बोले कृषि मंत्री.किसानों को पता चल गया.भाजपा ने 15 साल क्या किया..प्रशासन को दिया निर्देश?

भाटापारा—कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा के शपथ ग्रहण समारोह में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने शिरकत किया। कृषि मंत्री ने नव निर्वाचित कृषि उपज मण्डी के पदाधिकारियों को शपथ दिलाया। इस दौरान मुख्य अतिथि की आसंदी से कृषि मंत्री ने भाजपा के शासन काल की गतिविधियों को लेकर जमकर बोला। उन्होने कहा कि किसानों को अब भली भांति अहसास हो चुका है कि पन्द्रह साल तक भाजपा सरकार ने किसानों के साथ सिर्फ छल और शोषण किया है।
                विगत दिवस क्षेत्र की सबसे बड़ी कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा के शपथ ग्रहण समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे  ने शिरकत किया। चौबे ने नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाने के साथ शुभकामनाएं दी।
               कार्यक्रम में नवनिर्वाचित कृषि उपज मंडी समिति भाटापारा के अध्यक्ष सुशील शर्मा, उपाध्यक्ष चित्रलेखा साहू समेत अन्य सदस्यों ने शपथ लिया। इस दौरान कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने  भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए  जमकर बोला। उन्होने कहा कि 15 साल के शासन काल में भाजपा सरकार ने किसानों की कभी चिन्ता नहीं की है। इस बात का अहसास आज किसानों को अच्छी तरह से हो चुका है।
             प्रदेश की भूपेश बघेल की सरकार दरअसल किसानों की सरकार है। किसानों के हित में मुख्यमंत्री लगातार काम कर रहे हैं। यही कारण है कि आज प्रदेश का किसान खुशहाल है।
             नवपदस्थ मंडी अध्यक्ष सुशील शर्मा ने विश्वास दिलाया कि किसान और गरीब के हित में ईमानदारी से कार्य करेंगे। इस दौरान उन्होंने मंत्री के सामने किसान हित को ध्यान में रखकर कई मांग रखी । अधिकांश मांगों को कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने पूरा भी किया। चौबे ने किसानों को सौगात देते हुए मंडी परिसर में एक नवीन किसान भवन बनाने का एलान किया। साथ ही नवीन शेड बनाने की बात कही।
             मंत्री ने  जिला प्रशासन को नवीन मंडी प्रागंण के लिए स्थल चयन करने का निर्देश दिया। कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ खनिज विकास निगम के अध्यक्ष गिरीश देवांगन, कृषक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष सुरेन्द्र शर्मा, छग पाठ्य पुस्तक के अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी, पूर्व विधायक चैतराम साहू,सदस्य कर्मकार मण्डल सतीश अग्रवाल, कलेक्टर रजत बंसल, पुलिस अधीक्षक दीपक झा सहित स्थानीय जनप्रतिनिधि गण बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *