कृषि महाविद्यालय नारायणपुर के द्वारा संविधान दिवस पर ली गयी शपथ,वेबीनार में संविधान के जनक डॉ. भीमराव अम्बेडकर को किया याद

नारायणपुर-कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केन्द्र नारायणपुर की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के द्वारा संविधान दिवस मनाया । सभी शिक्षकगण एवं स्वयं सेवाको ने शपथ ली। इस अवसर पर पेंटिंग के माध्यम से स्वयं सेवको ने अपने विचार प्रस्तुत कर पेंटिंग को अधिष्ठाता एवं कार्यक्रम अधिकारी डॉ रत्ना नशीने को अन्य अधिकारियों को भेट दिया। ” संविधान दिवस ” पर राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के द्वारा फूल के पौधों को महाविधालय प्रांगण में रोपित किया गया और गुड़हल,चम्पा एवं गुलाब के पौधों आदि वितरित किए गए। इस अवसर पर महाविद्यालय के शिक्षकगण डॉ. अनिल दिव्या ,प्रशांत बीजेकर, वत्सल श्रीवास्तव, निधि शर्मा, मनीषा धुरवे, संगीता लाकर विवेक विश्वाकर्मा एवं अन्य उपस्थित थे। इस अवसर पर स्वयं सेवको के लिए ऑनलाइन वेबीनार आयोजित किया गया जिसमे अधिष्ठाता एवं राष्ट्रीय सेवा योजना कार्यक्रम अधिकारी डॉ रत्ना नशीने अपने उदबोधन मे कहा की भारत गणराज्य का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ था।

संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉ॰ भीमराव आंबेडकर के 125वें जयंती वर्ष के रूप में 26 नवम्बर 2015 को पहली बार भारत सरकार द्वारा संविधान दिवस सम्पूर्ण भारत में मनाया गया तथा 26 नवम्बर 2015 से प्रत्येक वर्ष सम्पूर्ण भारत में संविधान दिवस मनाया जा रहा है। संविधान सभा ने भारत के संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवम्बर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया। गणतंत्र भारत में 26 जनवरी 1950 से संविधान अमल में लाया गया।

भारतीय संविधान की विशेषताओ पर भी प्रकाश डाला । साथ ही मतदाता जागरूक अभियान हेतु छात्राओं को मतदाता सूची में नाम जुड़वाने के लिए प्रोत्साहित किया । ऑनलाइन वेबीनार के माध्यम से विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं जिनमे पोस्टर, चित्रकला एवं सवाल जवाब आदि रखी गई। चित्र कला मे रुचिका सोनवानी प्रथम रही, कीर्ति साहू भाषण मे प्रथम रही, अंगद राज बग्गा प्रश्नोत्तरी मे प्रथम स्थान प्राप्त किया। राष्ट्रिय स्वयं सेवको में वीर नारायण देवांगन, सत्यप्रकाश साहू, पुनीत कश्यप, रुचिका सोनवानी, दीपिका जलारिया, कीर्ति साहू, अंगद राज बग्गा, लीना कंवर, गुड्डू राम उसेंडी , दिलेन्द्र वर्मा एवं अन्य स्वयं सेवक के साथ महाविद्यालय के शिक्षकगण उपस्थित थे। वेबीनार का संचालन कीर्ति साहू, अंगद राज बग्गा ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *