मेरा बिलासपुर

Mid Day Meal: मध्यान्ह भोजन संचालित विद्यालयों में मीनू निर्धारण कर पालन करने के निर्देश

जांजगीर-चांपा/ Mid Day Meal: जिला शिक्षा अधिकारी ने जिले के सभी बीईओ को निर्देशित किया है कि मध्यान्ह भोजन संचालित School में मीनू का निर्धारण कर मीनू का पालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने योजना के नियमित य सफल संचालन हेतु किचन शेड/भंडार कक्ष की साफ-सफाई नियमित रूप से करने, मीनू ऐसे दीवाल में अंकित हो जहां से जन-समुदाय आसानी से देख सके । मीनू के साथ-साथ समीपस्थ चिकित्सालय, चिकित्सक, थाना व थाना प्रभारी का मोबाईल नम्बर भी अंकित करने, विद्यालय में पानी पीने का पात्र अलग एवं हाथ धुलाई का पात्र अलग-अलग रखने, जहां भोजन बनाते है एवं खाद्य सामाग्री रखा जाता है, उक्त स्थान में कीटनाशक सामाग्री न रखने, खाद्य पदार्थ यथा – तेल, मसाला, चावल का सेम्पल रखने तथा किसी भी स्थिति में खराब खाद्य सामाग्री का उपयोग मध्यान्ह भोजन बनाने में न करने, योजना के तहत पेयजल पात्रों की नियमित साफ-सफाई कराने तथा बच्चों को साबुन से हाथ धुलाकर भोजन कराने, भोजन हमेशा ढककर तथा चावल को बिना माढ़ निकाल कर पकाने, मध्यान्ह भोजन के समय समस्त बच्चों को पंक्ति में बैठाकर भोजन कराने, योजना के तहत बच्चों को भोजन परोसने के पूर्व संस्था प्रमुख / शिक्षक / पालक / जन-समुदाय से भोजन की गुणवत्ता जांच तथा इसके उपरांत ही बच्चों को भोजन कराने, योजना के तहत प्रत्येक दिवस एक शिक्षक एवं एक पालक से भोजन का गुणवत्ता व स्वाद परीक्षण कराने एवं इस हेतु एक पंजी संधारित करने के निर्देश दिए है। भोजन की गुणवत्ता की कमी होने पर सक्षम अधिकारी को प्रतिवेदन नहीं देने पर संस्था प्रमुख के उपर जिम्मेदार तय कर कार्यवाही की हिदायत दी गई है।

अरपांचल में परिषद का दबदबा..सितम्बर में होगा डीएलएस में चुनाव

मीनू में सब्जी में स्थानीय उपलब्धता को ध्यान में रखने तथा हरी सब्जियों को प्राथमिकता देने, प्रोटीन की मात्रा में वृद्धि हेतु उच्च कोटी का सोया पदार्थ बच्चों को देने, स्थानीय बच्चों की पसंद एवं कुकिंग कास्ट को ध्यान में रखते हुये सप्ताह में कम से कम 2 अंडा / दूध / समतुल्य न्यूट्रीशन मूल्य का खाद्य पदार्थ समाहित करने, बच्चों / पालकों को अंडा स्वीकारोक्ति न हो तो उसके स्थान पर दूध / समतुल्य न्यूट्रीशन मूल्य का खाद्य पदार्थ देने, प्रत्येक दिवस योजना के मानिटरिंग एवं लाभांवित की संख्या के संधारण हेतु प्रत्येक स्कूल में एक शिक्षक की ड्यूटी लगाने, स्थानीय स्तर पर उपलब्ध मौसमी फल पापड़ का भी वितरण योजना के तहत करनें, सोयाबड़ी की सब्जी, खीर, अंकुरित चना / दाना भी मीनू में शामिल करने,  मध्यान्ह भोजन के संचालन के संबंध में मुनादी कराने, इस हेतु आवश्यक प्रचार-प्रसार करें सीजी एवं एमएचआरडी साफ्टवेयर का मिलान करने, कुकिंग कास्ट तथा रसोईयों मानदेय का भुगतान नियमानुसार साफ्टवेयर के माध्यम से ही करने, प्रत्येक माह के 5 तारीख तक चांवल अग्रेषित कर प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने, प्रत्येक स्कूल में चांवल एवं राशि स्टाक पंजी, लाभान्वित छात्रों की पंजी, स्वास्थ्य परीक्षण पंजी, मासिक तथा वार्षिक डाटा पंजी का संचारण करने, उक्त पंजी का निरीक्षण अधिकारियों को अवलोकन कराने, माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा जारी निर्देशों का पालन करने, योजना के तहत प्रत्येक विद्यालय में शाला विकास एवं प्रबंधन समिति का बैठक आयोजित कराने तथा सामाजिक अंकेक्षण कराने के संबंध में निर्देश दिए हैं।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS