ऋचा का आरोप..अंधेरे में रख हो रही कार्रवाई..अमित ने बताया..जोगी बहु गुमशुदा नहीं..घर भेजना था नोटिस

बिलासपुर—- रिचा जोगी ने प्रेस नोट जारी कर कहा कि मुझे जाति प्रमाणपत्र सम्बंधित कोई भी नोटिस नहीं मिली है।  मुझे अंधेरे में रखकर राज्य सरकार राज्य सरकार मनमर्जी और द्वेषपूर्ण कार्यवाही कर रही है। समाचार पत्रों में तथाकथित नोटिस सम्बंधित समाचार से अपमानित महसूस कर रही हूं।
         
                  अमित जोगी के हवाले से जारी प्रेस नोट के अनुसार रिचा जोगी ने बयान दिया है कि राज्य सरकार अंधेरे में रखकर कार्रवाई कर रही है। समाचार पत्रों में छपी खबर के बाद अपमानित महसूस कर रही हूं। राज्य सरकार की तरफ से 24 सितम्बर 2020 को जारी नोटिफिकेशन के अनुसार जिला स्तरीय प्रमाणपत्र छानबीन समिति और जारी किया गया तथाकथित नोटिस दोनों ही गैर कानूनी है।  सभी दस्तावेजों का परिक्षण करने के बाद इसी कांग्रेस सरकार ने मेरा जाती प्रमाण पत्र दिया है। यदि जाति प्रमाण पत्र गलत तो उसे जारी करने वाली यही कांग्रेस राज्य सरकार पूर्ण रूप से अक्षम है।
 
                 ऋचा जोगी ने कहा कि नवजात बेटे के कारण होम आयसोलेशन में हूँ। लेकिन नोटिस और अन्य दस्तावेज मिलने के बाद जब भी छानबीन समिति मुझे बुलाएगी मैं सुनवाई में उपस्थित रहूँगी।
 
         डॉ. ऋचा जोगी ने जाति पर छिड़े विवाद पर कहा कि जाति प्रमाण पत्र बनवाते समय जो पता उन्होंने दिया था उस पते पर और न ही उनके आधार कार्ड में दर्ज पते पर मुंगेली कलेक्टर ने नोटिस नहीं भेजा है। उनकी जाति प्रमाण पत्र के विरुद्ध की गयी शिकायत की प्रति भी उन्हें उपलब्ध नहीं करवाई गयी है। डॉ. ऋचा जोगी के अनुसार मुंगेली कलेक्टर से जारी किये गए तथाकथित नोटिस की सूचना उन्हें विभिन्न समाचार पत्रों से मिली है । इस वजह से उन्हें लोगों के सामने अपमानित महसूस होना पड़ रहा है। ऐसा लगता है कि राज्य सरकार की मनमर्जी के मुताबिक द्वेषपूर्ण तरीके से उन्हें अंधेरे में रख विरोध में कार्यवाही की जा रही है।
 
                 चूँकि बच्चा नवजात है। कोरोना महामारी को देखते हुए पूर्ण रूप से होम आइसोलेशन में हैं। ऐसी सूरत में 8 अक्टूबर को छानबीन समिति के सामने उपस्थित नहीं हो सकी। नोटिस और अन्य दस्तावेज मिलने के बाद जब भी छानबीन समिति उन्हें बुलाएगी  सुनवाई में उपस्थित होंगी।
 
अमित जोगी ने कहा..जोगी की बहुत गुमशुदा नहीं
 
                     प्रेस नोच जारी कर अमित जोगी ने कहा कि स्व. अजीत जोगी जी की बहू गुमशुदा या फ़रार अपराधी नहीं है कि कलेक्टर मुंगेली डॉ. ऋचा जोगी के दादा के घर में नोटिस चस्पा कर गाँव में मुनादी कराएं। यह शर्मिन्दा करने वाली हरकत है। सबको मालूम है कि पत्नी का घर शादी के बाद ससुराल होता है। सवाल उठता है कि क्या उन्होने एक बार भी उनके पते पर नोटिस भेजा? आप अपने घर परिवार में कुछ भी कीजिए लेकिन ईश्वर के लिए मेरी धर्मपत्नी डॉक्टर ऋचा जोगी का अपमान करना बंद करें। आख़िर वह भी किसी बहू और किसी की पत्नी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *