ने इस प्रकार 155 करोड़ वाला बजट पेश किया। मेयर ने सदन के सामने प्रमुख योजनाओं को भी पेश किया। मेयर ने बताया कि इसमें कुछ केन्द्र प्रवर्तित और कुछ राज्य प्रवर्तित योजनाएं शामिल हैं। बजट में टाउन के पीछे खाली जमीन पर 350 लाख रूपयों का सामान्य सभा के लिए सभागृह का निर्माण किया जाएगा। महिलाओं के लिए रोजगारन्मुखी प्रशिक्षण केन्द्र और महिला उद्यान राजकिशोर नगर में 50 लाख की लागत से बनाया जाएगा।
     
                मेयर ने बताया कि मंगला में स्थित निगम की जमीन पर आवासीय कालोनी और व्यवसायिक काम्पलेक्स का निर्माण 50 लाख की लागत से किया जाेगा। अधोसंरचना मद में वार्डों के विकास जैसे सीसी रोड, नाली निर्माण डामरीकरहण और चौक चौराहों का सौंदर्यीकरण 3000 लाख रूपयों से किया जाएगा। साथ ही सर्वसुविधायुक्त 4 जोन कार्यालय भवन निर्माण 200 करोड़ से किया जाएगा। जोन कार्याय में पंजियों के रख रखाव के लिए स्टोर कक्ष निर्माण में 20 लाख प्रति जोन के हिसाब से 80 लाख रूपए खर्च होंगे।
 
भाजपा नेताओं ने किया वाकआउट
 
                  बजट सत्र शुरू होते ही नाराज भाजपा नेताओं ने सदन का वाकआउट किया। भाजपा नेताओं ने आरोप लगाया कि निगम सरकार विपक्ष के साथ दोयम व्यवहार करती है। इस दौरान सभापति ने सभी नाराज भाजपा पार्षदों को रोका लेकिन भाजपा नेताओं ने समुह स्वर में बजट का बहिष्कार कर सदन से बाहर चले गए। इतना ही नहीं कोविड काल में मृतक नेताओं को दी जाने वाली श्रृद्धांजलि सभी में भी शिरकत नहीं किया।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *