मिलरों की ठेकेदारों से मिलीभगतः घटिया चावल अकलतरा में डम्प..फिर किया गया वितरण..मंत्री का जवाब..डीएम से लेंगे जानकारी..संभव नहीं बाइक से धान परिवहन..मामले का पता लगाएंगे

बिलासपुर—खाद्य मंत्री ने अमरजीत भगत एकदिनी अल्प प्रवास पर बिलासपुर पहुंचे। पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। अमरजीत भगत ने बताया कि मांग के अनुसार चावल कहीं भी जमा हो सकता है। लेकिन धान का परिवहन मोटर सायकल या स्कूटी से संभव नहीं है। हमें नही मालूम कि कोरबा में पीडीएस से घटिया चावल का वितरण किया गया है। फिर भी हम बिलासपुर और कोरबा डीएम से बात करेंगे। पता लगाएंगे कि जयरामनगर के खाली गोदाम में चावल क्यों नहीं रखकर अकलतरा में रखा गया। 

जानकारी से इंकार

               खाद्यमंत्री अमरजीत भगत रायपुर प्रवास के दौरान कुछ समय के लिए बिलासपुर पहंचे। पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। बिलासपुर का धान मीलिंग के बाद नान का खाली गोदाम की जगह अकलतरा में डम्प किया गया। यहीं से बिलासपुर के पीडीएएस में वितरण किया गया। क्या इसकी वजह घटिया चावल तो नहीं है। सवाल के जवाब में अमरजीत भगत ने कहा..ऐसे किसी बात की जानकारी होने से इंकार किया। बावजूद इसके उन्होने बताया कि जहां जरूरत होती है..वहां चावल डम्प किया जाता है।

जरूरत के अनुसार डम्पिंग

             जयरामनगर स्थित नान का गोदाम खाली होने के बाद भी डम्प क्यों नहीं किया गया। सवाल को टालते हुए मंत्री ने कहा कि जरूरत के अनुसार चावल डम्प किया जाता है। अकलतरा से घटिया चावल फिर बिलासपुर को क्यों बांटा गया। मंत्री ने सवाल का जवाब टालते हुए कहा कि मामले की जानकारी डीएम से लेंगे।

              जयरामनगर की जगह अकलतरा में मिलर ने चावल डम्प किया। अलग से ट्रांसपोर्टिंग चार्ज कौन देगा। क्या इसमें ठेकेदार और मिलरों की मिली भगत है। सवाल के जवाब में मंत्री ने कहा कि हम डीएम से बात कर पता लगाएंगे। 

जांच की जानकारी नहीं

                  कोरबा में भी उसी मिलर ने घटिया चावल की आपूर्ति की है। जिसने घटिया चावल जयरामनगर की जगह अकलतार में डम्प किया। जांच रिपोर्ट भी सामने आ चुकी है। क्या कार्रवाई करेंगे। अमरजीत भगत ने कहा कि कोरबा में घटिया चावल का वितरण किए जाने की उन्हें खबर नहीं है। हम इस बात को संज्ञान लेते हुए अधिकारी से बात करेंगे।

संभव नहीं बाइक से परिवहन

                     लोरमी खुड़िया में बाइक और स्कूटर से हजारों क्विटंल धान का संग्रहण केन्द्र से मिल तक ट्रांसपोर्ट किया गया है। क्या धान का बाइक या स्कूटी से परिवहन संभव है। सवाल के जवाब में मंत्रेी ने कहा कि स्कूटी या बाइक से धान का परिवहन बिलकुल संभव नहीं है। हम इसका पता लगाएंगे। शायद डीओ काटते समय नम्बर त्रुटिवश लिख दिया गया हो। 

धान का ज्यादा उठाव

              क्या धान का उठाव की गति धीमी है। सवाल के जवाब मे मंत्री ने कहा कि पिछले साल की तुलना में इस साल धान का उठाव ज्यादा हुआ है।

                  उत्तरप्रदेश चुनाव के लिए कांग्रेस में क्या स्टार प्रचारकों की कमी है। भगत ने बताया कि ऐसा सोचना गलत है। कांग्रेस में चुनाव प्रचारकों की कमी नहीं है।

सवाल टाला..संविदा पर काम

        संविदा इंस्पेक्टर और मिलर मिलकर घटिया चावल नान गोदाम में रख रहे हैं। मंत्री ने बताया कि हमारे पास रेगुलर पोस्ट जब तक भर्ती नहीं हो जाते। तब तक प्लेसमेन्ट के माध्यम से  क्वालिटी का काम  लिया जा रहा है। लेकिन उन्होने घटिया चावल क्यों जमा किया गया के सवाल को टाल दिया।

किया जा रहा दुष्प्रचार

           पानी की मांग करने पर मंत्री शिव डहरिया ने एक व्यक्ति को चांटा मार दिया। खाद्य मंत्री ने बताया कि इस बात की उन्हें जानकारी नहीं है। संभव नहीं है कि शिव डहरिया किसी को थप्पड़ मारा हो। शिव डहरिया बहुत सज्जन इंसान है। शायद यह दुष्प्रचार भी हो सकता है। फिलहाल इसकी उन्हें बिलकुल जानकारी नहीं है।        

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *