अयोध्या में बने मंदिर और मस्जिद..गंगा जमुनवी संस्कृति का होगा सम्मान…एकता तोड़ने वालों से रहें सावधान

rizvi_jccरायपुर—जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ मीडिया प्रमुख इकबाल अहमद रिजवी ने शिया वक्फ बोर्ड के मंदिर प्रस्ताव को गैरवाजिब बताया है। रिजवी ने कहा कि  अयोध्या मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट मे दाखिल शिया वक्फ बोर्ड की अर्जी के प्रस्ताव का विरोध करता हूं। अयोघ्या में राम मंदिर और लखनऊ में मस्जिद निर्माण की पेशकश की गई है जो गैरवाजिब है।

              रिजवी प्रेस नोट जारी कर बताया है कि सदियों से हिन्दू और मुसलमान साथ साथ रहते आये है। भारत वर्ष गांगा जमुनी तहजीब के लिए जाना जाता है। ऐसे में हिन्दू मुस्लिम के आराधना स्थलों को एक दूसरे से दूर करना मुनासिब नहीं होगा। दोनो संप्रदाय के लोग साथ रहने की कसमें खाते रहे हैं। साथ जीने और मरने की मंशा को दिलों में सदियों से संजोए हुए है।

                        रिजवी ने शिया बोर्ड के गैरवाजिब प्रस्ताव पर कहा कि देश की एकता और अखण्डता के मददेनजर अयोध्या की पाक सरजमीन पर दोनो की बातों को पूरा किया जा सकता है। अयोध्या में कुछ दूरी पर दोनों के आराधना स्थल का निर्माण होना चाहिए । अलगाववादी प्रस्ताव को दोनो संप्रदाय के जिम्मेदार लोगो को देश हित में नकार देना चाहिए।
        रिजवी ने कहा कि सदियों पुरानी स्थापित गंगा जमुनी तहजीब को जीवित रखने की नीयत को अमलीजामा पहनाने वाली सिध्द होगी। इन दिनों अलगाववादी तत्व देश की एकता और सौहाद्रता को खण्डित करने की फिराक में है। जो न केवल अमानवीय बल्कि अभारतीय और अनुचित भी है। देशवासियों को अलगाववादी और फूट डालों…शासन करो की नीयत के पक्षधर दलों और संगठनो से परहेज करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *