कोरबा में रानू साहू और जांजगीर में जितेन्द्र ने ली जिम्मेदारी..नवपदस्थ कलेक्टरों ने कहा..नीतियों को लागू करना प्राथमिकता..टीम भावना से करेंगे काम

बिलासपुर— नवपदस्थ कलेक्टर रानू साहू और जितेन्द्र शुक्ला ने क्रमशः कोरबा और जांजगीर में पद संभाल लिया है।  पद ग्रहण करने के बाद रानू साहू और जितेन्द्र शुक्ला ने कहा कि को जनहित में शासन की सभी नीतियों और योजनाओं का गंभीरता के साथ लागू किया जाएगा। सारे काम टीम भावना के साथ संचालित किए जाएँगे। 

                     2010 बैच आईएएस अधिकारी रानू साहू ने मंगलवार को कोरबा कलेक्टर की जिम्मेदारियों को ग्रहण किया। कोरबा कलेक्टर पद की जिम्मेदारी लेने पहले रानू साहू जीएसटी कमिश्नर और  एमडी पर्यटन मंडल की कमान संभाल रही थीं। 

           पदभार लेने के बाद रानू साहू ने जिला प्रशासन के प्रमुख अधिकारियों से चर्चा की। इस दौरान उन्होने स्पष्ट किया कि शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं को प्राथमिकता के साथ अंजाम तक पहुंचाना है। इस दौरान सभी को अपना काम टीम भावना के साथ करना है।

                    बताते चलें कि रानू साहू मूल रूप से गरियाबन्द जिला की रहने वाली हैं। रानू साहू कोरबा कलेक्टर बनने से पहले कई पदों पर रहते हुए प्रशासनिक जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है। इसके पहले एसडीएम सारंगढ़, सीईओ जिला पंचायत कोरिया, निगम कमिश्नर बिलासपुर, एडीएम अंबिकापुर, डायरेक्टर हेल्थ, कांकेर कलेक्टर, बालोद कलेक्टर का पद संभाल चुकी है।

          कोरबा कलेक्टर पद संभालने के बाद रानू साहू ने मीडिया से चर्चा के दौरान बताया कि उनकी पहली प्राथमिकता शासन की जितनी भी योजनाएं हैं, उनका लाभ अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना है। जिले में पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं, तमाम संभावनाओं को तलाश कर पर्यटन के क्षेत्र में भी कोरबा को पहचान भी दिलाना है। 

जितेन्द्र शुक्ला ने ग्रहण किया पदभार

                    मंगलवार को ही जांजगीर चांपा के नए कलेक्टर जितेन्द्र शुक्ला ने भी दोपहर को पदभार लिया।जिम्मेदारी संभालने के बाद जिला प्रशासन के सभी अधिकारियों के साथ बैठकर मिलजुलकर काम करने को कहा। इस दौरान जितेन्द्र शुक्ला ने स्प्ष्ट किया कि काम काज के दौरान जनभावनाओं का सम्मान करने के साथ शासन की नीतियों को गंभीरता के साथ लागू किया जाए। साथ ही जिम्मेदारियों को कल पर नहीं टाला जाए।

                   2011 बैच के आईएएस जितेन्द्र शुक्ला ने जांजगीर चांपा कलेक्टर पद की जिम्मेदारी लेने के बाद अधिकारियों से सामान्य चर्चा की है। इसके बाद मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होने बताया कि शासन की नीतियों और योजनाओं को अंतिम व्यक्ति तक पहुचाना उनकी महति जिम्मेदारी है। इस अभियान में सभी अधिकारियों को सामुहिक प्रयास से पूरा किया जाएगा। 

                  बताते चलें कि जितेन्द्र शुक्ला 2011 बैच के राज्य प्रशासनिक अधिकारी हैं। अविभाज्य मध्यप्रदेश में साल 1997 में उन्होने पीएससी परीक्षा देकर डिप्टी कलेक्टर के लिए चयनित हुए। एक साल उन्हें 2011 बैच का आईएएस अवार्ड दिया गया।

                          जितेन्द्र शुक्ला साल 19197 में डिप्टी कलेक्टर पद के लिए चुने जाने से पहले आठ महत्वपूर्ण नौकरियों में भी चयनित हो चुके है। इसमें आबकारी विभाग अधिकारी,महिला बाल विकास अधिकारी समेत कई पद शामिल हैं। 

                 1997 में डिप्टी कलेक्टर पद के लिए चयनित होने के बाद शुक्ला ने कई पदों पर जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है। सिटी मजिस्ट्रेट बिलासपुर, कोटा एसडीएम, पेन्ड्रा गौरेला एसडीएम, कमिश्नर नगर निगम बिलासपुर, कमिश्नर नगर निगम कोरबा, कमिश्नर रायपुर नगर निगम, डायरेक्टर पंचायत, नगरीय प्रशासन पीडब्लूडी और  शिक्षा विभाग डायरेक्टर की भूमिका में प्रभावी तरीके से जिम्मेदारियों को निभाया,

     जितेन्द्र शुक्ला ने रायपुर में आयोजित आईपीएल मैच के पहले टी-20 मैच के आयोजन में महति जिम्मेदारियों को निभाया। 

       

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *