जीपीएम deo के खिलाफ पुराने मामले में जांच का आदेश..भर्ती..सामान खरीदी में भ्रष्टाचार का आरोप..अधिकारी ने कहा..जांच टीम का इंतजार

बिलासपुर– शिक्षा संयुक्त कार्यालय प्रमुख ने जीपीएम जिला शिक्षा अधिकारी के खिलाफ भर्ती और सामान खरीदी मामले में जांच का आदेश दिया है। जिला शिक्षा अधिकारी बिलासपुर को भेजे गए पत्र में कहा गया है तात्कालीन सहायक परियोजना अधिकारी मनोज राय के कार्यकाल के दौरान गुणवत्ताहीन सामानों की खरीदी बिक्री को लेकर शिकायत है। साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी प्रभारी रहने के दौरान शिक्षकों के स्थानान्तरण और नियुक्ति में भी धांधली की बात सामने आ रही है। मामले में जल्द से जल्द जांच कर रिपोर्ट पेश किया जाए।

                  संयुक्त संचालक हीराधर ने जीपीएम जिला शिक्षा अधिकारी के खिलाफ जांच का आदेश दिया है। आदेश में बताया गया है कि जीपीएम के वर्तमान जिला शिक्षा अधिकारी मनोज राय साल 2016-17 में सहायक परियोजना अधिकारी के पद पर बिलासपुर में सेवा दिए हैं। आरोप है कि इस दौरान उन्होने स्तरहीन सामान, कुर्सी, टेल, पुस्तकें समेत अन्य सामानों की खरीदी आदेश दिया है। जाहिर सी बात है कि इसमें जमकर भ्रष्टाचार हुआ है। 

             इसके अलावा साल 2017-18 में मनोज राय ने प्रभारी जिला शिक्षा अधिकारी की जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है। इस दौरान उन्होने शिक्षकों के स्थानान्तरण और सम्बद्धता को लेकर जमकर भ्रष्टचार किया है। निर्धारित बिन्दुओं के आधार पर जांच के बाद रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है।

   शिकायत के बाद टीम का गठन  

                  संयुक्त संचालक हीराधर ने बताया कि आरोप गंभीर है। इसलिए जांच का आदेश दिया है। जो भी तथ्य सामने आएगा उसके अनुसार उचित कार्रवाई होगी। 

सारी जांच एक साथ करवाने को तैयार

                जीपीएम जिला शिक्षा अधिकारी मनोज राय ने बताया कि दो दिन पहले ही एक जांच पूरी हुई है। लगाए गए आरोपों के खिलाफ दस्तावेज भी सौपा है। अब नया मामले सामने आ रहा है। इसका भी सामना करूंगा। बेहतर होगा कि टीम को मेरे बारे मे समग्र जांच का आदेश दिया जाए। इससे ना तो जांच टीम को परेशानी होगी। और ना ही किसी की समयक की बरबादी होगी। जांच टीम का सामना करने को पूरी तरह से तैयार हूं।      

Tags:, ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *