मेरा बिलासपुर

PDS चावल घोटाला..दुकान संचालक सस्पेन्ड..पालिका अध्यक्ष पर कार्रवाई की मांग..कांग्रेसियों ने बनाया दबाव

बिलासपुर—-रतनपुर पालिका के कमरे और बाथरूम में 72 बोरी पीडीएस का चावल बरामद कर जांच के बाद राशन दुकान संचालक को सस्पेन्ड कर दिया गया है। कांग्रेसियों ने जिला प्रशासन और पुलिस पर नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है। कांग्रेस नेता विजय केशरवानी ने बताया कि एक ही अपराध के लिए दो अलग अलग निर्णय नहीं हो सकता है। इसलिए नगर पालिका अध्यक्ष पर भी कार्रवाई की जाए। कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी और रतनपुर नपा के 7  पार्षद ने कलेक्टर   सारांश मित्तर  से मिल कार्रवाई की मांग की थी,—सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप NEWS ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये
 
           जानकारी हो कि कोरोना काल में पिछले दिनों लाक डाउन के दौरान अन्य स्थानों की तरह रतनपुर नगर पालिका की तरफ से भी राशन बांटने का अभियान चलाया गया। इसी दौरान कांग्रेसियों की शिकायत के बाद जिला कमेटी अध्यक्ष विजय केशरवानी ने नगर पालिका अध्यक्ष के चैम्बर और बाथरूम में 72 बोरी पीडीएस चावल को बरामद किया। 
 
अध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई की मांग..दुकान संचालक सस्पेन्ड
 
      जिला कांग्रेस अध्यक्ष को बताया गया कि पीडीएस चावल का वितरण पार्षद निधि से किया जा रहा है। मामले में धमा चौकड़ी के बाद एसडीएम कोटा ने एक टीम का गठन कर जांच का आदेश दिया। जांच पड़ताल के बाद खाद्य विभाग ने नगर पालिका अध्यक्ष  के दफ्तर से 72 बोरी पीडीएस  चावल पाए जाने के आरोप में राशन दुकान संचालक को संस्पेन्ड कर दिया। अब कांग्रेसियों ने दबाव बनाया है कि मामले में मुख्य आरोपी नगर पालिका  अध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई की जाए। 
 
                 रतनपुर नगर पालिका अध्यक्ष के खिलाफ कारवाई  की मांग करते हुए जिला कांग्रेस के अध्यक्ष  विजय केशरवानी ने कलेक्टर को दी है। इस दौरान रतनपुर नगरपालिका के 6 कांग्रेस  और भाजपा का एक पार्षद भी मौजूद था। 
 
भा्जपा नेता पर धांधली का आरोप
 
               जिला कांग्रेस कमेटी ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी ने आरोप लगाया है कि भाजपा नेताओ के इशारे पर राशन दुकानदार पिछले 15 साल से पीडीएस के राशन में धांधली करते आ रहे हैं। सत्ता परिवर्तन के बाद भी भाजपा समर्थित राशन दुकानदार  गड़बड़ी करने से बाज नही आ  रहे है ।
                               कांग्रेस अध्यक्ष  के साथ रतनपुर नगरपालिका पार्षद रमेश सूर्य,संजय कोसले,बिरिज मरावी,पार्वती संतोष कुम्हार, खुशाल अनुरागी और नीतू सिंह ने कलेक्टर से मिलकर बताया कि लॉक डाउन में मुख्यमंत्री की महत्वाकांक्षी योजना को नगर पालिका अध्यक्ष समेत समर्थकों ने पलीता लगाया है।
 
 बोरी पर लिखा लाट नम्बर
 
                        केशरवानी ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर लाकडाउन के दौरान बिना राशन कार्ड धारियों को पार्षद निधि से राशन दिए जाने की शुरुआत हुई। प्रदेश समेत बिलासपुर जिले में भी अभियान चलाया गया। योजना का लाभ गरीब परिवारों को मिल रहा है। लेकिन रतनपुर में भाजपा नेता और नगर पालिका  अध्यक्ष अभियान में जमकर धांधली की है। पीडीएस का चावल दफ्तर और बाथरूम में बड़ी मात्रा में रखा। चावल आनन्द मिल कोटा लाट नम्बर  (3223 ) लिखा है।
 
      जाहिर सी बात है कि पीडीएस का चावल नागरिक आपूर्ति निगम  राशन दुकान से नगर पालिका अध्यक्ष के कमरे तक पहुंचा। इसी बीच जानकारी पार्षदों को जानकारी मिली कि पार्षद निधि के बदले पीड़ीएस चावल का वितरण किया जा रहा है। जबकि रतनपुर नगर पालिका ने चावल प्रदाय करने टेंडर निकाला था। वर्क आर्डर भी जारी किया। लेकिन नगर पालिका अध्यक्ष भाजपा नेता घनश्याम रात्रे ने सरकारी चावल की अवैध खरीदी कर योजना में जमकर धांधली की है। केशरवानी ने कहा कि यह गम्भीर अपराध की श्रेणी में आता है।
 
चावल स्रोत की जांच की जाए
 
            एसडीएम कोटा और खाद्य विभाग मामले की जांच कर रहा है । सरकारी चावल की इस तरह की सुनियोजित गड़बड़ी किये जाने का मामला सामने आने के बाद जिले के  नगरीय निकायों में पार्षद निधि से गरीबों के लिए मंजूर किये गए राशन पर प्रश्न लग रहा है। ऐसा मालूम  पड़ता  है कि  भाजपा समर्थित राशन दुकान दरों से मिली भगत कर सरकारी चावल को रिसाइकल करके गरीबो को दिया गया है। मामले पर  कलेक्टर से प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि  खाद्य विभाग के अधिकारियों को निर्देशित कर  पार्षद निधि से खरीदे गए चावल का स्रोत की जांच की जाए। किसी भी तरह की गड़बड़ी  पाई जाती है तो दोषियों के खिलाफ कड़ी  कार्रवाई की जाए । 
 
जांच का आश्वासन
 
                    प्रतिनिधि  मंडल ने कलेक्टर को बताया कि शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में स्टॉक की मात्रा कम मिली है। पता चला है कि नगरीय निकायों ने राशन दुकानों से चावल लिया। ताजा उदाहरण रतनपुर नगरपालिका है। इसमें भाजपा से जुड़े दुकान संचालको की भूमिका संदिग्ध है । इसके पहले भी लोकसभा चुनाव दौरान इन्ही लोगो ने गरीब जनता को राशन का नमक और चावल न देकर कांग्रेस पार्टी को नुकसान पहुंचाया है। वही घटनाक्रम की जानकारी के बाद कलेक्टर सारांश मित्तर ने प्रतिनिधिमंडल को आश्रासन किया कि मामले में निष्पक्ष जांच करेंगे। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी करेंगे।

जंंतर मंतर में बैंकरों का शक्ति प्रदर्शन..महाधरना को सांंसद ने किया समर्थन..कहा..मानना होगा 10 सूत्रीय मांग
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS