सरपंच सचिव ने फर्जीवाड़ा कर पार किया पंचायत का तीन लाख रूपया..कार्रवाई से बचने सचिव ने दर्ज कराया रिपोर्ट..IG के शरण में पहुंचा फरियादी

अलतरा…अकलतरा जनपद पंचायत स्थित ग्रा्म पंचायत पोड़ी दल्हा सरपंच और सचिव ने फर्जीवाड़ा कर पंचायत खाते से 3 लाख रूपया पार कर दिया है। मामले में शिकायत के बाद तीन सदस्यीय टीम ने आरोप को सही पाया है। अब आरोप से बचने सचिव ने शिकायतकर्ता उप सरपंच जावेद खान  के खिलाफ जातिगत मामले में अपराध दर्ज कराया है। दर्ज शिकायत से बचने जावेद खान ने आईजी रतनलाल डांगी से न्याय की मांग की है।

                     जांजगीर जिला पंचायत के अकलतरा जनपद पंचायत स्थित ग्राम पोड़ी दल्हा सरपंच और सचिव ने फर्जीवाड़ा कर 3 तीन लाख रूपये 15 वें वित्त से पार कर दिया । उप सरपंच जावेद खान की शिकायत पर  तीन सदस्यीय टीम ने आरोप को सही पाया। बावजूद इसके सरपंच और सचिव के खिलाफ 11 महीने बीत जाने के बाद भी कार्रवाई नहीं हुई।

                         आईजी कार्यालय पहुंचकर उप सरपंच जावेद खान ने बताया कि महिला सरपंच अनिता जायसवाल और ग्राम सचिव जगदीश भारद्वाज ने मिलकर ग्राम पंचायत में लाखों रूपयों के भ्रष्टाचार को अंजाम दिया है। ग्राम पंचायत में हो रहे भ्रष्टाचार, वित्तीय अनियमितिता, मनरेगा काम में जालसाजी, पेशन राशि वितरण घोटाला  और अन्य कई मामले में जांच को लेकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखा।

             शासन के आदेश के बाद एसडीएम ने जांच का जिम्मा तीन सदस्यीय टीम को दिया। टीम ने जांच पड़ताल के दौरान पाया कि सचिव जगदीश भारद्वाज ने मेडिकल अवकाश के दौरान बिना किसी जानकारी के 15 वें वित्त से तीन लाख 15 हजार रूपए आहरण किया है। सरपंच के साथ मिलकर चार साल पहले मृत हो चुके हितग्राही को पेंशन दिया है। इसके अलावा जांच टीम ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि सचिव जगदीश भारद्वाज 15 साल से फर्जी तरीके से किसी को पेंशन का भुगतान कर रहा है। साथ ही सरपंच और सचिव दोनों मिलकर प्रस्ताव रजिस्टर में फर्जी हस्ताक्षर कर नियम विरूद्धा राशि का आहरण किया है। रिपोर्ट पेश होने के बाद भी अभी तक ना तो सरपंच के खिलाफ कार्रवाई हुई है। और ना ही सचिव के खिलाफ एक्शन लिया गया है।

                    जावेद ने बताया कि जांच सामने आने के बाद सरपंच और सचिव ने मांडवली का दबाव बनाया। दबाव में नहीं आने पर सचिव जगदीश भारद्वाज ने अजाक थाना पहुंचकर उसके खिलाफ जातिगत गाली गलौच का रिपोर्ट दर्ज कराया।  जबकि ऐसा कुछ हुआ भी नहीं है।

                               जावेद के अनुसार आईजी से मिलकर मा्मले में जांच की मांग की है। आईजी ने आश्वासन दिया है कि किसी के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। इस दौरान आईजी ने जांजगीर पुलिस कप्तान को फोन भी किया। उन्होने कहा कि मामले में एसपी से मिलकर अपनी बातों को रखें। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *