CG-बीजापुर में 2 दिनों से बारिश, नदी-नालों का बढ़ा जलस्तर

बीजापुर। जिले में लगातार दो दिनो से हो रही भारी बारिश की वजह से एक बार फिर जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। नदी-नाले उफान पर आ गए हंै। आसपास के इलाकों के नदी नालों का  जलस्तर के बढ़ जाने से बहुत से जगहों पर बाढ़ के हालात बन गए हैं।  लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इधर लगातार बारिश के चलते प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है।बीजापुर तहसील के अंतर्गत ग्राम चिन्नाकवाली में बारिश के चलते दो अलग-अलग जगहों पर हादसे  हुए हैं। चिन्नाकवाली के रालापल में करीब 50 से ज्यादा मवेशी बाढ़ में बहे गये हैं, वहीं कुछ मवेशियों की मौत हो गई है।

नगर के कोकडापारा में स्थित एक मकान के चारों तरफ  पानी भर जाने से वहां फंसे 2 महिला और एक बच्चे को नगर सैनिकों की मदद से रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। वहीं मूसलाधार बारिश के  चलते एनएच 63 पर स्थित मोदकपाल पुल में बाढ़ होने की वजह से राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हो गया है। इससे तेलंगाना व महाराष्ट्र का सड़क संपर्क बीजापुर से टूट गया है। बीजापुर से भोपालपट्टनम का मार्ग पूरी तरह से बंद है।बीजापुर तहसीलदार डीआर ध्रुव ने बताया कि गंगालूर मार्ग के पोंजेर व चेरपाल नाला बाढ़ की चपेट में है। यहां सीआरपीएफ 85 बटालियन कैम्प के अंदर छ: से सात फीट बाढ़ का पानी घुस गया, जिससे जवानों को भी परेशानी हुई। बारिश अभी भी जारी है।

उन्होंने बताया कि धनोरा मार्ग में बने रपटा के ऊपर से पानी बह रहा है। इससे धनोरा से तोयनार को जोडऩे वाली मार्ग बंद हो गई है। उन्होंने बताया कि उसूर ब्लॉक के बासागुड़ा से बहने वाली तालपेरु नदी भी उफान पर चल रहे हैं, वहीं चिंताकोन्टा नाला भी भरा होने से आवागमन बंद हैं।वहीं भैरमगढ़ के तहसीलदार जुगल किशोर पटेल ने बताया कि भैरमगढ़ ब्लॉक का मिरतुर मार्ग भी बंद हैं। यहां मिरतुर नाला में करीब 3 से 4 फीट पानी पुल के ऊपर से बह रहा है। कुछ जगहों पर बारिश की वजह से ग्रामीणों के मकान भी धराशायी हो गए है। पेद्दाकोरमा के दशरू मोडियाम व कमलेश मोडियाम के मकान बारिश के चलते क्षतिग्रस्त हुए हैं, वहीं रेड्डी के जारगोया निवासी श्रीनाथ का मकान व मिडते के दो ग्रामीणों के मकान भी क्षतिग्रस्त हो गए हैं। जबकि चेरकंटी के पटेलपारा व पडेडा के कडेनार के घरों व बेडिय़ों में बारिश का पानी घुस आया हैं। यहां के ग्रामीण सुरक्षित जगहों पर चले गए हैं। आपदा प्रबंधन की टीम मुस्तैदी से काम कर रही है।

गाज गिरने से 4 घायल, बाढ़ में बहे 50 मवेशी
बीजापुर में दो दिनों से अनवरत हो रही बारिश ने तबाही मचा दी है। ग्रामीण इलाकों में कही मवेशी बहे गये तो कहीं गाज की चपेट में आकर ग्रामीण घायल हो गए हैं।बीजापुर तहसील के अंतर्गत ग्राम चिन्नाकवाली में बारिश के चलते दो अलग-अलग जगहों पर हादसे  हुए हैं। चिन्नाकवाली के रालापल में करीब 50 से ज्यादा मवेशी बाढ़ में बहे गये हैं, वहीं कुछ मवेशियों की मौत हो गई है। तहसीलदार डीआर ध्रुव के मुताबिक करीब 15 मवेशी जो बंधे हुए थे, उनकी मौत की खबर मिली है, वहीं कुछ मवेशी बहे गये हैं।

उन्होंने आगे बताया कि चिन्नाकवाली के नयापारा में आकाशीय बिजली गिरने से पति रामचंद्रम(25), पत्नी पुष्पा पुलसे (20), अशोक गोटा (22) व एक छोटी बच्ची घायल हो गए है। उन्हें रेस्क्यू कर ऐम्बुलेंस से जिला अस्पताल लाया गया हैं। तहसीलदार ने बताया कि सभी लोग ठीक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.