इंडिया वाल

मांगों को ले कल से मध्यान्ह भोजन रसोईये बेमुद्दत हड़ताल पर

बैकुंठपुर। छग प्रदेश स्कूल मध्यान्ह भोजन रसोईया कल्याण संघ द्वारा  5 सितंबर से अपनी तीन सू़त्रीय मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा रहे है। जिसके लिए  प्रदेश के सभी जिलों के संघों से प्रदेश संघ के पदाधिकारियों के द्वारा अपील की गयी है कि सोमवार से शुरू होने वाले हड़ताल को सफल बनाने में अपना सहयोग प्रदान करेजिसके पालन में जिला संघ द्वारा अपने अपने जिलों में ब्लाक स्तर के पदाधिकारियों से समन्वयक कर ग्राम ग्राम तक के स्कूल मध्यान्ह भोजन रसोईयों से संपर्क कर पंपलेट का वितरण कर रहे हंै और अनिश्चितकालीन हडताल में शामिल होने राजधानी रायपुर के बूढ़ा तालाब में एक़त्र होने की अपील की जा रही है। जिसके कारण आज से जिले भर के सरकारी विद्यालयों मे जहॉ मध्यान्ह भोजन संचालित होती है वहां मध्यान्ह भोजन का संचालन प्रभावित हो सकता है।

जानकारी के अनुसार छग प्रदेश स्कूल मध्यान्ह भोजन रसोईयॉ संघ ने अपनी तीन मॉग रखी है जिनमें उन्हे कलेक्टर दर पर वेतन देने, निकाले गये रसोईयों को पुन: कार्य पर वापस लेने एवं उन्हें शासकीय कर्मचारी का दर्जा दिये जाने की मांग की गयी है।ज्ञात हो कि मध्यान्ह भोजन रसोईयों को 15 सौ रूपये मासिक मानदेय दिया जाता है वह भी प्रत्येक माह नहीं मिलता, कई माह बीतने के बाद उन्हे मानदेय मिल पाता है। मानदेय में वृद्धि करने को लेकर कई बार आंदोलन कर चुके हैं।

मध्यान्ह भोजन रसोईयों के हडताल पर चले जाने पर स्कूलों में जहां मध्यान्ह भोजन का संचालन होता है वहां संचालन प्रभावित होगा। स्कूल शिक्षा विभाग का महत्वपूर्ण योजनाओं में शामिल मध्यान्ह भोजन अविरल रूप से संचालित रहे इसके लिए व्यवस्था करने की जरूरत होगी। कई जगहों पर देखा जाता है कि जब मध्यान्ह भोजन रसोईया हड़ताल पर चले जाते हैं।
तब बच्चों के सहयोग से मध्यान्ह भोजन तैयार किया जाता ह,ै जो कि गलत है।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS