पर्यटन मंडल बोर्ड अध्यक्ष का तंज..पूर्व मंत्री बताएं कौन सी योजना..नाम का पर्याय बन गयी..जनता पूछ रही..छज्जा क्यों गिरा

महामंत्री अटल श्रीवास्तव ,congress,bilaspur,news,atal shriwasvata,भाजपा सांसद,छत्तीसगढ़ राज्य, बिलासपुर जिले,
बिलासपुर—-तिफरा फ्लाई ओवर के निर्माण में देरी को लेकर पूर्वमंत्री अमर अग्रवाल की चिंता और चिंतन पर कांग्रेस नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है। कांग्रेस नेताओं ने प्रेस नोट जारी कर कहा है कि पूर्व मंत्री को अपने कार्यकाल के निर्माण में अपनी उपलब्धियों पर एक बार नजर डालने की जरूरत है। उसी के परिणाम है कि जनता ने उनके चिंता और चिंतन पर ब्रेक लगा दिया है।
 
            पर्यटन मण्डल के अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव और जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रमोद नायक ने प्रेस नोट जारी कर तिफरा ओव्हरब्रिज निर्माण में लेट लतीफी को लेकर पूर्व मंत्री अमर के बयान पर कटाक्ष किया है। 
 
            अटल श्रीवास्तव ने कहा कि बयांन देने से पहले अपने 15 वर्षो की उपलब्धि पर जरूर पूर्व मंत्री को जरूर गौर करना चाहिए। शहर की जनता उनके वादे और निर्माण दोनो को अभी तक नहीं भूली है। कांग्रेस नेता ने कहा कि पूर्व मंत्री को अच्छी तरह से मालूम है कि 329 करोड़ से शुरू हुआ सीवरेज प्रोजेक्ट की लागत मूल्य आज क्या है। अब तक पूर्ण क्यो नही हुआ? तुर्काडीह पुल के पांच पाए कितने दिनों में खिसक गये। बहतराई स्टेडियम की क्या स्थिति है?  विकास भवन की लिफ्ट बनते बनते कैसे गिर गया?  अमर अग्रवाल को इस पर भी कुछ बोलना चाहिए। ताकि जनता को भी मालूम हो सके।
 
               पर्यटन मण्डल बोर्ड अध्यक्ष ने बताया कि  न्यायिक अकादमी की बिल्डिंग छत ढालते समय क्यों भरभरा कर गिर गया। जनता को आज भी जवाब का इंतजार है। पूर्व निर्मित तिफरा ब्रिज की स्थिति क्या बयां कर रही है ,इन सभी योजनाओं के ठेकेदार किस पार्टी के है ? जैसे अनेक सौगात पूर्व मंत्री ने इस शहर को दिया है।  कांग्रेस नेता ने कहा कि अमर अग्रवाल को शायद अच्छी तरह मालूम होगा कि  लेटलतीफ होना या पेनाल्टी लगाना भ्रष्टाचार के दायरे में आता है।
 
             ,कांग्रेस नेता ने बताया कि कांग्रेस सरकार ने विलम्ब के लिए कम्पनी पर पेनाल्टी तो लगाई पर पूर्व मंत्री ने अपने ड्रीम प्रोजेक्ट सीवरेज की लेटलतीफ और लागत मूल्य बढ़ने पर क्या कार्यवाही की है। सिम्पलेक्स कम्पनी पर कितने बार और कितनी पेनाल्टी लगाया है। जनता को बताना चाहिए। पूर्वमंत्री को शहर विकास के पहले अपने कार्यकाल के योजनाओ की सूची दीवार में लटका के रखें..अध्ययन करें ,चिंतन करें फिर बयान दे । क्योकि सीवरेज इस शहर में अमर अग्रवाल के पर्याय का दूसरा नाम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *