TOP NEWS

Bharat Jodo Yatra: कड़ाके की सर्दी में टी शर्ट पहनने को लेकर राहुल गांधी ने किया खुलासा

Bharat Jodo Yatra: कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पार्टी की भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra) के दौरान कड़ाके की ठंड में सिर्फ एक टी-शर्ट पहने चर्चा का विषय बने हुए हैं। इस दौरान कांग्रेस के कई नेताओं ने उनकी प्रशंसा की है। वहीं कई भाजपा नेताओं ने भी दावा किया कि वह अंदर थर्मल पहनते हैं। अब कड़ाके की ठंड में सिर्फ टी-शर्ट पहनने और स्वेटर नहीं पहनने के पीछे की वजह खुद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बताई है।

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने सोमवार (9 जनवरी, 2023) को मीडिया से बात करते हुए कहा, “भारत जोड़ो यात्रा जब मध्य प्रदेश पहुंची तो मेरे पास तीन गरीब बच्चे आए, उन्हें जब मैंने फोटो लेने के लिए पकड़ा तो देखा कि उन्होंने पतली सी शर्ट पहनी थी। वो कांप रहे थे। उस दिन मैंने फैसला किया कि जबतक मैं नहीं कापूंगा, तबतक मैं टी शर्ट ही पहनूंगा। जब मुझे अच्छी ठंड लगेगी, कांपने लगूंगा और कठिनाई होगी, तब स्वेटर पहनने के लिए सोचूंगा, लेकिन उससे पहले नहीं। ऐसा करके मैं उन तीन गरीब बच्चों को संदेश देना चाहता हूं कि जिस दिन आपने स्वेटर पहन लिया, उस दिन राहुल गांधी भी स्वेटर पहन लेगा।”

राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा सोमवार सुबह हरियाणा के कुरुक्षेत्र जिले के खानपुर कोलियान से शुरू हुई। इस बीच राहुल गांधी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर परोक्ष रूप से हमला किया और उन्हें ’21वीं सदी के कौरव’ करार दिया।

राहुल गांधी के नेतृत्व में भारत जोड़ो यात्रा के सोमवार शाम अंबाला जिले में पहुंचने के बाद नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि हरियाणा महाभारत की भूमि है। इस दौरान उन्होंने आरएसएस और राज्य की सत्तारूढ़ सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, “कौरव कौन थे? मैं आपको सबसे पहले 21वीं सदी के कौरवों के बारे में बताऊंगा, वे खाकी हाफ पैंट पहनते हैं, वे हाथ में लाठी और शाखा रखते थे राहुल ने कहा कि भारत के 2-3 अरबपति कौरवों के साथ खड़े हैं।

CG News: विधायक और सरपंच दोनों की डिमांड हो गयी पूरी,जब मुख्यमंत्री ने की यह घोषणा

राहुल गांधी ने कहा कि क्या पांडवों ने नोटबंदी की, गलत जीएसटी लागू की? क्या उन्होंने कभी ऐसा किया होगा? कभी नहीं। क्यों? क्योंकि वे तपस्वी थे और वे जानते थे कि नोटबंदी, गलत जीएसटी, कृषि कानून इस जमीन की तपस्वियों से चोरी करने का एक तरीका है। गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने इन फैसलों पर दस्तखत जरूर किए, लेकिन इसके पीछे भारत के 2-3 अरबपतियों की ताकत थी, आप माने या न माने।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS