Google search engine

Odisha Train Accident-टीएमसी-सीपीआई ने की रेल मंत्री के इस्तीफे की मांग

Odisha Train Accident,

Odisha Train Accident/ओडिशा के

Join WhatsApp Group Join Now

 में दो यात्री ट्रेन और एक मालगाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने से भीषण हादसा हो गया। यह हादसा शुक्रवार (2 जून) शाम करीब 7 बजे बालासोर के बहानगा रेलवे स्टेशन के पास हुआ। ओडिशा के मुख्य सचिव प्रदीप जेना ने शनिवार सुबह जानकारी दी कि दुर्घटना में 238 लोगों की मृत्यु हुई है और 900 लोग घायल हुए हैं।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव शनिवार को ट्रेन दुर्घटनास्थल पर पहुंचे। वहीं, अब इस भयंकर रेल दुर्घटना के बाद राजनीतिक बयानबाजी शुरु हो चुकी है और रेल मंत्री से इसके लिए इस्तीफा मांगा जा रहा है।

ट्रेन हादसा सामने आने के बाद तमाम राजनीतिक दल और राजनेता जहां एक तरफ हादसे पर दुख जता रहे हैं तो वहीं रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव के इस्तीफे की भी मांग की जा रही है। पश्चिम बंगाल में सत्तासीन तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने रेल मंत्री का इस्तीफा मांगा है। सीपीआई सांसद बिनोय विश्वम ने भी कहा कि इस हादसे की ज़िम्मेदारी लेते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए।Odisha Train Accident-

पीटीआई के मुताबिक, टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार इस तरह के ट्रेन हादसों को रोकने के लिए आधुनिक उपकरण लगाने के बजाए विपक्षी नेताओं की जासूसी करने के लिए सॉफ्टवेयर पर करोड़ों रुपये खर्च कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व वाली सरकार सिर्फ ढींगे हांकती है।टीएमसी नेता ने कहा, “केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार जनता को गुमराह करके और राजनीतिक समर्थन हासिल करने के लिए वंदे भारत और नए बने स्टेशनों की ढींगें हांक रही है लेकिन सुरक्षा उपायों के लिए कुछ नहीं कर रही।”

उन्होंने आगे कहा, “मेरा दिल उन परिवारों के साथ है जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है। घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हैं और अगर अंतरात्मा की आवाज बाकी है तो रेल मंत्री को अब इस्तीफा दे देना चाहिए।”

वहीं, दूसरी ओर सीपीआई सांसद ने सरकार पर सिर्फ लग्जरी ट्रेनों पर ध्यान देने का आरोप लगाया है सांसद बिनोय विश्वम ने कहा, “सरकार का फोकस सिर्फ लग्जरी ट्रेनों पर है। आम लोगों की रेलगाड़ियों और पटरियों की उपेक्षा की जाती है, ओडिशा में मौतें उसी का परिणाम हैं।”

उन्होंने कहा कि रेल मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। वहीं, कांग्रेस सांसद मणिकम टैगोर ने भी इस हादसे को लेकर ट्वीट किया है। हालांकि सांसद ने सीधे तौर पर रेल मंत्री के इस्तीफे की मांग तो नहीं की है लेकिन ट्वीट के जरिए एक पुराना वाकया शेयर करते हुए मणिकम टैगोर ने लिखा कि हमारे भारत मे ऐसे नेता रहे हैं जो जिम्मेदारी लेते थे।Odisha Train Accident-

वहीं, बीजेपी ने टीएमसी पर इस दुखद हादसे का राजनीकरण करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है। पश्चिम बंगाल में बीजेपी के प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा, “ममता बनर्जी जब रेल मंत्री थीं तब भी रेल हादसे हुए थे क्या उन्होंने इस्तीफा दिया था? जवाब न है, टीएमसी को इस दुखद हादसे पर राजनीति नहीं करनी चाहिए।”

इस बीच,केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शनिवार को बालासोर में हुई ट्रेन दुर्घटनास्थल पर पहुंचकर स्थिति का जायज़ा लिया। उन्होंने कहा, “यह बहुत बड़ी दुर्घटना है। सभी दिवंगत आत्माओं के लिए हम प्रार्थना करते हैं। कल रात से रेलवे की टीम, NDRF, OSDRF बचाव कार्य में जुटी है। जिनके परिवार के सदस्यों की इस हादसे में मृत्यु हो गई, उनके प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। सरकार उन्हें हर संभव मदद करेगी। रेलवे ने कल ही मुआवजे का ऐलान कर दिया था, जांच कमेटी का भी गठन किया गया है।”Odisha Train Accident-

वैष्णव ने कहा कि एक विस्तृत उच्च स्तरीय जांच की जाएगी और रेल सुरक्षा आयुक्त भी एक स्वतंत्र जांच करेंगे। उन्होंने कहा, “हमारा ध्यान बचाव और राहत कार्यों पर है। जिला प्रशासन से मंजूरी मिलने के बाद बहाली शुरू होगी।”

केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मृतकों के परिजन के लिए 10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों के लिए दो लाख रुपये और मामूली रूप से घायलों के लिए 50 हजार रुपये की अनुग्रह राशि की घोषणा की थी। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक दुर्घटनास्थल पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने मौके पर मौजूद अधिकारियों और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात कर स्थिति का जायज़ा लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने भी स्थिति का जायजा लेने के लिए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात की।Odisha Train Accident-

हादसा कोरोमंडल एक्सप्रेस और बेंगलुरु-हावड़ा एक्सप्रेस ट्रेन के बेपटरी होने और एक मालगाड़ी के टकराने से हुआ था। रेलवे के प्रवक्ता अमिताभ शर्मा ने मीडिया को बताया कि शाम करीब 7 बजे शालीमार-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस के 10 से 12 डिब्बे बराबर वाली रेल ट्रैक पर गिर गए। कुछ देर बाद उस ट्रैक पर आ रही यशवंतपुर से हावड़ा जाने वाली ट्रेन इन डिब्बों पर चढ़ गई, जिस वजह से उसे भी 3-4 डिब्बे ट्रैक से उतर गए। ओडिशा के मुख्य सचिव प्रदीप जेना ने बताया कि NDRF और SDRF की टीमें मौके पर हैं। 600-700 रेस्क्यू फोर्स वहां पर काम कर रही हैं।

close
Share to...