शान से मनाया गया पोला पर्व..किसानों को किया गया सम्मान..अतिथियों ने कहा..आदर्श युवा मंच के प्रयास ने..परम्परा को जीवन्त बना दिया

बिलासपुर—-प्रदेश समेत बिलासपुर में भी पोला पर्व हर्ष और उत्साह के साथ मनाया गया। जगह जगह कार्यक्रम का आयोजन कर जन और गणमान्य लोगों को सम्मानित भी किया गया। इसी क्रम में लालबहादुर शास्त्री स्कूल मैदान में भी आदर्श युवा मंच के बैनर तले पोला पर्व मनाया गया।
बैल साज-सज्जा प्रतियोगिता के विजेताओं को मुख्य और अतिथियों ने सम्मानित किया।

                                  पोला पर्व पर 6 सितम्बर सोमवार की शाम 5 बजे से स्वर्गीय श्रीचंद्र मनूजा की स्मृति में बैल सज़ा-सज्जा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। किसानों के उत्साहवर्धन के लिए लोक कला मंच मन भवरा की शानदार प्रस्तुति की गई।  कार्यक्रम में कोविड-19 का असर पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी देखने को मिला। बैल दौड़ प्रतियोगिता का आयोजन इस बार भी नहीं किया गया। पारंपरिक तौर पर बैलों की पूजा अर्चना और साज- सज्जा प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

            कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों ने बैलों की पूजा अर्चना कर  गुड़ चना और मिष्ठान खिलाया। बैल मालिकों को परंपरागत तरीके से गमछा भेंट कर सम्मानित किया। मुख्य अतिथि प्रदेश के पर्यटन मंडल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव शारीरिक अवस्था के कारण कार्यक्रम में शामिल नहीं हुे। कार्यक्रम की अध्यक्षता महापौर रामशरण यादव ने किया। विशिष्ट अतिथि अरूण सिंह चौहान अध्यक्ष जिला पंचायत, प्रमोद नायक अध्यक्ष जिला सहकारी नागरिक बैंक, अभय नारायण राय प्रदेश प्रवक्ता, अमर बजाज वरिष्ठ समाजसेवी,सुरेंद्र कश्यप, श्री रमेश दुआ, बाटू सिंह उपस्थित थे।

              प्रतियोगिता में भागीदारी निभाने वाले सभी प्रतिभागियों को अतिथियों ने पुरस्कृत करने के साथ पारंपरिक तरीके से सम्मानित गया।  अतिथियों ने बताया लुप्तप्राय हो रही हमारी परंपराओं को जीवंत रखने की जरूरत है। आदर्श युवा मंच इस काम को बेहतर तरीके से अंजाम भी दे रहा है।

              साज सज्जा प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार मुन्ना कश्यप चॉटीडीह, द्वितीय पुरस्कार नर्मदा साहू मोपका, तृतीय पुरस्कार परदेसी मरकाम लिगियाडीह को दिया गया। मंजू श्रीवास, संतोषी मंगेश्कर को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन अध्यक्ष महेश दुबे ने और आभार प्रदर्शन सचिव केशव बाजपेयी  ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में तारेंद्र उसराठे, नीरज सोनी, विष्णु हिरवानी, अरविंद त्रिपाठी, हरीश मोटवानी, अनिल गुलहरे, अमित शुक्ला, अमित दुबे, गोविंद गुप्ता, संतोष पांडे, राजू अवस्थी, संतोष अग्रवाल का सराहनीय योगदान रहा।

            

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *