स्वामी आत्मानंद हिंदी माध्यम स्कूल में शिक्षकों की कमी, पालक गण और युवा मोर्चा ने सौंपा ज्ञापन

बोड़ला। नगर के स्वामी आत्मानंद हिंदी माध्यम स्कूल में व्याप्त समस्याओं को लेकर अखिल भारतीय युवा मोर्चा व पालक गणों ने ज्ञापन विकास खंड शिक्षा अधिकारी को सौंपा है ।इस विषय में भारतीय जनता पार्टी के युवा नेता सुनील मानिकपुरी ने बताया कि स्कूलों में शिक्षकों की कमी से बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है शिक्षकों की मांग को लेकर बड़ी संख्या मे लोग नाराज हैं ,उन्होंने कहा कि लोग बच्चों की पढ़ाई और स्कूल में शिक्षकों की व्यवस्था को लेकर कभी भी सडक़ पर आकर आंदोलन कर सकते हैं। श्री मानिकपुरी ने बताया कि स्वामी आत्मानंद स्कूल  कक्षा छठवीं से बारहवीं तक संचालित है लेकिन इस स्कूल मे समस्याओं का अंबार है।नगर में संचालित आत्मानन्द स्कूल के दोनों माध्यमों की कक्षाएं एक ही भवन में दो पारियों में लगाई जा रही है स्कूल में कक्षा एक से कक्षा बारहवीं तक दोनों माध्यम में हजारों बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं जिससे दोनों माध्यमों के बच्चों को एक ही भवन में कक्षा लगाए जाने से समस्याएं हो रही है एक ओर हिंदी माध्यम स्कूल में में शिक्षकों की कमी से पढ़ाई नहीं हो पा रही तो दूसरी ओर इंग्लिश मध्यम स्कूल में लगातार कक्षाएं लगाई जा रही हैं  ।एक ही भवन में इंग्लिश व हिंदी माध्यम दोनों ही माध्यम के कक्षाएं संचालित किया जा रहा है जिससे हिंदी माध्यम के बच्चों की पढ़ाई में काफी व्यधान हो रहा है ।

हिंदी माध्यम के साथ सौतेला व्यवहार
आत्मानंद स्कूल के संचालन के संबंध में हिंदी माध्यम के बालकों का गंभीर आरोप,  वे कहते हैं कि हिंदी माध्यम की स्कूल के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है एक ओर जहां इंग्लिश मध्यम स्कूल में सभी विषयों के शिक्षक होने के कारण कक्षाएं लग रही है वही हिंदी माध्यम में शिक्षकों की कमी है जिससे हर सेकेंडरी स्कूल की कई विषयों की पढ़ाई महीनों से नहीं हो रही है इस तरह सरकार द्वारा जानबूझकर हिंदी माध्यम के छात्र-छात्राओं के साथ दोहरा बर्ताव किया जा रहा है ।

लोगों की मांग है इंग्लिश मीडियम की स्कूल का भवन अलग से बनाया जाए पूर्व में संचालित हिंदी माध्यम स्कूल को यथावत रखा जाए।एक ही भवन में दोनों ही माध्यम के स्कूल के संचालन से हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों के साथ सौतेला व्यवहार हो रहा है।हिंदी माध्यम स्कूल में पढ़ रहे छात्र छात्राओं के पालकगण आरोप लगाते हैं कि इंग्लिश माध्यम स्कूल में जब भी कोई कार्यक्रम होता है तो हिंदी माध्यम के स्कूलों का छुट्टी कर दिया जाता है जिससे हिंदी माध्यम के स्कूलों के छात्र छात्राओं की छुट्टी कर दी जाती है इस तरह हिंदी माध्यम के विद्यार्थियों के  पढ़ाई में लगातार बाधा उत्पन्न हो रहा है।

शिक्षकों की भी है कमी
इसके अलावा हिंदी माध्यम की स्कूल में शिक्षकों की भी काफी कमी है जिससे 10वीं 11वीं 12वीं के बच्चों के कई कई पीरियड नहीं लग रहे हैं पीरियड नहीं लगने का अभाव में बच्चे स्कूल में खुले घूम रहे हैं अत: उक्त मांगों को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एवं भारतीय जनता युवा मोर्चा के अलावा पालक गणों ने विकास खंड शिक्षा अधिकारी से ज्ञापन देकर व्यवस्था में सुधार की मांग की है उन्होंने कहा कि इस दिशा में शासन प्रशासन द्वारा यदि ध्यान नहीं दिया जाता तो भारतीय जनता पार्टी के द्वारा उग्र आंदोलन का घेराव किया जाएगा जिसकी जवाबदारी शासन और प्रशासन की होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *