रायपुर से पकड़ाया 50 लाख की ठगी का दूसरा आरोपी..आरोपी ने लोन के पैसे से खरीदा वाहन.. बनवाया घर..राजस्व विभाग से मांगी गयी जानकारी

बिलासपुर—-किसानों के साथ पचास  लाख की धोखाधड़ी के आरोपियों की लगातार धरपकड़ जारी है। एक दिन पहले बैंक मैनेजर की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने रविवार को एक अन्य आरोपी को रायपुर में धर दबोचा है। घटना में एफआईआर दर्ज होने के बाद आरोपी हीरालाल साहू फरार था। 
आरोपी हीरा लाल साहू रायपुर में किराए के मकान में कुशालपुर थाना पुरानी बस्ती में नाम बदलकर छिपा था।
 
               सरकंडा पुलिस ने एक दिन के अन्तराल के बाद 6 किसानों से पचास लाख की ठगी करने वाले फरार आरोपी को रायपुर से धर दबोचा है। जानकारी देते चलें कि मामले में एक दिन पहले ही राजकिशोर स्थित एक्सिस बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर को ओ़ड़िसा भुवनेश्वर से गिरफ्तार किया था। एक दिन बाद रायपुर में स्थानीय पुलिस के सहयोग से एक अन्य दूसरे आरोपी हीरालाल साहू को पकड़ा गया है। .
 
            बताते चलें कि आरोपियों ने सिंडिकेट बनाकर 6 किसानों से कृषि लोन के रूप में कुंल 50,00,000 रूपये कृषि लोन फॉर्म में हस्ताक्षर करवाया। और फिर फर्जी तरीके से आहरण भी किया। आरोपियों ने लोन को पीड़ित किसानों को ना देकर एक्सिस बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर प्रबोध कुमार दास के साथ मिल कर हड़प लिया।
 
                फर्जीवाड़े की जानकारी किसानों को उस समय हुई जब बैंक ने किस्त पटाने का दबाव बनाया। इसके बाद फर्जीवाड़ा का शिकार सभी 6 किसानों ने अलग अलग रिपोर्ट दर्ज कराया। मामले में कार्रवाई के लिए पुलिस कप्तान दीपक झा ने थाना प्रभारी परिवेश तिवारी को टीम बनाकर गिरफ्तारी का आदेश दिया।
 
                 परिवेश ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान अतिरिक्त पुलिस कप्तान उमेश कश्यप,सीएसपी निमिषा पांडे ने विशेष मार्गदर्शन के साथ निर्देश दिया। इसके बाद आरोपियों को पकड़ने पुलिस की एक टीम को रायपुर भेजा गया। जगह जगह धावा भी बोला गया। इसी दौरान मुखबीर की जानकारी पर  कुशालपुर क्षेत्र से आरोपी हीरा लाल साहू को गिरफ्तार किया गया।
 
              परिवेश तिवारी ने बताया कि धोखाधड़ी की रकम से आरोपी हीरालाल साहू ने वाहन खरीदा, घर भी बनवाया। सरकंडा पुलिस ने राजस्व विभाग से जानकारी के बाद अग्रिम वैधानिक कार्यवाही की बात कही। इस दौरान आरोपी की धरपकड़ में उप निरीक्षक बीआर सिन्हा, हृदय यदु, सहायक उपनिरीक्षक हेमंत आदित्य, आरक्षक सत्य कुमार पाटले और अविनाश कश्यप नका विशेष योगदान रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *