Draupadi Murmu को राष्ट्रपति चुनाव में क्यों उतार रही है BJP?

दिल्ली।राष्ट्रपति चुनाव (President Election) को लेकर विपक्ष और सत्तारूढ़ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने अपने उम्मीदवार तय कर दिए हैं. भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने झारखंड (Jharkhand) की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू (Draupadi Murmu) को अपना कैंडिडेट बनाया है.द्रौपदी मुर्मू  ओडिशा की रहने वाली हैं. विपक्षी दलों ने अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री रहे यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) को राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष का संयुक्त उम्मीदवार घोषित कर दिया है. देश प्रदेश की अहम खबरों के लिए हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े यहां क्लिक करें।

Join Our WhatsApp Group Join Now

द्रौपदी मुर्मू के जरिए भारतीय जनता पार्टी एक साथ कई रणनीतियों को साधने की कोशिश कर रही है. द्रौपदी मुर्मू अगर राष्ट्रपति बनती हैं तो वह पहली आदिवासी महिला होंगी जो देश के सर्वोच्च पद पर सत्तारूढ़ होंगी.

कई सियासी समीकरणों को साधने की कोशिश में जुटी है बीजेपी

द्रौपदी मुर्मू की उम्र 64 वर्ष है और वो ओडिशा राज्य से आती हैं. इसके अलावा झारखंड की राज्यपाल रह चुकी हैं. BJP इस ऐलान के जरिए कई सियासी समीकरणों को साधने की कोशिश में जुटी है.राष्ट्रपति चुनाव में भी उम्मीदवारों की जाति, क्षेत्र और धर्म पर जोर दिया जाता है. पिछली बार बीजेपी ने रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार चुना था, जो दलित हैं. अब बीजेपी ने एक आदिवासी महिला नेता को इस पद के लिए चुना है.

किन राज्यों में हो सकता है बीजेपी को फायदा?

आने वाले कुछ महीनों में 2 बड़े राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भी आदिवासी वोटर अहम भूमिका निभाते हैं. राजस्थान में भी आदिवासी समुदाय की संख्या बड़ी तादाद में हैं. लोकसभा चुनावों को लेकर भी बीजेपी अभी से एक्शन मोड में हैं. ऐसे में अगर देश को पहला आदिवासी राष्ट्रपति मिलता है तो यह बीजेपी के लिए मददगार साबित हो सकता है.

महिला वोटरों को भी साधने की हो रही है कोशिश

गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में आदिवासी समुदाय के वोटरों की संख्या ज्यादा है. गुजरात में बीजेपी को तत्काल बड़ा फायदा हो सकता है. द्रोपदी मुर्मू को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाना बीजेपी के लिए बेहद अहम फैसला है. द्रौपदी मुर्मू के चुनावी समर में उतरने से महिला वोटरों को भी एक संदेश देने की कोशिश की जा रही है.

                   

Shri Mi

पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर
Back to top button
close