कोरोना पर भारी आस्था..घाट पर नजर आयी 5 हजार से अधिक भीड़..व्रतियों ने दिया अस्तगामी सूर्य को अर्घ्य..माता छठ से सुख समृद्धि का मांगा आशीर्वाद

बिलासपुर—- कोरोना काल पर आस्था भारी पड़ा है। शुक्रवार को अरपा तट स्थित छठ घाट पर पांच हजार से अधिक आस्थावानों की भीड़ नजर आयी। माता और बहनों ने अरपा तट पर माता छठ और अस्तगामी सूर्य का वंदन किया। छठ घाट के अलावा व्रतियों ने घरों में बनाए गये कुंड आदि में महापर्व के मौके पर भगवान भाष्कर को अर्घ्य अर्पित किया। इस दौरान घाट पर पुलिस और निगम प्रशासन का पुख्ता इंतजाम भी नजर आया। गोताखोर और पुलिस जवान गतिविधियों पर बराबर नजर बनाकर रखते हुए पाए गए। साथ ही छठ पूजा समिति की तरफ से घाट पर सैनिटाइजर और मास्क का इंतजाम भी नजर आया।

सुरक्षा और निर्देशों के बीच व्रतियों की आस्था

                      छठ पूजा समिति की तरफ से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभय नारायण राय ने बताया कि अरपा तट पर करीब दो बजे के बाद आस्था का महासैलाब घाटों पर उमड़ने लगा। शाम चार बजे के बाद श्रद्धालुओं ने अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देकर सुख शांति की कामना की। अभय ने बताया कि इस दौरान जिला, पुलिस और निगम प्रशासन की तरफ से कोरोना और अन्य सुरक्षा को लेकर व्यापक स्तर पर इंतजाम किए गए हैं।

        इस दौरान छठ व्रतियों ने शांतिपूर्ण तरीके से एक दूसरे दूरी बनाकर रखने के साथ अस्तलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया।       

व्रतियों ने दिया भगवान भास्कर को पहला अर्घ्य

                       कयास लगाया जा रहा था कि कोरोना काल में इस बार छठ घाट पर भीड़ नजर नहीं आएगी। लेकिन व्रतियों ने सारे कयासों पर पानी फेर दिया। करीब पांच हजार से अधिक लोगों ने घाट पहुंचकर अर्घ्य दिया। यद्यपि छटघाट में पूर्व की तरह भीड़ नहीं देखने को मिली।बावजूद इसके आस्थावानों ने छठ के तीसरे दिन यानि शुक्रवार को अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को पहला अर्घ्य दिया।

व्रतियों ने तालाब और कुण्ड में भी दिया अर्घ्य

           छठ पूजा और व्यवस्था समिति के पदाधिकारी राय ने जानकारी दी कि कोरोना काल में  छठ महापर्व के दौरान व्रतियों ने शासन के दिशा निर्देशों का पूरी आस्था के साथ पालन किया है। ज्यादातर लोगों ने अपने घरों में कुण्ड बनाकर या आसपास स्थित तालाब पहुंचकर भगवान भास्कर को अर्घ्य दिया है।

शनिवा्र को होगा महापर्व का समापन

                 अभय ने जानकारी दी कि शनिवार को सूर्य की पहली किरण के साथ भगवान भास्कर को व्रती उदयीमान सूर्य को अर्घ्य देंगे। इसके साथ ही छठ पूजा का समापन होगा। छठ घाट पर कार्यक्रम का आयोजन भी किया जाएगा। इस दौरान व्रतियों के बीच व्हीआईपी मौजूद होकर सभी व्रतियों को शुभकामनाएं भी देंगे। 

कोरोना पर भारी छठ महापर्व

                 हालांकि इस वर्ष लोग कोरोना को लेकर छठ व्रती काफी सजग नजर आए। इस दौरान घाट पर पुलिस बल सजग दिखाई दी। महापर्व छठ के आगे कोरोना का डर फीकी पड़ती दिखाई दी। और लोगों ने अस्ताचगालामी सूर्य को आर्घ्य देकर सुख शांति और पुत्र प्राप्ति की कामना की।

पूरे प्रदेश में महापर्व का अवकाश

               बातचीत के दौरान अभय नारायण राय ने बताया कि छठ महापर्व पर पूरे प्रदेश में अवकाश रहा। उन्होने बताया कि पिछले साल मुख्यमंत्री छठघाट पहुंचकर लोगों को शुभकामनाएं दी थी। उन्होने छठघाट मंच से शासकीय अवकाश का एलान किया था। इस साल छठमहापर्व को शासकीय अवकाश में शामिल कर लिया गया है। पूरे समाज समेत प्रदेश वासियों में महापर्व पर शासकीय अवकाश किए जाने पर खुशी है।

               अभय ने कहा कि पिछले बीस सालों में अरपा तट पर छठ महापर्व मनाया जा रहा है। यह भारत का सबसे बड़ा छठ घाट है। यह रिकार्ड भी है कि पहली बार महापर्व में प्रदेश के मुखिया भी शामिल हुए। 

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...