बाप बना बेटे की मौत का कारण..लोगों ने आरोपी को दौड़ाकर पकड़ा..खातिरदारी के बाद पुलिस के हवाले

बिलासपुर-( रियाज़ अशरफी)  सड़क पार कर रहे मासूम विक्रांत का ट्रेलर की चपेट में आने से  ही मौत हो गई है। घटना के बाद परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर 5 लाख मुआवजे की मांग को लेकर 4 घण्टे तक सीपत-बलौदा मार्ग को जाम कर दिया। अतिरिक्त तहसीलदार सीपत पेखन टोंडे ने जब मुआवजा का एलान किया। इसके बाद ग्रामीणों ने दोपहर 1 बजे के बाद  चक्काजाम को खत्म किया। 
 
             मामला सीपत थाना क्षेत्र के ग्राम कुली का है। जांजगीर जिला बलौदा थाना ग्राम बछौद निवासी लखनलाल जगत सोमवार को सुबह पितर खाने के लिए गतौरा को रवाना हुआ। मोटर सायकल से अपनी बहन सुशीला भांजी सरस्वती और 2 साल के बेटे विक्रांत के साथ लीलागर नदी पुल पार करने कर कुली पहुंचा। 
 
                 लखलाल ने सड़क  किनारे अपनी बहन,भांजी और बेटे विक्रांत को रुकने के लिए कहकर ग्राम कुली स्थित धनुहार पारा चला गया। कुछ देर बाद जब लखनलाल जगत वापस आया तो सड़क के दूसरी तरफ बुआ के साथ खड़े 2 साल का विक्रांत पापा आ रहे बोलकर दौड़ते हुए सड़क पर करने लगा। 
 
                             इसी दौरान बलौदा की ओर से कोयला लेकर आ रहे ट्रेलर क्रमांक सीजी 12 एयू -1488 के चपेट में विक्रांत आ गया। चपेट में आने के बाद मासूम विक्रांत की मौके पर ही मौत हो गयी। घटना के बाद चालक ने ट्रेलर लेकर भागने का प्रयास किया। लेकिन ग्रामीणों ने दौड़ाकर पकड़ लिया ।  इसके बाद ग्रामीणों ने ड्राइव्हर की जमकर खातिरदारी कर पुलिस के हवाले किया।  पुलिस ने चालक को गिरफ्तार करअपराध दर्ज किया है। 
 
शराब की लत ने ली बेटे की जान
        
                घटना के चश्मदीदों ने बताया कि लखनलाल जगत आदतन शराबी है। पीतर खाने गतौरा के लिए निकला। लेकिन बीच में सड़क किनारे छोड़कर धनुहारपारा शराब पीने गया।शराब पीकर जब लौट रहा था। बाप को देखकर विक्रांत दौड़ा। इसी दौरान  वह ट्रेलर की चपेट में आ गया। लोगों ने बताया कि यदि लखनलाल बेटा,भांजा और बहन को सड़क किनारे खड़ा कर शराब नहीं जाता तो शायद बच्चा उसकी गौद में हंसता खेलता मिलता।
 
मुआवजे की मांग को लेकर 4 घंटे तक चक्काजाम
 
             घटना के बाद मृतक के परिजन और ग्रामीणों ने तत्काल 5 लाख रुपये के  मुआवजे की मांग को लेकर बीच सड़क में बच्चे का शव रखचक्काजाम कर दिया। सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक करीब 4 घण्टे तक सीपत-बलौदा मार्ग में दोनों ओर वाहनोंकी लम्बी कतार लग गयी। सीपत अतिरिक्त तहसीलदार पेखन टोंडरे मौके पर पहुचकर उग्र ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया।  प्रशासन की तरफ से 25 हजार रुपये देकर ट्रेलर मालिक की ओर से 1 लाख रुपये दिलाने का वादा किया। इसके बाद चक्काजाम बहाल हुआ।
 
यह कैसी व्यवस्था,,,,,पीएम कराने डॉक्टर का इन्ताजार करते रहे परिजन
 
चक्काजाम समाप्त होने के बाद सीपत टीआई हरीश टांडेकर ने बच्चे की शव को पीएम कराने सीपत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्थित मर्चुरी भेजा। बच्चे के माता पिता दिनभर भूखे प्यासे डॉक्टर का इंतजार करते रहे। लेकिन डॉक्टर अस्पताल नही पहुचे।  बताया जा रहा है कि डॉ राजेन्द्र मरावी विभागीय पेशी में बिलासपुर कोर्ट गए हुए थे।अब बच्चे के शव का पोस्टमार्टम अब  मंगलवार को होगा।
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.