अब यू-ट्यूब से होगी पढ़ाई..अधिकारियों ने बताया ..कोविड ने पढ़ाई पर डाला प्रभाव..बच्चों कों देंगे विशेष कोचिंग..प्रशिक्षकों को दिया जाएगा मानदेय

बिलासपुर– जिला शिक्षा अधिकारी की विशेष उपस्थिति में प्राचार्यों और अधिकारियों के लिे चार सीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। इस दौरान उपस्थित प्राचार्यों को शासन के दिशा निर्देश और पठन पाठन की जानकारी दी जा रही है। एपीसी रामेश्वर अग्रवाल ने बताया कि 2 से 4 जनवरी के बीच विकासखण्डवार प्राचार्यों समेत अन्य अधिकारियों को पठन पाठन और शासन की नीतियों की जानकारी दी जा रही है। पहले दिन बिल्हा विकासखण्ड से शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के अधिकारियों ने  कार्यशाला में हिस्सा लिया। दूसरे दिन कोटा और मस्तूरी के अधिकारियों ने प्रशीक्षण का लाभ उठाया। 
 
एजेन्डावार दिया गया प्रशिक्षण 
 
             रामेश्वर जायसवाल ने बताया कि कार्यशाला के तीसरे दिन यानि 3 जनवरी को तखतपुर विकासखण्ड अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया गया। बैठक को जिला शिक्षा अधिकारी एसके प्रसाद, सहायक जिला परियोजना अधिकारी डॉ अनिल तिवारी ने दिशा निर्देश दिया। साथ ही शासन के निर्देशों को सबके सामने रखा। सभी अधिकारियों ने एजेण्डा से अवगत कराया।
 
          इस दौरान प्रसाद और अनिल तिवारी ने बताया कि सत्र 2021-22 के लिे समग्र शिक्षा अन्तर्गत शालाओं को जारी शाला अनुदान की राशि, बैंलेस एकाउन्ट के माध्यम से किया गया है। बताया गया कि  पीईएमएस पोर्टल के माध्यम से आहरण संवितरण किया जाएगा। प्रोग्रामर तरूण सिंह ठाकुर और लेखपाल सुमन्त यादय ने PFMS PORTAL को लेकर उपस्थित लोगों के बीच जानकारी को विस्तार से साझा किया।
 
कोरोना काल में पढ़ाई पर पढ़ा प्रभाव
 
                      बैठक में बताया गया कि कोविड- 19 के दौरान लॉकडाउन के कारण विद्यालय बंद होने की वजह से बच्चों की पढ़ाई लिखाई प्रभावित हुई है। आगामी मार्च महीनें में 9वी से 12वीं के बच्चों की ऑफलाईन परीक्षाएं आयोजित होंगी। बच्चों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए फरवरी महीने में उपचारात्मक शिक्षण कार्यक्रम चलाया जाएगा।
 
यू ट्यूब से होगी पढ़ाई
 
                कार्यशाला को एपीसी रामेश्वर जायसवाल ने भी संबोधित किया। जायसवाल ने बताया कि फरवरी के प्रथम सप्ताह में बेसलाईन और अतिम सप्ताह में एण्डलाईन टेस्ट होगा। टेस्ट का आयोजन प्री बोर्ड परीक्षा पैटर्न में किया जाएगा।विद्यालय बंद रहने की स्थिति में एसएमडीसी, पालकों की सहमति से विशेष कोचिंग कक्षाओं का संचालन किया जाएगा।  जिलास्तर पर यू-ट्यूब चैनल के माध्यम से पठन पाठन कार्य को अंजाम दिया जाएगा। सभी रेमेडियल कक्षाओं के प्रशिक्षकों को मानदेय भी दिया जाएगा।
 
विशेष प्रतियोगिता का आयोजन
 
           बैठक में स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार, समावेशी शिक्षा, कोरोना पोस्टर प्रतियोगिता की जानकारी दी गई। बैठक मे जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा 15 से 18 वर्ष के बच्चों के शत् प्रतिशत कोविड वेक्सीनेशन के लक्ष्य को प्राप्त करने के साथ ही 12 से 14 वर्ष के वेक्सीनेशन के लिए छात्रों को चिन्हांकित भी किया जाएगा। 
 
              बैठक में आरडी गौरहा, एपीसी चन्द्रभान सिंह ठाकुर अश्वनी भारद्वाज, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी विजय के अलावा सभी विकासखण्ड स्त्रोत समन्वयक, सहायक विकासखण्ड शिक्षा अधिकारीगण उपस्थित हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *