कांग्रेस का मौन धरना..नेताओं ने कहा..चौपट हुई कानून व्यवस्था..यूपी में लगाया जाए राष्ट्रपति शासन

बिलासपुर—- ज़िला कांग्रेस कमेटी ने सोमवार को बाबा साहेब अंबेडकर प्रतिमा के सामने एक दिवसीय मौन धरना प्रदर्शन किया।  कांग्रेसियों ने हाथरस रेपकाण्ड और हत्या मामले को लेकर पीड़िता के लिए न्याय की मांग की। इस दौारन कांग्रेसियों ने उत्तर प्रदेश सरकार और पुलिस पर जमकर निशाना भी साधा।

                    उत्तरप्रदेश के हाथरस रेपकाण्ड और हत्याकाण्ड मामले को लेकर आज कांग्रेसियों ने अम्बेडकर प्रतिमा के सामने मौन धरना प्रदर्शन किया। मामले में संसदीय सचिव रश्मि आशीष सिंह ने कहा कि उत्तरप्रदेश सरकार नियम कानून, सामाजिक रीतिरिवाज को ताक में रख कर काम कर रही है। उत्तरप्रदेश में दिनो दिन रेप की घटनाएं बढ़ रही है। हाथरस हो या गोरखपुर सभी जगह उत्तरप्रदेश सरकार का रवैया तानाशाही भरा देखने को मिला है। मीडिया, सामाजिक कार्यकर्ता, राजनीतिक कार्यकर्ताओ को हाथरस जाने से रोका जा रहा है। डंडे बरसाए जा रहे हैं। पीड़ित परिवार के सदस्यों को प्रशासन से धमकी मिल रही है। 

                प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने कहा कि उत्तरप्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। मुख्यमंत्री योगी ने उत्तरप्रदेश को अपराधियों का स्वर्ग बना दिया है। सूबे की हालत बद से बदतर हो चुकी है। सरकार हाथरस रेपकाण्ड में दिए गए पीड़िता के बयान को भी नकार रही है । जबकि पीड़िता ने रेप होने की पुष्टि की है। अटल ने कहा राहुल गांधी और प्रिंयका गांधी के साथ पुलिस प्रशासन का व्यवहार अच्छा नही था। इससे समझा जा सकता है कि उत्तरप्रदेश में आम जनता की स्थिति क्या होगी।

              ग्रामीण अध्यक्ष विजय केशरवानी ने कहा कि हाथरस की घटना बर्बरता की पराकाष्ठा है।  ,देश की एक दलित बेटी के साथ रेप और फिर निर्मम हत्या उत्तरप्रदेश की कानून व्यवस्था को जाहिर करने के लिए काफी है। केशरवानी ने बताया कि उत्तरप्रदेश में लोग भय और आतंक के साये में जीने के लिए मजबूर है। ,कांग्रेस लगातार धरना-प्रदर्शन के माध्यम से पीड़िता को न्याय दिलाने की मांग कर रही है ।  शहर अध्यक्ष प्रमोद नायक ने कहा कि भाजपा का चरित्र हमेशा से दागदार रहा है। उत्तरप्रदेश में भाजपा के पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री चिन्मयानन्द ,भाजपा के पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर जैसे बड़े बड़े नेताओ पर समय समय पर यौनशोषण के केस दर्ज हुए है। कुलदीप सेंगर ने तो पीड़ित परिवार को ही खत्म करा दिया है। लेकिन  उत्तरप्रदेश सरकार ने कोई प्रभावी कार्यवाही नही की है। ऐसे हालात में मा-बेटी उत्तरप्रदेश में सुरक्षित कैसे रह सकते है ? 

                    प्रदेश कांग्रेस विधि विभाग प्रमुख संदीप दुबे ने बताया कि उत्तरप्रदेश की कानून व्यवस्था चौपट हो चुकी है। जिस सूबे में जनप्रतिनिधि सुरक्षित नहीं वहा के हालात का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। भारतीय जनता पार्टी की सामंतवादी सोच ने गरीबों का जीना मुश्किल कर दिया है। उत्तरप्रदेश के हालात बद से बदतर है। इसलिए यहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाना  बहुत ही जरूरी है।

                                मौन धरना में महापौर रामशरण यादव,ज़िला पंचायत अध्यक्ष अरुण सिंह चौहान,प्रदेश महामंत्री अर्जुन तिवारी,प्रदेश सचिव विवेक बाजपेयी,अशोक अग्रवाल,सचिव महेश दुबे,रविन्द्र सिंह,प्रवक्ता अभय नारायण राय,सभापति शेख नजीरुद्दीन,पूर्वशहर अध्यक्ष, नरेंद्र बोलर,पूर्व विधायक सियाराम कौशिक,चन्द्रप्रकाश बाजपेयी,पूर्व महापौर वाणी राव,राजेश पांडेय,शिवा मिश्रा,बसन्त शर्मा,विधि प्रकोष्ठ सन्दीप दुबे,ऋषि पांडेय,देवेंद्र सिंह,धर्मेश शर्मा,अभिषेक सिंह,त्रिभुवन साहू,तैय्यब हुसैन ,अरविंद शुक्ला समेत सैकड़ों कांग्रेसी नेता मौजूद थे।

                

loading...

Tags:,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...