संसदीय सचिव ने जिला जेल का किया निरीक्षण,अपराध से घृण करे अपराधियों से नहीं-महाराज

रामानुजगंज(पृथ्वीलाल केशरी)सदीय सचिव लोक निर्माण,गृह,जेल,धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व,पर्यटन विभाग के संसदीय सचिव एवं सामरी विधायक चिंतामणि महाराज ने जिला जेल रामानुजगंज का निरीक्षण कर वस्तुस्थिति का जायजा लिया। उन्होंने जिला जेल रामानुजगंज में कलेक्टर श्याम धावड़े,पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू व जेल अधीक्षक के साथ परिसर का भ्रमण कर अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने जेल के सभी बैरकांे, स्नान घर, पाकशाला तथा भंडार कक्ष का अवलोकन किया और अनुशासन एवं परिसर की स्वच्छता बनाये रखने की बात कही। उन्होंने बैरकों का भ्रमण के दौरान विचाराधीन कैदियों से बात की तथा उनका कुशल क्षेम जाना। उन्होंने कैदियों से चर्चा के दौरान पूछा कि कोई ऐसा कैदी तो नहीं है जिनकी जमानत हो चुकी है किंतु जमानतदार ना होने की वजह से बाहर नहीं आ पा रहे हैं।

उन्होंने कैदियों की बातें बड़ी आत्मीयता के साथ सुनी तथा यथासंभव उसका निराकरण करने की बात कही। साथ ही जेल में भोजन के साथ उन्हें दिए जाने वाले अन्य सुविधाओं की गुणवत्ता की भी जानकारी ली। उन्होंने जेल अधीक्षक से जेल की मूलभूत व सुरक्षा संबंधी जानकारी ली। जेल अधीक्षक जीएस मरकाम ने उन्हें बताया कि जेल में वर्तमान में 417 विचाराधीन कैदी है तथा वर्तमान में कोई भी कैदी कोरोना संक्रमित नहीं है। एहतियात के तौर पर नये आने वाले कैदियों के लिए एक अलग बैरक तैयार किया गया है जिसमें उन्हें 10-15 दिन रखकर कोरोना जांच के उपरांत ही अन्य बैरकों में शिफ्ट किया जाता है ताकि संक्रमित होने पर उनका इलाज किया जा सके और अन्य कैदियों को भी संक्रमित होने से बचाया जा सके।

संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज ने जेल अधीक्षक तथा वहां कार्यरत सुरक्षाकर्मियों से चर्चा के दौरान कहा कि “घृणा अपराध से है, कैदियों/अपराधियों से नहीं” इसी भावना से कैदियों के साथ व्यवहार किया जाये। विधि में विचाराधीन कैदियों के लिए भी नियम निर्धारित किए गए हैं उनका पालन किया जाना चाहिए। इसके पश्चात उन्होंने रसोई घर का निरीक्षण किया तथा कैदियों को दिए जाने वाले भोजन की मेन्यू, गुणवत्ता तथा भोजन के समय के बारे में जानकारी ली और अधिकारियों को भोजन में पोषकता का विशेष ध्यान रखने को कहा। उन्होंने जेल में पदस्थ फार्मासिस्ट से कैदियों के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली तथा बीमार होने पर उन्हें किस प्रकार स्वास्थ्य सुविधाएं मिलती है इस बारे में पूछा। इसके पश्चात उन्होंने जेल अधीक्षक के कमरे में लगे सीसीटीव्ही से परिसर की गतिविधियों का अवलोकन किया तथा कैमरों के माध्यम से सतत् निगरानी करने के निर्देश दिये। उन्होंने जेल में पदस्थ सुरक्षाकर्मियों की हौसला अफजाई की तथा उनके कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि वे भी अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें एवं पर्याप्त सुरक्षा मानकों का उपयोग करते हुए कार्य करें। उन्होंने जेल अधीक्षक को जेल मैन्युअल के अनुसार कार्य करते हुए व्यवस्था बनाये रखने के निर्देश दिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *