पानी नही..सड़क नहीं..बिजली नहीं..वाह री कांग्रेस सरकार.अमर ने कहा.योजनाओं का अता पता नहीं .. रूपयों का हो रहा बंदरबाट..जनता सब देख रही

बिलासपुर—–नगर के सर्वांगीण विकास के लिए भाजपा शासन काल में स्वीकृत कराए रगए करोडो रूपए की लागत से विकास कार्यो में जल अमृत मिशन, सिवरेज परियोजना, तारा मंडल, प्रगति मैदान शहर की सडकों का निर्माण, सौंदर्यीकरण के काम सब आज ठप  है। परियोजनाओं का पैसा कांग्रेसी भ्रष्टाचार कर बंदरबांट में लगे है। इनकी करतुतों को उजागर भी करना जरूरी है। यह बात पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल ने भाजपा कार्यकर्ताओं के वार्ड स्तरीय धरना प्रदर्शन के दौरान कही।
 
               अमर अग्रवाल वार्ड स्तरीय धरना प्रदर्शन के तीसरे चरण में 8 सितम्बर को शिव चौक कुदुदण्ड, क्षत्रीय समाज सामुदायिक भवन बजरंग चौक बंधवापारा, इमाम बाड़ा चौक खपरगंज, सांई मंदिर के पीछे मिनी बस्ती तालापारा और कंसा चौक टिकरापारा में आयोजित धरना प्रदर्शन को संबोधित किया। अग्रवाल ने आरोप लगाया कि प्रदेश और निगम सरकार की निस्क्रीयता और बंदरबांट के चलते सारे विकास कार्य औंधे मुंह हैं। योजनाएं भ्रष्टाचार की भेट चढ़ चुकी हैं। विकास कार्यो के लिए भाजपा शासन काल में स्वीकृत कराए गए करोड़ो रूपए की राशि का बंदरबांट किया जा रहा है। सारे विकास कार्य आज ठप है।
 
                     अग्रवाल ने कहा कि वार्डो में मूलभूत समस्याओं का निराकरण नही हो रहा है। वार्ड में सड़क, बिजली, पानी, साफ सफाई, निराश्रित पेंशन, प्रधानमंत्री आवास, इलाज हेतु स्मार्ट कार्ड, नए राशन कार्ड, जानमाल की सुरक्षा पर आम नागरिकों का अधिकार है। किसी भी राज्य और नगर सरकार का कर्तव्य है कि लोगों की समस्याओं का समाधान करे । दुर्भाग्य है कि अब कोई सुनने वाला नही है। वार्ड के नागरिक भटक रहे है, जाए तो जाए कहा। शहरों की कमोबेश सभी  सडकें भारतीय जनता पार्टी शासनकाल के दौरान बनी थी।  नई सडको का तो अता पता नहीं है। जिन सडकों में गढढे हो गए है कम से कम उसमें पेंच वर्क ही कांग्रेस सरकार करवा दे तो बड़ी बात होगी।
 
                 पानी की समस्या तो अब शहर में आम बात है। नगर निगम दो टाईम शहर को एक टाम पानी उपलब्ध नहीं करवा पा रही है। पानी सप्लाई में कटौती की जा रही है। लाईट नहीं, आपरेटर भाग गए, मोटर जल गया, पानी का जल स्तर नीचे चला गया, आदि-आदि कहानी गढ़े जा रहे है। भाजपा शासन काल में हमने नगर में घर-घर पानी पहुॅचे। 2016 में 500 करोड रूपए की महती जल अमृत मिशन के तहत खुंटाघाट बांध से शहर में पाईप लाईन के माध्यम से पानी लाने योजना लाई गई। टेंण्डर हुए..काम भी चालू हुआ। गली-गली पाईप लाईन डालकर घर घर नल कनेक्शन दिए 5 साल हो गए..लेिन आज भी काम अधूरा है। योजनाएं भ्रष्टाचार की भेट चढ गयी हैं। तिफरा ओव्हार ब्रिज निर्माण अब तक पूरा हो जाना था । लेकिन आज  भी अधूरा है।  सिवरेज परियोजना बंद है। प्रगति मैदान अधूरा है। शहर सौंदर्यीकरण का अता पता नही। ऐसे अनेक योजनाओं का पैसा कांग्रेसी भ्रष्टाचार कर जेब में डाल रहे है।
 
                 अग्रवाल ने कहा कि प्रतिदिन भ्रष्टाचार के नए-नए किस्से सुनने को मिल रहे है। कांग्रेसी जमीनों की लूटमार में लगे है। जिसकी जमीन पाओ हड़प लो। कब्जा करने में लगे है। सरकारी जमीनों में तो ताबडतोड कब्जे सरकार कांग्रेसियों से करवाने में लगी है। लोगों की जमीन का रकबा और खसरा नम्बर बदल दिए जा रहे है। तहसील कार्यालय का हाल बेहाल है। जमीन सीमांकन के रेट तय है। 20 हजार से लेकर एक लाख रूपए तक लोगों से मांगे जा रहे है। शहर में चारो ओर कचरो का अम्बार है। साफ सफाई, चौपट, गंदगी का आलम बहुत बुरा हाल कर रखा है।
 
                          नगर निगम बिलासपुर शहर की कांग्रेस सरकार मुॅह में ताला लगा कर बैठी है। अग्रवाल ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सारी समस्याओं का निराकरण नहीं किया जाता तो भाजपा बड़े स्तर पर सड़क पर उतरकर वृहद आंदोलन करेगी।

Tags:,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *