Pitru Paksha Rules: पितृपक्ष में इन चीजों का खाना है वर्जित, पितर देव हो जाते हैं नाराज

Shri Mi
2 Min Read

Pitru Paksha Rules/हिंदू पंचांग के अनुसार, श्राद्ध का महीना चल रहा है। इन दिनों पितरों को प्रसन्न करने के लिए दान-पुण्य, श्राद्ध, तर्पण और पिंडदान किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि इन दिनों पितरों को तर्पण करने से पितृदोष का आशीर्वाद मिलता है।

इसके साथ ही उनकी कृपा हमेशा बनी रहती है। आज आपको इस खबर में कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताने वाले हैं, जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। तो आइए इस खबर में जानते हैं पितृपक्ष के महत्वों के बारे में।Pitru Paksha Rules

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पितृ देव को प्रसन्न करने के लिए इन दिनों तर्पण और पूजन किया जाता है। कहा जाता है इस माह में पितृ दोष से बचने के लिए भी उपाय किए जाते हैं। पितृपक्ष का समय 16 दिनों तक का होता है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पितृपक्ष में ब्राह्मणों को भोजन व अन्य प्रकार की चीजें दान करने से पितृ देव प्रसन्न होते हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पितृपक्ष में कुछ ऐसी चीजें होती हैं, जिन्हें हमें भूलकर भी सेवन करना वर्जित होता है।

तिष शास्त्र के अनुसार, पितृपक्ष के दौरान तामसिक भोजन भूलकर नहीं करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि तामसिक भोजन करने से पितृ देव नाराज हो जाते हैं।Pitru Paksha Rules

मान्यता है कि इन दिनों चने या इससे बने सत्तू या सत्तू से बनी कोई भी मिठाई का सेवन नहीं करना चाहिए, जो जातक इन चीजों का सेवन करते हैं, उन पर पितरों का आशीर्वाद हट जाता है। पितर देव नाराज हो जाते हैं।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, पितृपक्ष के दौरान मसूर की दाल और कोदा का सेवन बिल्कुल वर्जित होता है।Pitru Paksha Rules

Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं।cgwallइनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें।

close