पूर्व IAS ओपी चौधरी ने PSC परीक्षा की त्रुटियों को लेकर चेयरमैन टामन सिंह को लिखी चिट्ठी,कही ये बात

रायपुर। पूर्व आईएएस ओपी चौधरी ने छत्तीसगढ़ पीएससी के चेयरमैन टामन सिंह सोनवानी को पत्र लिखकर पीएससी द्वारा आयोजित होने वाली प्रतियोगी परीक्षा में हो रही त्रुटियों की ओर उनका ध्यान आकृष्ठ किया है। ओपी ने चेयरमैन से पीएससी की साख कायम रखने का आग्रह किया है। उन्होंने चेयरमैन का ध्यान इस ओर भी खींचा है कि समय पर पीएससी का परीक्षा न होने से युवाओं का बड़ा नुकसान हो रहा। चेयरमैन के नाम लिखा उनका पत्र इस प्रकार है- महोदय,

भारत के लोकतंत्र का एक बहुत बड़ा आयाम भर्ती से संबंधित संस्थायें भी हैं। भारत में लोकतंत्र की ही ताकत है,जिसके कारण किसी दूर-दराज के गांव में बैठा एक बच्चा भी बड़े प्रशासनिक ओहदे पर पहुंचने का सपना देख पाता है। आप स्वयं भी धमतरी जिले के एक गांव से निकलकर पीएससी में चयनित होकर अपना प्रशासनिक सफर प्रारंभ किये और आज इस संवैधानिक पद पर पहुंचे हैं। मैं भी रायगढ़ जिले के एक छोटे से गांव में 12वीं तक की पढ़ाई करते हुये आईएएस बनने का सपना संजोया और यह भारत के लोकतंत्र की खूबसूरती ही है,जिसने मुझे यूपीएससी के माध्यम से आईएस बनाया था। अपने जिंदगी के अनुभव के कारण यूपीएससी में मेरी अगाध श्रद्धा है और मैं यूपीएससी एवं भर्ती संबंधी अन्य संस्थाओं के प्रति बहुत सम्मान रखता हुँ।

ये संस्थायें, महज संस्थायें ही नहीं हैं,बल्कि युवाओं के आशा और विश्वास के केंद्र भी हैं। जब पीएससी जैसी संवैधानिक संस्था से जरा भी चूक होगी,तो स्वभाविक है कि युवाओं के बीच हताशा और निराशा का वातावरण निर्मित होगा;जो किसी भी प्रगतिशील राज्य और समाज की दृष्टि से खतरनाक है। कई मामले आये हैं, जिन्हें हमारे छत्तीसगढ़ के अनेक युवा भाई-बहनों ने मुझसे सामने लाने का आग्रह किया है। ऐसे कतिपय महत्त्वपूर्ण विषयों का मैं इस पत्र में जिक्र करना चाहूंगा:-

1. विभिन्न स्रोतों के अनुसार असिस्टेंट प्रोफेसर की भर्ती परीक्षा में अलग-अलग विषयों से कुल 105 प्रश्नों को विलोपित करने की बात आई है। अनेक अभ्यर्थियों का यह भी आरोप है कि दर्जन भर प्रामाणिक स्रोतों के रिफरेंस को भी नजरअंदाज किया गया है,नहीं तो विलोपित प्रश्नों की संख्या 200 से भी अधिक हो सकती थी। इस तरह की कार्यप्रणाली न्यायालय में याचिकाओं की स्थिति निर्मित कर सकती है और भर्ती प्रक्रिया में अनावश्यक विलम्ब हो सकता है।

2. इसी तरह सहायक संचालक-कृषि की परीक्षा में 150 में से 14 प्रश्नों को विलोपित किये जाने की जरूरत पड़ी।

3. अनेक मामलों में अभ्यर्थियों ने पीएससी द्वारा गठित कुछ विशेषज्ञ समितियों द्वारा अड़ियल रवैया अपनाने का भी आरोप लगाया है। दावा-आपत्ति के बाद भी मॉडल उत्तर में सुधार नहीं करने की स्थिति निर्मित हो रही है। 26 दिसंबर 2020 को स्वयं छत्तीसगढ़ पीएससी द्वारा ही एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की गयी थी,जिससे स्पष्ट होता है कि 9 फरवरी 2020 को प्री-2019 की परीक्षा आयोजित हुई। दावा-आपत्ति के बाद संशोधित मॉडल आंसर 29 मई 2020 को जारी किया गया। दावा-आपत्ति में अनेक युवा भाई-बहनों के तर्कों को नजरअंदाज किया गया,तभी वे उच्च न्यायालय की शरण में जाने को बाध्य हुये। उदयन एवं अन्य बनाम छत्तीसगढ़ शासन का केस चला। युवाओं का तर्क सही था,तभी उच्च न्यायालय में उनकी जीत हुई और फिर से 5 सदस्यीय समिति पीएससी को गठित करनी पड़ी। विशेषज्ञ समिति ने भी कई प्रश्नों में युवाओं के तर्क को सही पाया और इसी कारण प्रश्न क्रमांक SET-A-2, SET-B-88, SET-C-63, SET-D-42 को विलोपित कर नया मॉडल आंसर जारी करना पड़ा और अब 1 साल बीतने को है, पीएससी 2019 की मुख्य परीक्षा ही आयोजित नहीं हो पाई है। अभी तक तो डेट की भी घोषणा नहीं हुई है।

4. किसी भी परीक्षा के किसी प्रश्न-पत्र में न्यूनतम मानवीय भूल तो हो सकती है। लेकिन असिस्टेंट प्रोफेसर की परीक्षा में पूछा गया था कि तातापानी कहां हैं? मॉडल उत्तर में सूरजपुर लिया गया था। जबकि छत्तीसगढ़ के बच्चे बच्चे को पता है कि तातापानी तो बलरामपुर जिले में है। इस स्तर की बड़ी गलतियां कदापि स्वीकार्य नहीं हो सकती। ऐसे बड़ी गलती करने वाले तथाकथित विशेषज्ञ का नाम सार्वजनिक किया जाना चाहिये और ऐसे तथाकथित विशेषज्ञ को आजीवन ब्लैक लिस्टेड किया जाना चाहिये था।

5. यूपीएससी हर साल विभिन्न परीक्षाओं का कैलेंडर पहले ही जारी कर देती है। इसी तर्ज पर उत्तर प्रदेश,मध्य प्रदेश जैसे अन्य राज्यों के लोक सेवा आयोगों ने भी अपने-अपने कैलेंडर जारी कर दिये हैं। लेकिन हमारे छत्तीसगढ़ के पीएससी ने कोई कैलेंडर ही जारी नहीं किया है। प्रीलिम्स में पास हुए बच्चे अभी मेन्स की तैयारी में लगे हुये हैं। मेन्स की तारीख का अभी तक अता-पता नहीं है और आज मैंने सुना कि प्रीलिम्स-2020 की तारीख घोषित हो गई है। आप भी पीएससी की परीक्षा दिये हैं। आप खुद इस विडंबना को समझ सकते हैं कि बच्चा प्रीलिम्स की तैयारी करे या मेन्स की? मेरे कहने का मतलब है कि मेन्स-2019 पहले ही हो जाना चाहिये था। कैलेंडर फिक्स नहीं रहने से केंद्र और राज्यों की अनेक परीक्षाओं के साथ डेट क्लैस भी होता है। कैलेंडर फिक्स रहने की स्थिति में अभ्यर्थी अपने परीक्षाओं का चयन पहले से ही कर सकते हैं।

6. वन विभाग से संबंधित ACF और रेंजर के 178 पदों के विज्ञापन में परीक्षाओं का अता-पता ही नहीं है। कैलेंडर नहीं होने के कारण ही यह सब स्थितियां निर्मित हो रही हैं।

7. अनेक मामलों में छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग द्वारा RTI के अंतर्गत सूचना प्रदान न करने की स्थिति भी निर्मित होती रही है। अनेक सूचनाओं के लिए राज्य सूचना आयोग तक अभ्यर्थियों को जाना पड़ता है। इससे अनेक संदेह की परिस्थितियाँ निर्मित होती हैं।

इस तरह के बिंदुओं के सामने आने से युवाओं के मन में निराशा आती है। प्रश्न भले ही विलोपित कर दिये जाते हैं,लेकिन विलोपित किये गये गलत प्रश्नों के पीछे परीक्षा हॉल में किस अभ्यर्थी का कितना समय नुकसान हुआ,इसकी गणना कोई नहीं कर सकता ।

कई भर्ती परीक्षायें जब एक बार पूरी हो जाती हैं, तभी शेष बचे वैकेंसी के लिये दूसरी परीक्षा आयोजित होती है। पहली भर्ती परीक्षा में विलम्ब होने से रिक्त पदों के लिए कई युवा अपना अवसर, उम्र बढ़ जाने के कारण खो देते हैं ।

यह पत्र किसी भी प्रकार के राजनैतिक आरोप-प्रत्यारोप की दृष्टि से मै नहीं लिख रहा हूं। सरकार किसी भी पार्टी की रहे,भर्ती सदैव सटीक ढंग से चलनी चाहिये। मेरे सीमित अनुभवों के आधार पर कुछ सुझावात्मक बिन्दुओं का जिक्र करना चाहुँगा:-

1. सबसे पहले किसी भी हालत में 2014 से चले आ रहे इस श्रेष्ठ परिपाटी को बरकरार रखा जाये कि प्रत्येक संविधान दिवस अर्थात् 26 नवम्बर को पीएससी का विज्ञापन जारी हो जाये। और अगले प्रीलिम्स से पूर्व किसी भी स्थिति में पहले साल की परीक्षा पूर्ण कर ली जाये।

2. 26 नवम्बर को ही आने वाले वर्ष के लिये पूरे साल का कैलेण्डर जारी कर दिया जाये।

3. मानक पुस्तकों और प्रामाणिक शासकीय दस्तावेजों पर आधारित आंकड़ों को प्रश्रय देने की संस्कृति का विकास किया जाये।

4. किसी भी भर्ती परीक्षा के पूर्व,स्तरीय प्रश्न तैयार कराके उनके विकल्पों को परीक्षा पूर्व ही विशेषज्ञों से जाँच करा लिया जाये। ताकि गलतियों की आशंकायें और मानवीय भूल न्यूनतम हो जायें।

5. देश और दुनिया में चल रहे उच्चतम श्रेणी के विशेषज्ञता युक्त कौशल को पीएससी के साथ जोड़ा जाये। ताकि ‘‘तातापानी’’ जैसी हास्यास्पद स्थितियाँ उत्पन्न न हों।

6. पारदर्शिता की दृष्टि से उत्तर पुस्तिकाओं की कार्बन कापी प्रदान करना प्रारंभ किया जाये।

7. सूचना प्रदान करने में पीएससी द्वारा उदासीनता न बरती जाये।

8. आयोग में एक तो त्रुटियाँ कम हों और यदि हों तो आयोग के विशेषज्ञ हठधर्मिता के बजाय संवेदनशीलता से तत्काल निराकरण करें। इससे अभ्यर्थियों को न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी और अनावश्यक विलम्ब से बचा जा सकेगा।

9. सबजेक्टिव पेपरों में भी जाँच के लिये मानक निर्धारित करके वस्तुनिष्ठता और समानता लायी जाये। और पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाया जाये।

10. मेरी जानकारी के अनुसार अभी हमारे छत्तीसगढ़ में 16 परीक्षा केन्द्र हैं। प्रत्येक जिले में एक अर्थात् 28 परीक्षा केन्द्र की तत्काल घोषणा की जाये। कम से कम प्रीलिम्स परीक्षा की दृष्टि से तो 28 केन्द्र होने ही चाहिये।
मुझे पूरा भरोसा है कि आप इस विषय को पूरी गंभीरता और संवेदनशीलता से लेंगे। छत्तीसगढ़ के युवा भाई-बहनों के दर्द को समझेंगे। तत्काल अपने महत्त्वपूर्ण संवैधानिक पद की शक्तियों का प्रयोग
करते हुये बड़े निर्णय करेंगे। इससे न केवल हमारे छत्तीसगढ़ के युवाओं के बीच हताशा और निराशा फैलने से रूकेगा बल्कि पीएससी जैसी संवैधानिक संस्था के प्रति आशा और विश्वास भी बढ़ेगा।

आज मैंने छत्तीसगढ़ के युवा भाई-बहनों की दृष्टि से छत्तीसगढ़ पीएससी के चैयरमैन जी को एक पत्र लिखा है…पहले पोस्ट में पेज कट रहा था,इसलिये मैंने दुबारा पोस्ट किया है।

Posted by OP Choudhary on Saturday, 23 January 2021

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *