School Reopening: आज से पंजाब,छग,उत्तराखंड सहित इन राज्यों में खुले स्कूल, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना है अनिवार्य

दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है इसी के साथ लॉकडाउन प्रतिबंधों में भी ढील दी जा रही है. इसी क्रम में तमाम राज्यों में फिर से स्कूल खुलने लगे हैं. हालांकि कई राज्यों में स्कूल खोले जा चुके हैं और कई खोलने की तैयारी कर रहे हैं.आज से पंजाब, उत्तराखंड और झारखंड में भी स्कूल खुल रहे हैं. राज्य सरकारों ने स्कूलों के लिए गाइडलाइन भी जारी की है और कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने का निर्देश भी दिया है. चलिए जानते हैं किस राज्य ने स्कूल खोलने के लिए क्या-क्या शर्ते रखी हैं.पंजाब में सोमवार 2 अगस्त यानी आज से सभी क्लासेज के लिए स्कूलों को फिर से खोल दिया गया है. हालांकि इस दौरान स्कूलों को कोविड गाइडलाइन्स का पालन करना अनिवार्य है. स्टाफ का वैक्सीनेशन भी जरूरी है.बता दें कि पंजाब में हायर क्लासेज यानी 11वीं और 12वीं क्लास के स्कूल 26 जुलाई से खोले जा चुके हैं. इस दौरान ऑनलाइन लर्निंग-टीचिंग का विकल्प भी जारी रखा गया है.

उत्तराखंड में कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल खुले
उत्तराखंड में भी आज से 9वीं क्लास से लेकर 12वीं क्लास तक के स्कूल खोल दिए गए हैं. वहीं कक्षा 6 से 8वीं तक के स्कूल 16 अगस्त से खोले जाएंगे. हालांकि स्कूल आने वाले बच्चों को अभिभावकों की सहमति अनिवार्य की गई है. स्कूलों को कोविड प्रोटोकॉल का भी पूरी तरह से पालन करना होगा. सरकार द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि स्कूलों को एक नोडल अधिकारी नियुक्त करना होगा जो छात्रों की ओर से कोविड के उचित व्यवहार को सुनिश्चित करेगा और किसी भी उल्लंघन के मामले में कार्रवाई करेगा. आदेश के अनुसार सभी छात्रों, शिक्षकों और स्टॉफ के सदस्यों के लिए मास्क पहनना, सामाजिक दूरी का पालन करना और बार-बार हाथ साफ करना अनिवार्य है. आदेश में कहा गया है कि यदि स्कूल परिसर में किसी को बुखार, खांसी या सर्दी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं, तो नोडल अधिकारी स्कूल मैनेजमेंट और प्रिंसिपल की सलाह से तुरंत जिला प्रशासन और हेल्थ ऑफिसर्स को सूचित करेगा. इसके साथ ही टीचर्स, स्टाफ मेंबर्स और स्कूल परिसर के भीतर रहने वाले छात्रों को 48 घंटे से पहले की आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट पेश करने के बाद ही स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा. आदेश में ये भी कहा गया है कि स्कूल शिक्षा के ‘हाइब्रिड मोड’ को फॉलो करेंगे जिसके मुताबिक क्लासेज को एक साथ मोबाइल और उपकरणों पर लाइव स्ट्रीमिंग के जरिए फिजिकल और ऑनलाइन दोनों ही तरह से आयोजित किया जाएगा. वहीं राज्य में कक्षा 1 से पांच तक के बच्चों के लिए अभी स्कूल नहीं खोले जाएंगे और छात्रों की पढ़ाई ऑनलाइन मोड में ही जारी रहेगी.

छत्तीसगढ़-
राज्य शासन के आदेशानुसार स्कूल शिक्षा विभाग के अंतर्गत सभी शासकीय और निजी स्कूलों में 10वीं और 12वीं की कक्षाएं सोमवार 2 अगस्त से संचालित होना प्रारंभ हो जाएगा। इसी प्रकार कक्षा 6वीं, 7वीं, 9वीं और 11वीं को छोड़कर शेष सभी कक्षाएं अर्थात् कक्षा पहली से लेकर 5वीं और 8वीं की कक्षाएं भी 2 अगस्त से संचालित होंगी। यह सभी कक्षाएं उन जिलों में प्रारंभ की जा रही है, जहां कोरोना पॉजिटिविटी दर पिछले 7 दिनों में एक प्रतिशत तक हो।राज्य शासन के निर्णय अनुसार सभी प्रायमरी स्कूलों में कक्षा पहली से लेकर 5वीं तक तथा मीडिल स्कूल में कक्षा 8वीं के संचालन के पूर्व ग्रामीण क्षेत्रों के लिए संबंधित ग्राम पंचायत और स्कूल की पालन समिति की अनुशंसा आवश्यक होगी। शहरी क्षेत्रों के लिए संबंधित वार्ड पार्षद और स्कूल की पालन समितियों की अनुशंसा जरूरी है। हाई स्कूल और हायर सेकेण्डरी स्कूलों में 10वीं और 12वीं की कक्षाएं संचालित करने के लिए ग्राम पंचायत या नगरीय निकाय के प्रतिनिधियों सहित पालन समिति की अनुशंसा की आवश्यकता नहीं होगी। स्कूल शिक्षा विभाग के सचिव और आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय डॉ. कमलप्रीत सिंह ने बताया कि राज्य शासन के निर्णय अनुसार वर्तमान में 6वीं, 7वीं, 9वीं और 11वीं की ऑफलाईन कक्षाएं प्रारंभ नहीं की जा रही हैं। भविष्य में इन कक्षाओं को संचालित करने का निर्णय राज्य शासन द्वारा जिलों में कोरोना पॉजिटिविटी दर में निरंतर संभावित गिरावट और उसके प्रसार के सम्यक आंकलन पश्चात् यथा समय लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य में इन ऑफलाईन (प्रत्यक्ष रूप से संचालित) कक्षाओं के अलावा सभी स्तर की ऑनलाईन कक्षाएं पूर्व की भांति संचालित होती रहेंगी।

झारखंड में भी 9वीं से 12वीं तक के खुले स्कूल
झारखंड में भी आज से 9वीं कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक के स्कूल खोल दिए गए हैं.हालांकि इसके लिए ये शर्त लागू की गई है कि संबंधित जिलों में कोरोना संक्रमण दर पिछले सात दिन से एक प्रतिशत हो. गौरतलब है कि स्कूली छात्रों के अभिभावकों के राज्य स्तरीय निकाय ने इस कदम का विरोध किया है और कहा है कि सरकार को स्कूलों को दोबारो खोलने का आदेश देने से पहले कोरोना महामारी की संभावित तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए कुछ समय और इंतजार करना चाहिए. बता दें कि इस साल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के मार्च में शुरू होने के बाद स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए थे. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में हाल ही में हुई कैबिनेट की बैठक में स्कूलों को फिर से खोलने पर निर्णय लिया गया है.  स्कूलों के लिए गाइडलाइन जारी की गई हैं जैसे बच्चों, टीचरों और स्टॉफ को मास्क लगाना अनिवार्य है, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी है साथ ही अभिभावकों की सहमति पत्र भी जरूरी है इस दौरान ऑनलाइन क्लासेज भी जारी रहेंगी.

हिमाचल प्रदेश में आज से खुले 10वीं से 12वीं तक के स्कूल
हिमाचल प्रदेश में भी आज से 10वीं से 12वीं की कक्षाओँ के स्कूल खोल दिए गए हैं. वहीं पांचवी से आठवीं कक्षा के छात्र अपनी पढ़ाई संबंधी समस्याएं लेकर स्कूल जा सकते हैं. बता दें के स्कूलों को कोविड-19 उचित व्यवहार का पालन करने का सख्त आदेश दिया गया है.

इन राज्यों में खुल चुके हैं स्कूल
गौरतलब है कि महाराष्ट्र, बिहार आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र आदि राज्यों में स्कूल फिर से खोल दिए गए हैं. हालांकि इस दौरान छात्रों को स्कूल में उपस्थित होना अनिवार्य नहीं किया गया है. वही राजधानी दिल्ली और तमिलनाडु में अभी स्कूल खोलने का निर्णय नहीं लिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *