कानून ने भी कह दिया..जोगी नकली आदिवासी..बोले आबकारी मंत्री..महुआ फूल सेनेटाइजर निर्माण की होगी जांच.. भाजपा सरकार बेचती थी नकली शराब

बिलासपुर—- आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा..अब तो कानून ने भी कह दिया जोगी नकली आदिवासी है। जब कानून ने कहा दिया तो हम भी कहेंगे जोगी नकली आदिवासी है। मरवाही रवाना होते समय अल्प प्रवास पर बिलासपुर पहुंचे मंत्री ने पत्रकारों को बताया कि महुआ फूल से सेनेटाइजर निर्माण या आसवन और स्प्रीट खरीदने बनाने की अनुमति विभाग से नहीं दी गयी है। किसी अनुमति और कहां से सेनेटाइजर लाया जा रहा है या आसवित किया जा रहा है। इसका हम पता लगाएंगे। लखमा ने बताया कि मरवाही में इस बार कांग्रेस की जीत निश्चित है।

                       मरवाही प्रस्थान होने के पहले रायपुर से अल्प प्रवास पर आबकारी मंत्री कवासी लखमा छत्तीसगढ़ भवन पहुंचे। इस दौरान उन्होने पत्रकारों के सवालों का जवाब दिया। उन्होने कहा कि पहली बार चुनाव प्रचार में मरवाही जा रहे हैं। वहां की क्या स्थिति है…इसका आकलन करेंगे। हमने विकास कार्य किया है। जनता कांग्रेस को ही जीताएंगी।

पहली बार प्रचार में जा रहा मरवाही

               जोगी परिवार चुनाव से दूर हो गया है। बावजूद इसके जोगी परिवार न्याय यात्रा का एलान किया है। रेणु जोगी आत्मकथा का वितरण कर रही है। चुनाव पर कितना असर पड़ेगा। सवाल के जवाब में लखमा ने कहा कि इसकी जानकारी नहीं है। मरवाही पहुंचने पर सब जानकारी होगी। लखमा ने एक अन्य सवुाल के जवाब में कहा जोगी परिवार को कांग्रेस ने नहीं बल्कि कानून ने चुनाव से बाहर किया है।

              अमित जोगी ने कहा कि पिक्चर अभी बाकी है। इसका क्या अर्थ निकाला जाए। जवाब में लखमा ने कहा कि अमित किस पिक्चर की बात कह रहे हैं। यह बात उन्ही से पूछे। हमें नहीं मालूम किस की बात अमित जोगी कर रहे है। .

महुआ को छोड़ों..अंग्रेजी को पकड़ो

              क्या शासन का निर्देश है कि सिर्फ देशी शराब पकड़ो..अंग्रेजी नहीं। आखिर आबकारी अमला सिर्फ देशी शराब को ही निशाना क्यों बना रहा है। क्या विदेशी शराब को विशेष छूट है। लखमा ने कहा कि कोई निर्देश नहीं है। दोनों को पकड़ो। भले महुआ को कम पकड़ों लेकिन विदेशी शराब के खिलाफ सख्त कार्रवाई करो। 

रमन का आरोप गलत.. दुकानों में बिक रही असली शराब

                       रमन सिंह का आरोप है कि दुकानों से 30 प्रतिशत शराब अवैध रूप से बिक रही है। इसमें सरकार की मिली भगत है। जवाब में लखमा ने कहा कि भाजपा के लोग आरोप लगाने में माहिर है। लेकिन आरोप निराधार है। लखमा ने रमन के आरोप को दरकिनार करते हुए कहा कि भाजपा के शासन में दुकानों से पानी मिलाकर शराब बेचा जाता था। कांग्रेस सरकार में दुकानों से असली दारू मिल रहा है। एक दो जगह कुछ लोगों ने गलती की थी। उनके खिलाफ कार्रवाई हुई है। 

               लखमा ने बताया कि जोगी के चुनाव से बाहर होने से कांग्रेस के लिए चुनाव आसान हो गया है। चाहे कोई भी यात्रा जोगी निकाले हम जीतेंगे। 

जोगी नकली आदिवासी..कानून ने भी बताया

              जोगी को चुनाव से निकाला गया सही या गलत है। सवाल के जवाब में आबकारी मंत्री ने कहा कि जोगी को कांग्रेस पार्टी ने नहीं निकाला है। जोगी को कानून ने और चुनाव आयोग ने निकाला है। लखमा ने कहा कि कानून ने कह दिया है कि जोगी असली आदिवासी नहीं है। सबको मालूम हो गया है। आदिवासी बनकर चुनाव लड़ते थे। अब कानून ने कहा दिया है कि जोगी असली आदिवासी नहीं है। तो हम भी मानते हैं कि जोगी आदिवासी नहीं है। 

              लखमा ने चुनाव के दौरान प्रशासन के दुरूपयोग के सवाल को खारिज कर दिया। उन्होने कहा कि भाजपा के आरोप में दम नहीं है। चुनाव के दौरान छोटी मोटी घटना होती रहती है। 

बृजमोहन के आरोप से इंकार

             पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस सरकार हार से डर रही है। विधायक मंत्री, संगठन के बड़े नेताओं को बूथ कार्यकर्ता बनाकर मैदान में उतारा गया है। लखमा ने कहा कि गलत बात है। एक सीट के लिए चुनाव है। सबका ध्यान रहता है। पूरे का चुनाव होता तो कोई नहीं जाता। लखमा ने कहा कि मरवाही में सभी मंत्री नहीं है। कुछ मंत्री मध्यप्रदेश में प्रचार करने गए है। संगठन तो चुनाव मैदान में रहेगा ही। 

महुआ सेनेटाइज की अनुमति नहीं..जांच का आदेश

                           क्या आबकारी विभाग से फारेस्ट को महुआ आसवित कर सेनेटाइजर बनाने का आदेश दिया है। लखमा ने साफ इंकार किया कि ऐसा कोई आदेश विभाग से जारी नहीं किया गया है। उन्होने कहा कि ना ही सेनेटाइजर के लिए स्प्रिट निर्माण की अनुमति भी नहीं दी गयी है। खरीदने का भी आदेश नहीं दिया है। आवसन करने का आदेश दिए जाने का सवाल ही नहीं उठता है। किसके आदेश से आसवन, स्प्रिट का निर्माण किया जा रहा है..मामले की जांच कराएंगे। लखमा ने कहा कि बिना अनुमति कोई भी व्यक्ति या संस्था स्प्रिट की खरीदी या निर्माण नहीं कर सकता है। पांच लीटर तक ही आदिवासी अपने उपयोग के लिए महुआ आसवन से शराब बना सकता है। लेकिन खरीदी बिक्री नहीं कर सकता है। यदि फारेस्ट विभाग बिना अनुमति स्प्रिट बनाता या खरीदता है तो गलत है। हम जांच कराएंगे। महुआ फूल का आसवन करने की अनुमति किसी को नहीं दी गयी है।

जांच पड़ताल कर जानकारी दें

                  सवाल जवाब के बाद आबकारी मंत्री कवासी लखमा ने आबकारी सहायक आयुक्त नीतू नोतानी को बुलाकर जांच पड़ताल करन को कहा। साथ ही गलत पाए जाने पर कार्रवाई का निर्देश दिया। लखमा ने बताया कि जीएसटी की सेनेटाइजर निर्माण में भूमिका अलग है। सवाल स्प्रिट बनाने और खरीदने की बात की है। इसलिए जांच पड़ताल करें। 

                 इस दौरान प्रदेश कांग्रेस सचिव विवेक वाजपेयी ऊर्फ चीका, जिला कांग्रेस अध्यक्ष विजय केशरवानी, कांग्रेस जिला प्रवक्ता ऋषि पाम्डेय और अन्य कांग्रेसी मौजूद थे।                                    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *