परिवार नही..इसलिए नहीं हो रहा दर्द..पता चल जाता आटा दाल का भाव..कांग्रेस नेत्रियों का एलान..महंगाई के खिलाफ करेंगे उग्र आंदोलन

बिलासपुर—महिला कांग्रेस नेत्रियों ने केन्द्र सरकार की महंगाई नीति के खिलाफ आंदोलन की धमकी दी है। जिला महिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष अनीता लव्हात्रे और शहर अध्यक्ष सीमा पाण्डेय ने पत्रकारों को  बताया कि महिला होने के नाते महंगाई के दर्द का अहसास बेतहर है। मोदी राज्य में अब घर चलाना मुश्किल हो गया है।
 
               अनीता लव्हात्रे और सीमा पाण्डेय ने संयुक्त प्रेस वार्ता में बताया कि पेट्रोल 100 पार हो गया है। डीजल शतक लगाने के करीब है। रसोई गैस का दाम आसमान छू रहा है। देश में हाहाकार है। लेकिन मोदी सरकार बेफिक्र होकर नीरो की तरह बासुंरी बजा रही है।
 
                     दोनों कांग्रेस नेत्रियों ने बताया कि महंगाई की मार का दर्द महिलाओं को झेलना पड़ रहा है। घर परिवार चलाना बहुत मुश्किल हो गया है। केन्द्र की मोदी सरकार की अदूरदर्शी नीतियों के चलते अडानी और अम्बानी परिवार को छोड़कर कमोबेश देश के सबी नागरिकों को कोरोना के बाद महंगाई की दोहरी मार से जूझना पड़ रहा है।
 
            अनीता और सीमा पाण्डेय सवाल जवाब के दौरान बताया कि मोदी ने अच्छे दिनों का वायदा कर देश को महंगाई की आग में झोंक दिया है। साल 2014 में  भाजपा नेताओं ने वादा किया था कि सरकार बनते ही पेट्रोल का दाम 35 रूपए हो जाएगा। रसोई गैस तात्कालीन कीमत से आधी कीमत में मिलेगी।  लेकिन मोदी राज में  डीजल पेट्रोल और रसोई गैस में महंगाई की आग लगी  है। खाद्य सामाग्री भी महंके हो गए है। गरीब परिवार की बात तो दूर मध्यमवर्गीय परिवार को भी घर चलाने में पसीना छूट रा हैं।
     
         नेत्रियों ने आक्रोश जाहिर करते हुए कहा..एक तरफ देश कोरोना की मार से परेशान है। हजारों करोड़ों परिवार ने महामारी में अपनों को खोया है। ऊपर से केन्द्र सरकार जख्म में मरहम की वजाय सबको महंगाई की आग में झोंक रही है।
 
                 महिला नेत्रियों ने कहा कि मोदी को परिवार चलाने का अनुभव नही है। जाहिर सी बात है आने वाली परेशानियों का भी उन्हें अहसास नहीं होगा। उन्हें पत्नी के साथ रहने का मौका मिला नहीं। इसलिए उन्हें आटा दाल का भाव नहीं पता है। लेकिन कांग्रेस पार्टी की महिला विंग ने फैसला किया है कि मोदी सरकार को आटा दाल का भाव बताना जरूरी हो गया है। महंगाई के खिलाफ कांग्रेस महिला विंद सड़क पर उतर उग्र आंदोलन करेंगी।
 
               अनीता और सीमा ने कहा कि मनमोहन सिंह सरकार के समय अंतराष्ट्रीय बाजारो मे क्रूड आयल की कीमता 119 डालर प्रति बैरल हुआ करता था। लेकिन पेट्रोल की कीमत कभी 71 के आंकड़ें को पार नहीं किया। आज क्रूड आयल की कीमत 60 डालर प्रति बैरल के आस पास है। लेेकिन पेट्रोल डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं।
 
            मनमोहन सरकार के समय पेट्रोल डीजल के मूल्य मे भारी बृद्धि होने पर भाजपा नेता आसमान को सिर पर उठा लेते थे। आज वही नेता मुंह छिपाए बैठे हैं। जनता को जवाब देने से बच रहे हैं। जिलाध्यक्ष अनीता लव्हात्रे ने कहा कि अचानक नोटबंदी , जीएसटी , फिर किसान विरोधी बिल ,से जनता निकल नही पायी है। प्रधानमंत्री ने मोदी ने मंहगाई का बोझ डाल दिया है। गरीबों की कमर टूट गयी है। मोदी को बताना जरूरी हो गया है कि जिस  देश की प्रजा दुखी होती है..वहां के राजा को राज्य करने का कोई अधिकार नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *