36 सिटी मॉल का कब्जा मिलने के बाद बैंक वालों का यू-टर्न,तालेबंदी पर अड़े,लेकर आए थे दो बैग ताला

mall_36_septबिलासपुर।36 सिटी माल का कब्जा पीएनबी को दिए जाने के बाद मामले में नया मोड़ आ गया है। और अब पीएनबी के अफसर इस बात पर अड़ गए हैं कि 36 माल के परिसर में स्थित होटल मेरिएट में ताला लगाया जाएगा। जबकि कब्जा दिलाते समय प्रशासन के अफसरों का कहना था कि ताले बंदी की बात नहीं हुई है और पीएनबी के प्रतिनिधियों ने भरोसा दिलाया है कि माल-होटल का काम उसी तरह चलता रहेगा जिस तरह से अब तक चलता रहा है।शनिवार को पीएनबी को 36 माल का कब्जा दिलाने आए एसडीएम आलोक पाण्डेय ने सभी के सामने बात की और पत्रकारों के सवालों के भी जवाब दिए । उनका कहना था कि प्रशासन ने इस मामले में कोर्ट के आदेश का पालन कराया है।इसके बाद प्रशासन की भूमिका पूरी हो गई है और अब पीएनबी व माल प्रबंधन आपसी सहमति से आगे इसे चलाएँगे। उन्होने कैमरे के सामने यह भी कहा था कि पीएनबी के प्रतिनिधियों ने भरोसा दिलाया है कि 36 माल का काम पहले की तरह चलता रहेगा और यहां व्यावसायिक गतिविधियों पर किसी तरह का व्यावधान नहीं आएगा। लेकिन उसके थोड़ी देर बाद ही पीएनबी के अफसरों ने गिरगिट की तरह रंग बदलते हुए यू टर्न ले लिया और होटल मेरिएट पर ताला लगाने की बात शुरू हो गई।
डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall

IMG-20170916-WA0008                                                वहां मौजूद तहसीलदार  देवी सिंह उइके से जब पत्रकारों ने पूछा कि क्या होटल में तालाबंदी के लिए कहा गया है , तो उनका जवाब था कि यह पीएनबी और होटल मेरिएट के प्रबंधन के बीच की आपस की बात है। अब उन्हे ही तय करना है।उन्होने भी तालाबंदी की बात पर हामी नहीं भरी।पीएनबी के व्ही. पी. राव ने कहा कि कोर्ट के आदेश के मुताबिक होटल का पजेशन पीएनबी को मिल गया है। अब होटल मैनेजमेंट साथ देगा तो आगे चलाएंगे।जब उनसे पूछा गया कि होटल स्टाफ को लेकर आपका क्या कहना है… इस पर उनका जवाब था कि इस पर मैनेजमेंट से बात करेंगे। उनका कहना था कि अभी तक मैनेजमेंट ( मालिक) से बात नहीं हुई है।

यह भी पढे-आखिर पीएनबी को मिला 36 सिटी मॉल का कब्जा…

                                               दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े होटल मेिरएट के मैनेजर संजय ओझा  ने बताया कि उनके मालिक अभी विदेश के  दौरे पर हैं। मालिक ने उन्हे(संजय ओझा को) पॉवर ऑफ एटार्नी दे रखा है और उनके अधिकृत प्रतिनिधि की  हैसियत से ही बात कर रहे हैं।ओझा ने कहा कि कोर्ट ने होटल का फिजिकल पजेशन देने कहा है ,जो प्रशासन ने पीएनबी को दिला दिया है। होटल मैनेजमेंट प्रशासन और पीएनबी अफसरों के साथ पूरी तरह से सहयोग कर रहा है। उन्होने बताया कि जो जानकारी पीएनबी को चाहिए वह पहले ही लिखित में विस्तार से दी जा चुकी है। उन्होने बताया कि माल-होटल मिलाकरर हजार से डेढ़ हजार कर्मचारी हैं । जिनका रोजगार यहां से चलता है। इसी तरह एक से सवा करोड़ का टैक्स सरकार के खजाने में जाता है। ऐसे में तालाबंदी करने से सभी को बड़ा नुकसान होगा।

                                                 होटल मेरिएट पर तालाबंदी करने पर अड़े पीएनबी के अफसरों के सामने यह बात भी रखी गई है कि इस समय होटल में कुछ विदेशी मेहमान भी ठहरे हुए हैं। ऐसी स्थिति में उन्हे यहां से कहीं कैसे शिफ्ट किया जा सकता है। जानकारी यह भी दी गई कि होटल की बुकिंग दिसम्बर तक हो चुकी है। ऐसे में आगे मुश्किलें काफी पेश होंगी।

दो बैग ताला लेकर आए थे-पीएनबी वाले

एक तरफ कब्जा दिलाते समय प्रशासन की ओर से यह साफ किया गया कि पीएननबी और होटल मेनेजमेंट आपस में सुलह कायम कर आगे का काम-काज चलाते रहेंगे। तालाबंदी की बातों पर उन्होने हामी नहीं भरी थी। लेकिन मौके पर जो हालात दिखाई दिए उससे लगता है कि पीएनबी के लोगों ने प्रशासन को धोखे में रखकर उनकी आँखों में धूल झोंकने की कोशिश करते हुए पहले से ही तालेबंदी की तैयारी से आए।दहशत और आपाधापी के माहौल में इसका खुलासा उस समय हुआ, जब सुरक्षा में लगे लोगों ने तलाशी ली। जिससे पता लगा कि पीएनबी वाले दो बैग में भरकर ताला लेकर आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *