अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार का ऐलान, डेविड कार्ड, जोशुआ डी एंग्रिस्ट और गुइडो डब्ल्यू इम्बेन्स को मिला अवॉर्ड

अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार (Nobel Prizes) का ऐलान हो चुका है. डेविड कार्ड (David Card), जोशुआ डी एंग्रिस्ट (Joshua D Angrist) और गुइडो डब्ल्यू इम्बेन्स (Guido W Imbens) को इस साल आर्थिक विज्ञान में नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Economic Science) से नवाजा गया है. नोबेल समिति ने डेविड कार्ड को श्रम अर्थशास्त्र में उनके प्रयोगसिद्ध योगदान के लिए पुरस्कार का आधा हिस्सा दिया और दूसरा आधा संयुक्त रूप से जोशुआ डी एंग्रिस्ट और गुइडो डब्ल्यू इम्बेन्स को कारण संबंधों के विश्लेषण में उनके मेथेडोलॉजिकल योगदान के लिए दिया गया.

स्वीडिश अकेडमी ने एक बयान में कहा, ‘इस साल के पुरस्कार विजेता डेविड कार्ड, जोशुआ एंग्रिस्ट और गुइडो इम्बेन्स ने हमें मार्केट बाजार के बारे में नई इनसाइट्स प्रदान की है और दिखाया है कि प्राकृतिक प्रयोगों से कारण और प्रभाव के बारे में क्या निष्कर्ष निकाला जा सकता है. उनका अप्रोच अन्य क्षेत्रों में फैल गया है और प्रयोगसिद्ध अनुसंधान में क्रांतिकारी बदलाव आया है.’ अकेडमी ने कहा कि सामाजिक विज्ञान में कई बड़े सवाल कारण और प्रभाव से संबंधित हैं. आप्रवास वेतन और रोजगार स्तरों को कैसे प्रभावित करता है? लंबी शिक्षा किसी की भविष्य की आय को कैसे प्रभावित करती है?

रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज देता है अवॉर्ड

बयान में कहा गया, ‘इस साल के पुरस्कार विजेताओं ने दिखाया है कि प्राकृतिक प्रयोगों का इस्तेमाल करके इन और इसी तरह के सवालों के जवाब देना संभव है.’ अल्फ्रेड नोबेल (Alfred Nobel) की याद में आर्थिक विज्ञान में 2021 का स्वेरिग्स रिक्सबैंक पुरस्कार डेविड कार्ड को आधा और जोशुआ डी एंग्रिस्ट और गुइडो डब्ल्यू इम्बेन्स को संयुक्त रूप से आधा दिया गया है. आर्थिक विज्ञान में नोबेल पुरस्कार रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज स्टॉकहोम द्वारा प्रदान किया जाता है. नोबेल फाउंडेशन को 1968 में बैंक की 300वीं की वर्षगांठ पर स्वेरिग्स रिक्सबैंक से दान हासिल हुआ. ये पुरस्कार उसी दान पर आधारित है.

नोबेल शांति पुरस्कार के बाद दिया जाता है आर्थिक नोबेल

आर्थिक नोबेल की घोषणा नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Peace Prize) के बाद की जाती है. इस बार पत्रकार मारिया रसा (Maria Ressa) और दिमित्री मुराटोव (Dmitry Muratov) को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की रक्षा के प्रयासों के लिए दिया गया है, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोकतंत्र और स्थायी शांति के लिए एक पूर्व शर्त है. जहां मारिया फिलीपींस (Philippines) स्थित समाचार साइट रैपर की सीईओ हैं, वहीं दिमित्री आंद्रेयेविच मुराटोव रूसी समाचार पत्र नोवाया गजेटा के प्रधान संपादक हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *