मेरा बिलासपुर

शहर को दिया जाएगा नया लुक..इसके लिए नागरिकों का फीड बैक जरूरी..एमडी दुदावत ने बताया..तेजी से हो रहा विकास कार्य..इस कालेज में बनाया जाएगा पिंक स्टेडियम

 
बिलासपुर—केंद्रीय आवासन एवं शहरी विकास मंत्रालय भारत सरकार देश भर में इज़ आफ लिविंग इंडेक्स सर्वे अभियान चला रहा है। इसके तहत सिटीजन परसेप्शन सर्वे का काम किया जा रहा है। अभियान  23 दिसंबर तक चलेगा। सर्वे में नागरिक अपना फीडबैक देंगे। सर्वे के माध्यम से मिलने वाले फीडबैक से शहरों में नागरिकों को मिलने वाली सुविधाओं के आकलन किया जाता है। कार्य योजना तैयार किया जाता है। इसी तरह बिलासपुर स्मार्ट सिटी को भी नागरिकों का फीडबैक मायने रखता है। सभी को अपना सुझाव देना चाहिए। बेहतर सुझाव और दिशा से ही हम बेहतर काम करेंगे। यह बातें निगम आयुक्त कुणाल दुदावत ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कही। 
 
                स्मार्ट सिटी मैनेजिंग डायरेक्टर कुणाल दुदावत पत्रकार से रूबरू हुए। एमडी दुदावत ने बताया की भारत सरकार इज ऑफ लिविंग सर्व अभियान चला रहा है। बिलासपुर की जनता को इसमें शामिल होना चाहिए। सर्वे में देशभर के 264 शहर शामिल होंगे। इस बार बिलासपुर  की जनता को सर्वेक्षण में  इज आफ लिविंग इंडेक्स निर्धारण के लिए शहर में उपलब्ध सुविधाओं और सेवाओं को लेकर फीडबैक देंना है। कुणाल दुदावत ने बताया की सर्वे के बाद हासिल डाटा के आधार पर भविष्य की कार्य योजना तैयार किया जाएगा। इसका मुख्य उद्देश्य मूलभूत सुविधाओं का विस्तार कर आमजन का जीवन के स्तर को उठाना है। 
 
                 दुदावत ने बताया कि सर्वे में गुणवत्तापूर्ण जीवन,आर्थिक क्षमता और शहर की व्यवस्थाओं की स्थिरता को लेकर तमाम बिन्दुओं को शामिल किया गया है। इसमें गवर्नेंस, शिक्षा, स्वास्थ्य,स्वच्छता, सुरक्षा, आर्थिक स्थिति, रोजगार, आवासों की उपलब्धता, अबाधित विद्युत आपूर्ति, शहरी परिवहन, प्रदूषण में कमी,सड़क,हरियाली,जैसे बिन्दु प्रमुख हैं। 
 
23 दिसंबर तक दें सकेंगे अपना फीडबैक
 
          पत्रकारों को एमडी ने बताया कि शहर के नागरिकों को अभियान में बढ़चढ़र हिस्सा लेना होगा। फीडबैक 23 दिसंबर तक दें सकेंगे। इसके लिए शहर के महत्वपूर्ण चौक चौराहो पर बैनर,पोस्टर लगाए जाएंगे। साथ ही लोगों को कुछ सवालों का जवाब देना होगा। सभी लोग  https://eol2022.org/CitizenFeedback में जाकर अपना फीडबैक दे सकते हैं। बिलासपुर शहर के लिए फीडबैक देने के लिए यूएलबी कोड 801975 है। कोड डालने के बाद 
सर्वे में पूछे गए सवालों का जवाब देना होगा।
 
नागरिकों का सहयोग चाहिए
 
              पत्रकारों को एमडी दुदावत ने बताया कि शहर के नागरिकों का सहयोग चाहिए। सभी से निवेदन है कि इज़ आफ लिविंग इंडेक्स सर्वे में शा्मिल हों। अपना महत्वपूर्ण सुझाव साझा करें। सर्वे की सफलता नागरिकों की सहभागिता पर निर्भर है।
 
व्यापक स्तर चलाएंगे जागरूकता अभियान
 
         एमडी ने बताया कि हम आम जनता के बीच सहभागिता अभियान चलाएंगे। शहर में होर्डिंग लगाकर लोगों को सर्वे की जानकारी देंगे। जागरूकता अभियान चलाकर आमजन को  करेंगे। सोशल मीडिया में बिलासपुर स्मार्ट सिटी और नगर निगम बिलासपुर के पेज़ के ज़रिए जानकारियों को साझा करेंगे।
 
स्पोर्ट्स कांप्लेक्स 
 
            सवाल जवाब के दौरान दुदावत ने बताया कि 9 करोड़ 78 लाख रूपये की लागत से संजय तरण पुष्कर परिसर में स्पोर्ट्स कांप्लेक्स बनाया जा रहा है। स्पोर्ट्स क्लब में अलग-अलग प्रकार के खेल खेले जाएंगे.। तीन मंजिला कांप्लेक्स के  बेसमेंट में पार्किंग,ग्राउंड फ्लोर में रिसेप्शन और रेस्टोरेंट संचालित किया जाएगा। प्रथम तल में बैडमिंटन और स्क्वैश कोर्ट बनाया जा रहा है। द्वितीय तल में इंडोर गेम्स का आयोजन होगा।  बिलियर्ड्स,शतरंज,कैरम,स्नूकर जैसे खेल खेले जाएंगे। तीसरे फ्लोर में मल्टी एक्टिविटी हाॅल भी बनाया जा रहा है। यहां योगा समेत दूसरे विविध प्रकार की गतिविधियों का संचालन किया जा सकेगा। काम्प्लेक्स में सर्व सुविधायुक्त जिम भी होगा। लेजर स्पाॅ,सोना बाथ,रैन डांस जैसी आधुनिक सुविधा भी उपलब्ध होगी। 
 
पिंक स्टेडियम 
 
             एक सवाल पर उन्होने बताया कि महिलाओं के लिए प्रदेश के पहले पिंक स्टेडियम की सौगात बिलासपुर को मिलने वाली है। बिलासपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड की तरफ से बिलासा गर्ल्स काॅलेज मैदान को पिंक स्टेडियम के रूप में विकसित किया जाएगा। पौने दो एकड़ जमीन में बनने वाली पिंक स्टेडियम में कई  खूबियां रहेगी। पिंक स्टेडियम में खो-खो मैदान,एथलेटिक ट्रैक,इंडोर बैडमिंटन कोर्ट,बास्केटबॉल कोर्ट,वालीबाॅल कोर्ट,कबड्डी मैदान,लांग और हाई जंप ट्रैक,जाॅगिंग ट्रैक,इंडोर जिम। इसके अलावा एक मल्टीएक्टीविटी हाॅल भी बनाया जाएगा। खिलाड़ियों के लिए रेस्ट रूम बनाया जाएगा।
 
मिनी स्टेडियम-स्पोर्टस कांप्लेक्स 
 
                     एमडी ने बताया कि शहर के पुराने और प्रतिष्ठित शासकीय बहुउद्देशीय उच्चतर माध्यमिक शाला “मल्टीपरपज़ स्कूल” के मैदान को संवार कर एक सर्व सुविधायुक्त खेल स्टेडियम के रूप में तैयार किया जा रहा है। बिलासपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड 14 करोड़ 91 लाख रूपये खर्च करेगा। स्टेडियम जून 2023 तक तैयार हो जाएगा।  इनडोर गेम्स के अलावा इनडोर जिम,मेडिटेशन और योगा हाॅल,स्टीम रूम, मसाज और जेक्यूजी जैसी सुविधाएं होंगी।
 
 दूसरे भवन में एक ट्रेनिंग हाॅल का निर्माण किया जाएगा जो खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देने का काम आएगा। अलग से वीआईपी गैलरी,एनाउंसमेंट बॉक्स और कैंटीन भी बनाया जाएगा ताकि मैच देखने पहुंचे दर्शकों को खाने पीने की सुविधा मिल सके। इसके अलावा स्टेडियम में ही 12 कमरे का एक हाॅस्टल बनाया जाएगा जिसमें बाहर से आए खिलाड़ियों के ठहराने की व्यवस्था की जाएगी।  स्टेडियम में क्रिकेट,हाॅकी और फुटबाल के अलावा अन्य खेल भी होगा।
 
सेंट्रल लाइब्रेरी सेकेंड फेस
 
         बिलासपुर संभाग की पहली सेंट्रल लाइब्रेरी में पढ़ने वाले युवाओं की संख्या को देखते हुए बिलासपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने लाइब्रेरी के विस्तार का काम लगभग पूर्ण होने को है। सेंट्रल लाइब्रेरी के ग्राउंड फ्लोर को भी लाइब्रेरी के रूप में तब्दील किया गया है। दूसरे फेस के तहत जल्द ही ग्रांउड फ्लोर में लाइब्रेरी शुरू हो जाएगी। सेंट्रल लाइब्रेरी परिसर में इस समय पाठकों के पढ़ने के लिए अलग-अलग विषयों की ढाई  हज़ार पुस्तकें उपलब्ध हैं। .विस्तार हो जाने के बाद लगभग चार हज़ार पुस्तके बढ़ जाएगी। इसका फायदा प्रतियोगियों के अलावा स्कूल कालेज के छात्र छात्राओं को मिलेगा।
 
फ्रेंडली फूटपाथ 
 
         3 करोड़ 51 लाख रूपये की लागत भारतीय नगर तालाब में संवर्धन और सौंदर्यीकरण का कार्य किया जा रहा है। जिसके तहत तालाब में रिटेनिंग वाॅल,बाउंड्रीवाल, एप्रोच रोड,नाली,एसटीपी,पाथ वे,आकर्षक लाइटिंग,फूड कोर्ट किड्स प्ले एरिया शामिल है। इसी तरह नेहरू नगर में सांई मंदिर से अमेरी की ओर जाने वाले मार्ग का चौड़ीकरण किया जा रहा है। नाला और दिव्यांग फ्रेंडली फूटपाथ बनाया जा रहा है।  नेहरू नगर में गौरव पथ मंगला की ओर जाने वाले मार्ग में 850 मीटर साइकिल ट्रैक,नाली और डिवाइडर का कार्य किया जा रहा है। वेयर हाउस रोड में भी 760 मीटर साइकिल ट्रैक और दिव्यांग फ्रेंडली फूटपाथ का निर्माण किया जा रहा है।
 
अरपा उत्थान एवं तट संवर्धन-
अरपा नदी को संवारने और प्रदूषण से बचाने के लिए अरपा उत्थान एवं तट संवर्धन योजना पर काम किया जा रहा है.योजना की लागत  93 करोड़ 70 लाख रूपये है। जिसमें नदी के दोनों किनारों पर इंदिरा सेतु से शनिचरी रपटा तक 1.80 किलोमीटर की फोरलेन आधुनिक सड़क बनाया जा रहा है। प्रोजेक्ट में नदी के दोनों ओर  फोरलेन सड़क में डिवाइडर के साथ साथ सौंदर्यीकरण भी किया जाएगा।
 
कलेक्टोरेट मल्टीलेवल पार्किंग-
 
कलेक्टोरेट परिसर में लगभग 25 हजार वर्गफीट में मल्टीलेवल कार पार्किंग का निर्माण किया जा रहा है जिसमें आधे से ज्यादा कार्य हो चुका है। 13 करोड़ 99 लाख रूपये की लागत से बनाए जा रहें मल्टीलेवल कार पार्किंग में बेसमेंट और ग्राउंड फ्लोर के अलावा दो फ्लोर और बनाया जा रहा है। 250 कार और 250 बाइक पार्किंग की क्षमता होगी। 
 
 अरपा नदी में एसटीपी और नाला निर्माण 
 
        शहर के निर्माणाधीन बैराज से कोनी और मंगला क्षेत्र से निकलने वाले गंदे पानी को अरपा नदी में जाने से रूकेगा। गंदे पानी को एसटीपी से ट्रीटमेंट कर साफ किया जाएगा। इसके बाद साफ पानी को नदी में छोड़ा जाएगा।
 
                               दुदावत ने पत्रकारों को बताया कि तीन एसटीपी का निर्माण होगा। इसके तहत सात करोड़ 80 लाख की लागत से कोनी स्थित एसटीपी का निर्माण कार्य प्रगति पर है। मंगला में एसटीपी का निर्माण होगा। कोनी से दुग्ध संयंत्र तक नाला और रोड बनाया जाएगा।  19 करोड़ 78 लाख लागत खर्च होंगे।

CG NEWS : सीयू कुलपति प्रो. चक्रवाल ने कहा - आगाज़ बेहतर तो अंज़ाम बेहतरीन होगा
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS