PHOTO:बिलासपुर- कटघोरा रोड:डामर गायब..चलना मुश्किल ..लेकिन मुंह फेर लिया सरकार ने..

बिलासपुर।बिलासपुर से कटघोरा की रोड अब आफ रोड एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए सबसे उपयुक्त सड़क बन गई है। छत्तीसगढ़ की यह महत्वपूर्ण सड़क  चंद्रमा की सतह जैसी दिखाई देती है। सबसे चौकाने वाली बात यह है कि इस सड़क से डामर गायब होते जा रहा है। इस मार्ग के पुल पुलिया की हालत भी बद्द से बत्तर है।बीते कुछ बरसों से राज्य सरकार ने इस सड़क से मुंह फेर लिया है।राष्ट्रीय राजमार्ग की यह सड़क केंद्र और राज्य सरकार के बीच चल रही रस्सा कस्सी का सबसे बड़ा उदाहरण है।सीजीवालडॉटकॉम के व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए

 इस मार्ग के पुराने वाहन चालक कहते है ऐसी सड़क तो हमने 25 साल पहले भी नही देखी है। नई सड़क बनती है तो उसके लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाती है पर यहाँ तो अंधेर चल रहा है।

बिलासपुर से कटघोरा की सड़क के हालात देखकर लगता है कि हाल फिलहाल में इस सड़क में कोई प्राकृतिक आपदा आई हुई थी । प्राकृतिक आपदा मंत्री के जिले में वैसे भी सड़को के मामले में आपदा भरी हुई है। चाहे कटघोरा से कोरबा की सड़क हो या कटघोरा से बिलासपुर या फिर बिलासपुर से सीपत बालोदा कोरबा की सकरी घुमावदार सड़क …आपदा ही आपदा है।

 कटघोर से  पाली, बेलतरा, तक छः इंच से डेढ़ फुट तक के इतने खड्डे की गिनती नही की जा सकती है, और इस सड़क के सौ से अधिक ऐसे पॉइंट जिसमे वाहन चालक अनुभव काम नही किया तो दुर्घटना घट जाती है। इस मार्ग में…कार के गेयर बॉक्स का चेम्बर  या किसी पुर्जे का टकराना आम बात है। 

 बसों के पीछे की बॉडी इन उबड़ खाबड़ रास्ते मे कई बार टकराती है। इस मार्ग की किसी भी लग्जरी बस के पीछे का हिस्सा देखिए तो….  आपदा मंत्री के जिले की  सड़को की आपदा के निशान दिखाई देँगे। कई बस मालिको ने इस सड़क पर अपनी गाड़ियां चलाना बन्द कर दी है या कम कर दी है। इस मार्ग में सबसे ज्यादा तकलीफ दो पहिया वाहन चालको को होती है। आटो और अन्य साधनों की हालत तो और खराब है।

कटघोरा से बिलासपुर मार्ग  सबसे ज्यादा हालात कोरबा जिले की सीमा में ही है। कटघोरा से पाली  और बगदेवा तक कोई अगर सड़क खड्डे गिन ले तो यह भी गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड बन सकता है।कटघोरा नगर का बिलासपुर रोड कोयला खदान की ओपन माइंस की सड़क से  कम नही है। बगदेवा से सेंदरी  तक फोर लेन का निर्माण कार्य चालू है। बगदेवा से बेलतरा तक कई जगहों पर पेच रिपेयरिंग हुई है। 

बारिश का मौसम में इस सड़क की वजह से यहाँ के लोगो ने जो जुल्म और सितम सहा है।जिसका दर्द यहाँ के लोग और इस मार्ग के नियमित यात्री बयां नही कर सकते है। एक पुलिया की वजह से पाली  बिलासपुर और कटघोरा के संपर्क से कटा रहा।  15 से 20  दिनों तक इस मार्ग में बसे और दूसरे वाहन सीपत बालोदा कोरबा अम्बिकापुर होकर आना जाना किये है। 

पाली कटघोरा में कई बार सड़क के मुद्दे पर चक्का जाम हो चुका है। प्रशासन की समझाई के बाद लोग शांत हो गए है।वोटर.. मोटर में रोजाना इन खस्ता हाल सड़को का उपयोग कर रहा है। रतनपुर, पाली, कटघोरा, कोरबा सहित सरगुजा के निकायों में यह सड़क तो जनता के लिए चुनावी मुद्दा बनने लगा है निकाय और आगामी पंचायत चुनाव में इसका असर दिखाई दे सकता है।

पाली के स्थानीय निवासी कहते है कि मंत्री विधायक तो बिलासपुर से सीपत बालोदा कोरबा घूम कर आना जाना करते है उन्हें सड़क की यात्रा का दर्द नही समझ आता है। यह सड़क 24 घन्टे व्यस्त रहती है। इसी सड़क पर पाली से बिलासपुर और पाली से कटघोरा कोरबा कई लोग रोजना आना जाना करते है।

इसी बिलासपुर और कटघोरा के बीच कई स्कूल है। स्कूली बच्चे आना जाना करते है। उसके बाद भी जनप्रतिनिधियों ने ध्यान नही दिया यहाँ जनता इस सड़क के हाल से पस्त हो गई है। 

आखिर क्या कारण है कि सड़को में मामले में अव्वल रहने वाले केंद्रीय सड़क मंत्री नितिन गडकरी का तंत्र छत्तीसगढ़  राज्य सरकार से साथ तालमेल नहीं बिठा पा रहा है। 

बताते चले कि हाल ही में 30 करोड़ रुपये राज्य सरकार ने बिलासपुर से कोरबा की सड़क के मरमत और नवीनीकरण के लिए स्वीकृत किये है..! पर यह बिलासपुर कटघोरा कोरबा मार्ग के लिए या फिर बिलासपुर-सीपत-बालोदा-  कोरबा के लिए है यह जानकारी सार्वजनिक नही है। सरकार की घोषणा के बाद इसके बजट आबंटन… निर्माण कार्य के टेन्डर ….और  निर्माण का कार्य आदेश…. आने के बाद इसके ठेकेदार द्वारा काम कब शुरू…. किया जायेगा यह राम जी जाने बरहाल  जस के तस हालात में  इस मार्ग का उपयोग करने वाले बेहद चुनौती के  दौर से गुजर रहे है।

Comments

  1. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *