कॉलेजों में प्रमोशन का मामला,यूजी-पीजी प्रिंसिपल के 180 और रजिस्ट्रार के 10 पद रिक्त

रायपुर। महाविद्यालय संवर्ग में पदोन्नति से भरे जाने वाले स्नातक प्राचार्य के 142 स्नातकोत्तर प्राचार्य के 38 और रजिस्ट्रार के 10 पद खाली हैं।यह जानकारी उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में दी। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे विधायक धर्मजीत सिंह ने जानना चाहा कि शासकीय महाविद्यालय सेवा के स्नातक प्राचार्य, स्नातकोत्तर प्राचार्य और रजिस्ट्रार में कितने कितने पद रिक्त हैं?जो पदोन्नति से भरे जाने हैं? अब तक इस पर क्या कार्रवाई की गई? लंबित होने की स्थिति में कारण सहित बताएं? पदों पर पदोन्नति के लिए क्या छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग से अनुमति/सहमति आवश्यक है?हां तो किन नियमों के तहत कब तक कार्रवाई पूरी की जाएगी?

उच्च शिक्षा मंत्री ने बताया कि महाविद्यालय संवर्ग में पदोन्नति से भरे जाने वाले स्नातक प्राचार्य के 142 ,स्नातकोत्तर प्राचार्य के 38 व रजिस्ट्रार के 10 पद रिक्त हैं. पदोन्नति के लिए वांछित गोपनीय चरित्रावली और अन्य अभिलेख का संकलन की कार्रवाई की गई है. पदों पर पदोन्नति छत्तीसगढ़ शैक्षणिक सेवा (महाविद्यालय शाखा, राजपत्रित) भर्ती नियम 2019 के प्रावधान अनुसार छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष अथवा उनके द्वारा निर्दिष्ट कोई सदस्य की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा की जाती है. 12 फरवरी 2019 को तारांकित प्रश्न क्रमांक 435 के खंड के उत्तर के परिपेक्ष में छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा रजिस्ट्रार के पद पर सीधी भर्ती का विज्ञापन 14 जुलाई 2021 को प्रकाशित किया गया है। रजिस्ट्रार के पद पर पदोन्नति का प्रस्ताव 19 फरवरी 2021 को लोक सेवा आयोग को भेजा गया था.आयोग से मिले निर्देश अनुसार अद्यतन गोपनीय चरित्रावली और अभिलेख संकलित कर फिर से लोक सेवा आयोग को भेजने के लिए कार्यवाही प्रक्रियाधीन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *