दिल्ली में गूंजा बुधवारी बाजार का मुद्दा ..सदन में अरूण ने कहा..पेन्ड्रा के लिए ट्रेन..बिलासपुर को चाहिए कोच फैक्ट्री

न्यूज डेस्क–-सांसद अरुण साव ने लोकसभा में रेल मंत्रालय के अनुदान मांगो पर चर्चा करते बिलासपुर क्षेत्र में लंबित जनहित के मुद्दों को पुरजोर तरीके उठाया है।अरूण साव ने बिलासपुर क्षेत्र समेत छत्तीसगढ़ के लंबित मामलों में तेजी लाने को लेकर बातों को सदन में पेश किया है।
 
बिलासपुर सांसद अरुण साव ने मंगलवार को लोकसभा में रेल मंत्रालय की अनुदान मांगो पर चर्चा करते हुए बिलासपुर क्षेत्र समेत छत्तीसगढ़ के लंबित मामलों को पुरजोर तरीके से उठाया है। सांसद साव ने कहा कि भारतीय रेल आज अपने स्वर्णिम युग में है। आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में भारतीय रेल भी अपनी प्रभावी भूमिका का निर्वाह कर रही है। आज देश की जीवन रेखा, विकास की रेखा के रूप में सार्थक रूप से काम कर रही  है।
 
                अरुण साव ने कहा कि एक समय गंदगी, बदबू, अव्यवस्था, ट्रेनों की लेटलतीफी, आये दिन बड़ी दुर्घटनाएं भारतीय रेल की नियति रही है। 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद प्रधानमंत्री के कुशल मार्गदर्शन और पीयूष गोयल के सक्षम नेतृत्व में आज भारतीय रेल का चहुंमुखी विकास हो रहा है। एक तरफ जहां रेलवे का आधुनिकीकरण तेजी से हो रहा है, वहीं यात्री सुविधाएं एवं सुरक्षा के व्यापक इंतजाम के साथ रेलवे को  गंभीर दुर्घटनाओं से मुक्त बनाने में ऐतिहासिक सफलता प्राप्त हुई है।
 
              अरुण साव ने कहा कि भारतीय रेल आज 69,214  रुट कि.मी. नेटवर्क के साथ अमेरिका, चीन एवं रूस के बाद दुनियां का चौथा बड़ा रेल नेटवर्क है। 1,50,746 ब्रिजेस का निर्माण हो चुका है। भारतीय रेल के पास आज 74,000 से ज्यादा कोचेस के साथ 60,90,238 सीट की व्यवस्था है। देश में आज 22,683 ट्रेन प्रतिदिन चलती है। माल परिवहन में 1 बिलियन टन से अधिक की क्षमता के साथ भारत दुनियां का चौथा देश है। यात्री परिवहन में जापान के बाद दूसरे नंबर पर भारत है।
 
                सांसद ने कहा कि नेशनल रेल प्लान की घोषणा कर 2030 तक के मांग के अनुरूप सुविधाएं उपलब्ध कराने का निर्णय भारतीय रेल की अब तक कि सबसे अहम योजना है। 60 मिलियन टन्स खाद्य पदार्थों की लोडिंग 8 मार्च  तक करके भारतीय रेल ने एक इतिहास बनाया है। इसी तरह फर्टिलाइजर की लोडिंग 52 मिलियन टन्स की गई है। 41 मार्ग में 344 किसान रेल का संचालन कर 1,11,718 टन का परिवहन कर किसानों की आमदनी दुगनी करने की दिशा में बड़ा काम भारतीय रेल ने किया है।
 
                            सदन को सांसद साव ने बताया कि छत्तीसगढ़ में भी रेलवे का विकास एवं रेल सुविधाओं में विस्तार भारतीय रेल की प्राथमिकता में रहा है। 2021-22 के बजट में अधोसंरचना एवं संरक्षा संबंधी कार्यों के लिए बजट में कुल 3650 करोड़ की निधि का आबंटन किया गया है। जो  अब तक का रिकॉर्ड है। इस वर्ष के बजट में ईस्ट-वेस्ट डेडिकेटेड फ्रंट कॉरिडोर की घोषणा भी की गई है।  भुसावल से नागपुर होते हुए दनवुनी तक बनने वाला फ्रंट कॉरिडोर छत्तीसगढ़ से भी गुजरेगा।  क्षेत्र के विकास में बड़ा योगदान करेगा। छत्तीसगढ़ प्रदेश में वर्तमान में कुल 42,083 करोड़ की 2900 किलो मीटर के प्रोजेक्ट्स, योजना अनुमोदन एवं क्रियान्वयन के विभिन्न स्तरों में चल रहे हैं। इसमें 8 नई लाईन, 10 डबलिंग, एवं 1 रेल विद्युतीकरण के कार्य सम्मिलित है।
 
                                   बिलासपुर सांसद ने छत्तीसगढ़ राज्य निर्माता पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को धन्यवाद देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के साथ ही राज्य में विकास की नींव पड़ी। नए राज्य में विकास की नई पहल हुई। साव ने दल्लीराजहरा – रावघाट नई रेल लाईन, रावघाट-जगदलपुर नई रेल लाईन, खरसिया, धरमजयगढ़, कोरबा, गेवरा रोड-पेंड्रा रोड नई रेल लाईन, मंदिर हसौद-नवा रायपुर-केन्द्री नई रेल लाईन परियोजना के कामों में तेजी लाने की  मांग सदन के माध्यम से रेल मंत्री से की। इसी तरह से डोंगरगढ़, खैरागढ़ – कवर्धा-मुंगेली-कटघोरा, खरसिया-बलौदाबाजार-दुर्ग एवं बरवाडी-चिरमिरी के कामों में भी तेजी लाने की आवश्यकता पर बल दिया।
 
    सांसद साव ने रेलमंत्री से बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र में रेल सुविधाओं के विस्तार की मांग की। उन्होंने मंत्री जी को उसलापुर, कोटा, बेलगहना, पेण्ड्रा रोड, बिल्हा, चकरभाठा एवं जयराम नगर में यात्री सुविधाओं की कमी तत्काल दूर करने की आवश्यकता से अवगत कराया।
 
बिलासपुर में कोच फैक्ट्री की स्थापना की मांग
 
                सांसद ने कहा कि बिलासपुर जोन भारतीय रेल का कमाऊ पूत है। यह अधिकतम आय देने वाला रेलवे जोन है। क्षेत्र के विकास एवं युवाओं को रोजगार हेतु बिलासपुर में एक कोच फैक्ट्री की स्थापना आवश्यक है। जिससे क्षेत्र के युवाओं के सपने साकार हो सकें।
 
सदन में गूंजा बिलासपुर बुधवारी बाजार का मुद्दा
 
               सांसद साव ने एक बार पुनः बिलासपुर बुधवारी बाजार के मुद्दे को उठाते हुए कहा कि बुधवारी बाजार बिलासपुर का एक बड़ा बाजार है। लगभग 3 हजार दुकाने रेलवे क्षेत्र में संचालित है, जिससे लगभग 30 हजार परिवारों की आजीविका चलती है। रेलवे न तो उनके लीज का नवीनीकरण कर रही है, और न ही उनसे किराया ले रही है, और ना ही उक्त क्षेत्र में सड़क, नाली आदि मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करा रही है। वर्षो से लोग व्यापारी परेशान हैं, तथा रेलवे का भी करोड़ो का नुकसान हो रहा है। व्यापारियों के लीज का नवीनीकरण करने एवं सड़क आदि का शीघ्र निर्माण किए जाने की मांग की। इसके साथ ही भारतीय रेल के T. S. V. ठेकेदारों की भारी परेशानियों की ओर ध्यान आकृष्ट किया। सांसद ने बिलासपुर – पेण्ड्रा रोड – बिलासपुर लोकल ट्रेन के साथ अन्य ट्रेनों को तत्काल प्रारंभ करने की मांग की।
 
                       सांसद साव ने विपक्ष पर विकास अवरुद्ध करने का आरोप लगाया। उन्होंने कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने छत्तीसगढ़ राज्य की सौगात दी थी। बिलासपुर में रेलवे जोन का निर्माण और हाईकोर्ट की स्थापना भी भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने की। बिलासपुर और जगदलपुर से हवाई सेवा की शुरुआत भी नरेंद्र मोदी के सरकार में ही हुई।
 
                      करोना काल में  मोदी सरकार ने छत्तीसगढ़ के 1 करोड़ 96 लाख जनता को 8 महीने का राशन दिया, 78 लाख बहनों को 1500 रुपये जनधन खाते में डालने का काम मोदी सरकार ने किया, साथ ही मनरेगा के माध्यम से लाखों मजदूरों को रोजगार प्रदान किया गया। उन्होंने छत्तीसगढ़ में चल रही रेल परियोजनाओं का नाम गिनाते हुए कहा कि इन परियोजनाओं के पूर्ण होने से छत्तीसगढ़ के विकास को नई दिशा मिलेगी।
 
                                साव ने  बताया कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन एवं पियूष गोयल के सक्षम नेतृत्व में भारतीय रेल विकास की दिशा में आगे बढ़ रही  है। और भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए अपना भरपूर योगदान दे रही है। देश को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में लेकर जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *