घूमने के लिए कर रहे पहाड़ों का रुख तो जान लें इस राज्य के नये नियम, साथ रखें ये डॉक्युमेंट्स..नहीं तो ‘नो एंट्री’

कोरोना महामारी के कारण एक लंबे समय से लोग लॉकडाउन जैसी पाबंदिया झेलते आ रहे हैं. ऐसे में जब कोरोना की कम होती रफ्तार के बीच केंद्र और राज्य की सरकारों ने ढील दी है तो लोग टूर पर निकल रहे हैं. छुट्टियां मनाने के लिए पहाड़ों और हसीं वादियों से बेहतर जगह और भला क्या हो सकती है! बड़ी संख्या में लोग पहाड़ों का रुख कर कर रहे हैं.उत्तराखंड में हर दिन भारी संख्या में पर्यटक पहुंच रहे हैं. प्रदेश के कई पर्यटन स्थलों पर कोरोना नियमों की अनदेखी सामने आ रही है, जिसको देखते हुए उत्तराखंड प्रसाशन ने बड़ा फैसला लिया है. अब राज्य में वीकेंड पर आए बाहरी पर्यटक को बिना आरटी-पीसीआर (RT-PCR) निगेटिव रिपोर्ट के प्रवेश नहीं मिलेगा. हाल ही में पीएम मोदी ने भी इसे लेकर चिंता जाहिर की और लोगों से नियमों का पालन करने की अपील की थी.

बिना डॉक्युमेंट राज्य में नो एंट्री

देश के विभिन्न राज्यों से उत्तराखंड के मसूरी, नैनीताल और टिहरी के अलावा अन्य स्थलों पर पर्यटकों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन चौकन्ना हो गया है. पुलिस की ओर से कोरोना से बचाव के लिए खास एहतियात बरते जा रहे हैं. राज्य में प्रवेश के लिए हर पर्यटक को कोरोना नियमों का शत-प्रतिशत पालन करना होगा. बिना डॉक्युमेंट के किसी व्यक्ति को राज्य में एंट्री नहीं दी जाएगी.

पुलिसकर्मियों को ​अभियान चलाने का निर्देश

पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने जनपद प्रभारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से अभियान चलाने के निर्देश दिए हें. राज्य में पर्यटक स्थलों में बढ़ रही पर्यटकों की संख्या और कोरोना के संभावित खतरे को देखते हुए पर्यटक स्थलों पर सुरक्षा के चाक चौबंद व्यवस्था बनाने को कहा गया है. उन्होंने पुलिस को प्रभावी चेकिंग चलाकर लोगों की आरटी-पीसीआर रिपोर्ट, रजिस्ट्रेशन और होटल बुकिंग संबंधी दस्तावेज चेक करने को कहा है.

वीकेंड पर अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती

डीजीपी ने हरिद्वार के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया है कि हर की पैड़ी क्षेत्र में अराजकता फैलाने वालों को बिल्कुल भी बख्शा न जाए. उनके विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाए. इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिग का पालन भी सुनिश्चित करवाने को कहा है. प्रमुख पर्यटन स्थलों पर भीड़ को लेकर जनपद प्रभारियों को विशेष सतर्कता बनाए रखने समेत कई सारे निर्देश दिए गए हैं.

  • पार्किंग स्थल की क्षमता का पहले से आंकलन करना
  • दबाव बढ़ने पर डायवर्सन की व्यवस्था सुनिश्चित करना
  • पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से पर्यटकों को जागरूक करना
  • कोरोना संक्रमण के बचाव के प्रति लोगों के बीच जागरूकता फैलाना
  • सार्वजनिक स्थलों पर संक्रमण से बचाव के लिए प्रेरित करना
  • वीकेंड पर अतिरिक्त पुलिस बल नियुक्त करना

ये डॉक्युमेंट पास में होना जरूरी

अधिकारी ने बताया कि बैरियरों पर प्रभावी चेकिंग सुनिश्चित की जाएगी और केवल उन्हीं लोगों को प्रवेश करने दिया जाएगा, जिनके पास आरटी-पीसीआर टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट, स्मार्ट सिटी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन और होटल बुकिंग संबंधी दस्तावेज उपलब्ध होगा. जनपद टिहरी गढ़वाल में पर्यटन स्थलों पर पर्यटकों की 50 प्रतिशत की क्षमता के पालन किये जाने संबंधी आदेश की तरह बाकी जनपद प्रभारियों को भी जिलाधिकारी से वार्ता कर ऐसी व्यवस्था बनाने को कहा गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *