इधर समीक्षा बैठक..उधर अपराधियों ने कांग्रेस अध्यक्ष को घर के सामने पीटा.. वाह रे पुलिसिंग..सरेआम चीरहरण और तमाचा मारने वाला अभी भी फरार.सोती रही पेट्रोलिंग पार्टी..माफियों ने काटा पेड़

बिलासपुर— महीने में दो बार समीक्षा बैठक के नाम पर गाल बचाने वाली पुलिस की एक बार फिर पोल खुल गयी है। बिलासपुर पुलिस की दोपहर में अपराध पर नियंत्रण को लेकर समीक्षा बैठक होती है। देर शाम इसका असर दिखता है।  दो अपराधी बेखौफ होकर जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद नायक उनके घर के ही सामने पीट देते हैं। जबकि इस समय प्रमोद नायक का परिवार भी साथ में था। दूसरी तरफ एक दिन पहले एक लड़की का सरेआम कपड़ा फाड़ा जाता है..और 27 खोली में  अवारा लड़का लड़की को सरेआम पीटता है..लेकिन दोनों ही मामले में अपराधी पुलिस शिकंजे से दूर हैं। सवाल उठता है कि क्या समीक्षा बैठक का यही परिणाम है।

                   अपराध पर अंकुश लगाने की दम्भ भरने वाली बिलासपुर पुलिस की बुधवार को समीक्षा बैठक के चंद घंटे बाद पोल खुल गयी। बैठक में बड़ी बड़ी बात करने वाली पुलिस के दावों पर देर शाम होते अपराधियों ने ढेंगा दिया है।

                  नगर में दहशत है कि जब सत्ताधारी पार्टी का जिला  अध्यक्ष सुरक्षित नहीं है तो आम नागरिक पुलिस की बातों पर कितना विश्वास करे। पुलिस की समीक्षा बैठक के चंद घंटे बाद ही अपराधियों ने जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रमोद नाायक को ग्रीन गार्डन स्थित घर के सामने पीट दिया है। घटना के समय नायक के साथ उनका परिवार भी था।

 घटना क्रम एक–जिला कांग्रेस अध्यक्ष से मारपीट     

                  बिलासपुर पुलिस की समीक्षा बैठक की जितनी तारीफ की जाए कम है। देखने में आया है कि जब जब समीक्षा बैठक हुई..तब तब अपराधियों ने पुलिस को उसी दिन ही अपराध पर अंकुश लागने वाले  दावों को माकूल जवाब दिया है। 

           घटना गुरूवार शाम की है। जिला कांग्रेस अध्यक्ष शहर प्रमोद नायक ने बताया कि रायपुर से परिवार के साथ घर लौटा था। कुछ लोग कुत्तों को मार रहे थे। क्यों मार रहे हो बस इतना ही पूछा..इसके बाद दोनों अपराधियों ने पीटना शुरू कर दिया। उनके ड्रायवर को डंडे से पीठ और सिर पर मारा गया। मामले की शिकायत पुलिस कप्तान से किया है। थाने में एफआईआर भी दर्ज करवाया है।

घटना क्रम दो…लड़की का सरेआम चीरहरण       

                समीक्षा बैठक में सकरी थाना प्रभारी सागर पाठक भी थे। वही सागर पाठक जिनकी अगुवाई में उस्लापुर ज्वैलर्स लूट काण्ड का भाण्डाफोड़ा गया। सवाल आज भी जिन्दा है कि  एक तरफ पुलिस चेकिंग अभियान दूसरी तरफ थाना। बावजूद इसके लूट को अंजाम देने वाले आए और चले भी गए । एक बार फिर उसी सकरी थाना में एक नाबालिग लड़की का अपराधियों ने चीरहरण किया। लेकिन दो दिन बाद भी आरोपियों को पकड़ा नहीं जा सका है।

           घटना कुछ इस तरह है..15 साल की नाबालिग दो दिन पहले सामान खरीदने बाजार गयी। सामान खरीदने के बाद रात्रि साढ़े आठ बजे घर लौट रही थी। लोखण्डी निवासी आशीष पाल उसके साथ छेड़छाड़ करने लगा। लड़की ने जब विरोध किया तो आशीष गाली गलौच करने लगा। और कपड़े फाड़ दिया। रोती विलखती लड़की घर गयी। परिजनों की शिकायत के बाद सकरी थाना में अपराध दर्ज तो किया गया। लेकिन अपराधी अभी भी फरार है। 

घटना क्रम तीन..लड़की को सरे रहा मारा तमाचा 

      सिविल लाइन क्षेत्र स्थित 27 खोली निवासी यादव 16 मार्च को दोपहर तीन बजे नेहरू नगर स्थित एक अस्पताल गयी। रास्ते में रोककर मोहल्ले का बाबा ठाकुर ने लड़की के साथ गाली गलौच किया। विरोध करने पर बाबा ठाकुर ने लड़की को सरेराह मारना शुरू कर दिया। इस दौरान आने जाने वाले लोग देखते रहे। लेकिन लड़की के मदद में कोई सामने नहीं आया। नाबालिग के परिजनों ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराया है। लेकिन अपराधी को अभी तक नहीं पकड़ा जा सका है।

घटना क्रम चार….  उंगती रही पा्र्टी कटता रहा पेड़

             शहर के कोने कोने में थानावार पुलिस की कुछ गश्त पाइंट है। एक गश्त पाइंट उस्लापुर ब्रिज के पास भी है। यहां रात भर पुलिस की दो गाड़ियां हमेशा खड़ी रहती है। पाइंट से चन्द कदम दूर 36 माल है। दोनों के बीच एक निर्माणाधीन काम्पलेक्स भी है। गुरूवार की सुबह यहां जंगल माफिया चार पेड़ों की हत्या कर देते हैं। लेकिन ऊंघते सिपाहियों की इसकी भनक तक नहीं लगी। यदि औपचारिकता में ही पूछ लेते तो शायद पेड़ों की हत्या नहीं होती। लेकिन पुलिस तो पुलिस है..उन्हें इसके बारे में समीक्षा बैठक के दौरान किसी प्रकार की जानकारी नहीं दी गयी थी। और विभाग भी उनका नहीं था। इसलिए सारी रात गाड़ी में ऊंघते रहे..और पेड़ों की हत्या होती रही।

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *