जिला सहकारी बैंक रामानुजगंज की लचर व्यवस्था देख भड़के रामविचार नेताम,प्रबंधन समिति को लगाई कड़ी फटकार

रामानुजगंज (पृथ्वीलाल केशरी) राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम इन दिनों बलरामपुर जिले के दौरे पर हैं, आज दोपहर वे जिला शाहकारी बैंक रामानुजगंज का औचक निरक्षण करने पहुंचे जहाँ बैंक की लचर व्यवस्था को देखकर नेताम जी भड़क गए, उन्होंने बैंक प्रबंधन समिति को खरी खोटी सुनाते हुए तत्काल बैंकिंग व्यवस्था दुरुस्त करने का निर्देश भी दिए। गौरतलब है कि पिछले 4 दिनों से राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम सरगुजा संभाग एवं बलरामपुर जिले का दौरा कर विभिन्न कार्यक्रमों में सम्मिलित हो रहे हैं, आज दोपहर सर्किट हाउस बलरामपुर से प्रेस कांफ्रेंस कर लौट रहे सांसद नेताम को किसी किसान ने कॉल करके बताया कि जिला शाहकारी बैंक रामानुजगंज में आए दिन किसानों को विभिन्न प्रकार के परेशानियों का सामना करना पड़ता है, धान का पैसा और बोनस का पैसा खाता में आते ही इस बैंक को पूर्ण रूप से कांग्रेसी नेताओं और धान माफियाओं के द्वारा हाईजैक कर लिया जाता है.

छोटे किसानों को दिन दिनभर लाइन में खड़ा करके शाम को ये कहकर भगा दिया जाता है कि बैंक में पैसा खत्म हो गया है छोटे किसानों को महीनों दौड़ाया जाता है और अंत में 10 हजार या पांच हजार ही भुगतान किया जाता है, जबकि शाम होते ही इस बैंक में कांग्रेस के कुछ नेता और धान माफियाओं के जमावड़ा लगना शुरू हो जाता है अंधेरा होते ही इन्हें दर्जनों किसानों के खाते का पैसा लाखों रु भुगतान किया जाता है।

किसान की शिकायत पर सांसद रामविचार नेताम एवं उनके प्रतिनिधि युवा नेता धीरज सिंह देव आज शुक्रवार को दोपहर 3 बजे लगातार शुर्खियों में रहने वाले जिला शाहकारी केंद्रीय बैंक शाखा रामानुजगंज का औचक निरीक्षण करने पहुंचे जहां तपती धूप में सुबह से किसानों का लाइन लगाना देखकर काफी भावुक हुए वे जब अंदर पहुंचे तो देखा कि पीने का पानी तक नहीं है, सांसद रामविचार नेताम बैंक की इस लचर व्यवस्था को देखकर भड़क उठे और शाखा प्रबंधक सहित प्रबंधन समिति को कड़ी फटकार लगाते हुए तत्काक व्यवस्था दुरुस्त करने का निर्देश दिए

महिला हितग्राही ने फोड़ा बैंक में रखा खाली मटका, नेताम ने कहा स्थानीय विधायक और सरकार का पाप का घड़ा फूटना शुरू..

जिला शाहकारी बैंक रामानुजगंज की लचर व्यवस्था से त्रस्त सैकड़ो किसान अपने बीच अचानक राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम को पाकर प्रफुल्लित हो उठे इस दौरान किसानों ने सांसद नेताम को बैंकिंग से संबंधित दर्जनों समस्या सुना डाली, सुबह से तपती धूप में किसान भूखे प्यासे लाइन में खड़े थे लेकिन उन्हें पीने के लिए बैंक में पानी तक उपलब्ध नहीं था, अंदर में मात्र दो घड़ा रखा हुआ था जिसमें पानी नहीं थी, सांसद नेताम ने इसे लेकर भी गहरी नाराजगी व्यक्त की, नेताम की नाराजगी को भांपकर एक महिला हितग्राही ने कहा कि जब पानी रहता ही नहीं तो घड़े का क्या काम है और उसने बारी बारी से दोनों घड़ों को फोड़ दिया, ये देखकर सांसद नेताम मुस्कुराए और स्थानीय विधायक तथा कांग्रेस सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार और स्थानीय विधायक का पाप का घड़ा भर गया है एक देवी स्वरूप महिला के हाथों पाप की घड़े का फूटने की शुरुआत आज इस बैंक के कक्ष से हो चुका है।

Comments

  1. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *