छात्र नेताओं ने कुलसचिव को बताया.. छात्रों को किया जा रहा परेशान..कालेजों को जारी किया जाए तत्काल आदेश

बिलासपुर—भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन के नेताओं ने अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय कुलसचिव से मिलकर असाइनमेन्ट तैयार कर चुके छात्रों की पीड़ा को सामने रखा है। छात्र संगठन के नेताओं ने सुधीर शर्मा को बताया कि कालेजो को आदेश दिया जाए कि बिना टाइपव वाले मतलब हस्तलिखित असाइनमेन्ट भी जमा किए जाएं।
 
            भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन का एक प्रतिनिधि मंडल अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्याल के कुल सचिव से मिलकर कालेजों पर तानाशाही का आरोप लगाया है। छात्र नेताओं की प्रतिनिधि मण्डल में शामिल सिद्धान्त बतरा, विवेक साहू, दीप पटेल साहिल विश्वकर्मा और शिवम् अवस्थी ने छात्रों की परेशानियों को सुधीर शर्मा के सामने रखा। 
 
                 छात्र नेताओं ने बताया कि कोविड काल में छात्रों के अभिभावकों की माली हालत बिगड़ी है। इस समय घर चलाना भी मुश्किल है। ज्यादातर बच्चे निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से है। बावजूद इसके उन्हें टाइप वाले असाइनमेन्ट जमा करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है।
 
                 छात्र नेताओं ने बताया कि स्नातकोत्तर के छात्रों को कालेज से असाइनमेंट तैयार करने को कहा जाता है। ज्यादातर छात्रों ने असाइनमेंट तैयार भी कर लिया है। लेकिन महाविद्यालय प्रबंधन हस्तलिखित असाइनमेन्ट लेने से इंकार कर रहा है। महाविद्यालय का दबाव है कि असाइनमेंट टाइप करवा कर ही जमा किया जाए।
 
         सिद्धान्त बतरा ने सुधीर शर्मा को बताया है कि महाविद्यालय प्रबंधन के फरमान के बाद छात्रों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। छात्र अपनी मेहनत से असाइनमेंट पूरा कर चुके हैं। उन पर अनावश्यक आर्थिक मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है। यह जानते हुए भी देश का एक एक व्यक्ति कोविड की मार से परेशान है। बावजूद इसके प्रबंधन गरीब अभिभावकों पर  आर्थिक बोझ डाल रहा है।
 
               छात्र नेताओं ने कुलसचिव को बताया कि एक असाइनमेन्ट में 700 से 800 रुपए खर्च होंगे। यह बड़ी राशि है। इसलिए जो छात्र टाइप कराने की स्थिति में नहीं है..राहत देते हुए उनसे  तत्काल हस्त लिखित असाइनमेन्ट जमा करवाने का आदेश कालेज प्रबंधन को दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *