छात्रों की सुरक्षा को लेकर स्कूलों की जवाबदेही तय करने के लिए केंद्र ने जारी की गाइडलाइन, लापरवाही बरतने वालों पर होगी कार्रवाई

दिल्ली।केंद्र ने बच्चों की सुरक्षा के मामले में स्कूलों की जवाबदेही तय करने के लिए नई गाइडलाइन जारी की हैं. गाइडलाइन का पालन नहीं करने पर जुर्माना लगाया जा सकता है. यहां तक कि स्कूलों की मान्यता भी रद्द हो सकती है. कहा गया है कि स्कूलों को एक सुरक्षित बुनियादी ढांचा देने, समय पर चिकित्सा सहायता मुहैया कराने, छात्रों द्वारा रिपोर्ट की गई शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई करने, डराने-धमकाने की रोकथाम करने, शारीरिक दंड भेदभाव और मादक पदार्थों के सेवन का उपयोग रोकने और कोविड-19 दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन कराना होगा.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद एक विशेषज्ञ समिति द्वारा ‘स्कूल सुरक्षा और सुरक्षा पर दिशानिर्देश’ तैयार किए गए हैं. यह आदेश एक छात्र के पिता की ओर से दायर एक रिट पेटिशन के जवाब में आया है. दरअसल, 2017 में गुड़गांव के एक इंटरनेशनल स्कूल में छात्र की हत्या कर दी गई थी, जिसमें स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की सुरक्षा के मामले में स्कूल प्रबंधन की जवाबदेही तय करने के लिए दिशा-निर्देश तैयार करने की मांग की गई थी.

1 अक्टूबर को राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) के साथ शिक्षा मंत्रालय के स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा साझा किए गए दिशानिर्देशों में कहा गया है कि स्कूल प्रबंधन, प्रिंसिपल या स्कूल के प्रमुख के पास बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी है और माता-पिता यह निगरानी करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं कि क्या स्कूल अपनी जिम्मेदारी निभा रहा है. कहा गया है कि जब कोई बच्चा स्कूल में होता है, तो स्कूल का एक बच्चे पर वास्तविक प्रभार या नियंत्रण होता है और यदि स्कूल जानबूझकर बच्चे की उपेक्षा करता है, तो बच्चे को अनावश्यक मानसिक या शारीरिक पीड़ा पहुंचने की संभावना है, इसे किशोर न्याय अधिनियम, 2015 के उल्लंघन के रूप में माना जा सकता है.

सुरक्षित स्कूल वातावरण जरूरी

नई गाइडलाइन में कहा गया है एक सुरक्षित स्कूल वातावरण इसलिए जरूरी है जो सभी खतरों से बचाता है और एक सद्भाव का वातावरण सभी के शारीरिक, सामाजिक-भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक कल्याण को बढ़ावा देता है. इन दिशानिर्देशों को पहले से मौजूद सभी स्कूल सुरक्षा दिशानिर्देशों के अतिरिक्त लागू किया जाएगा.

दिशानिर्देशों में लापरवाही की 11 श्रेणियों की पहचान की गई, जिसके लिए स्कूल प्रशासन को जवाबदेह ठहराया जाएगा. इसमें सुरक्षित बुनियादी ढांचे की स्थापना में लापरवाही, सुरक्षा उपायों से संबंधित लापरवाही, परिसर में उपलब्ध कराए जाने वाले भोजन और पानी के स्तर में लापरवाही, छात्रों को चिकित्सा सहायता प्रदान करने में देरी, एक छात्र द्वारा रिपोर्ट की गई शिकायत के खिलाफ कार्रवाई में लापरवाही, मानसिक-भावनात्मक उत्पीड़न, धराने-धमकाने को रोकने में लापरवाही, भेदभावपूर्ण कार्रवाई, स्कूल परिसर में मादक पदार्थों के सेवन, आपदा या अपराध के समय निष्क्रियता और कोविड-19 दिशानिर्देशों के सख्त कार्यान्वयन में लापरवाही शामिल हैं.

शिकायत का निवारण नहीं होने पर अभिभावक बीईओ से कर सकते हैं संपर्क

दिशानिर्देशों में किशोर न्याय अधिनियम, 2015 और यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण की रोकथाम या POCSO (संशोधन) विधेयक, 2019 की विभिन्न धाराएं भी निर्धारित की गई हैं, जिसके तहत स्कूल प्रशासन को उपरोक्त लापरवाही के लिए जवाबदेह ठहराया जा सकता है. सुझाव दिया गया है कि गैर-अनुपालन के मामले में निजी और गैर-सहायता प्राप्त स्कूलों के अभिभावक-शिक्षक संघ खंड शिक्षा अधिकारी (बीईओ) से संपर्क कर सकते हैं. बीईओ स्तर पर शिकायतों का निवारण न होने की स्थिति में मामले को जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) के साथ उठाया जाना चाहिए, जो इसे जिला कलेक्टर (डीसी) के पास ले जा सकते हैं. डीएम मामले की जांच करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *