DPI ने सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया शुरू करने जिला शिक्षा अधिकारियों को दिए ये निर्देश

रायपुर।सहायक शिक्षक भर्ती में कोर्ट से मिली हरी झंडी के बाद नियुक्ति प्रक्रिया अब शुरू हो गयी है। बस्तर और सरगुजा संभाग के साथ कोरबा जिले में सहायक शिक्षकों की भर्ती पर कोर्ट ने रोक हटा दी है, लिहाजा 2700 सहायक शिक्षकों की भर्ती का रास्ता साफ हो गया था, लेकिन अभी जो जानकारी आयी है, उसके मुताबिक सिर्फ 2512 पदों पर नियुक्तियां होगी। अब इस मामले में डीपीआई ने नियुक्ति प्रक्रिया शुरू करने के लिए सभी संबंधित डीईओ को निर्देश जारी कर दिया है।

DPI ने 2512 पदों पर भर्ती का निर्देश डीईओ को दिया है। विभाग की तरफ से जारी निर्देश के मुताबिक चिप्स की तरफ से मेरिट लिस्ट एरेंज की जायेगी, जिसकी भर्ती डीईओ की तरफ से की जायेगी। 25 मई तक प्रक्रिया पूर्ण करने का निर्देश दिया गया है। आपको बता दें कि पिछले दिनों हाईकोर्ट ने बड़ा फैसला देते हुए सरगुजा-बस्तर संभाग के साथ-साथ कोरबा जिले में तृतीय और चतुर्थ श्रेणी की नौकरी में सिर्फ स्थानीय लोगों को ही मौका दिये जाने के आदेश को निरस्त कर दिया था। कोर्ट ने इस अध्यादेश को निरस्त करने का आदेश ये कहते हुए दिया था कि स्थानीयता के आधार नौकरी दिये जाने का अधिकार पर कानून सिर्फ संसद में बन सकता है। सरकार या राज्यपाल इस पर कोई भी कानून नहीं बना सकती है।

2700 सहायक शिक्षकों की भर्ती पर रोक हटी

हाईकोर्ट के निर्देश के बाद 2700 शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता खुला है। 19 मार्च 2019 को पूरे राज्य के लिए सहायक शिक्षकों की भर्ती का विज्ञापन जारी किया गया था। भर्ती प्रक्रिया पूरी होने कौ दौरान जनवरी 2020 में राज्य सरकार के परिपत्र का हवाला देकर कोरबा, सरगुजा व बस्तर संभाग के अभ्यर्थियों ने वहीं के स्थानीय निवासियोंको ही नियुक्ति देने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसमें प्रारंभिक सुनवाई के बाद इन संभागों में सहायक शिक्षकों की नियुक्ति पर रोक लगा दी गयी थी। बाद में स्थानीयों को नियुक्ति देने की अधिसूचना को अलग याचिका से चुनौती दी गयी थी और दोनों याचिकाओं पर एक साथ सुनवाई की गयी । प्रकरण के अंतिम सुनवाई के बाद अन्य याचिकाओं में अधिसूचना को ही हाईकोर्ट ने असैंवाधानिक घोषित कर दिया है। इस फैसले के आधार स्थानीय निवासियों की याचिका निरस्त कर दी गयी है। इस फैसले से 2700 शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता साफ हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *