भतीजा ने चाचा और चाची को उतारा मौत के घाट..सुबह हत्या की जानकारी शाम होते पकड़ाए दोनो आरोपी..आरोपी ने बताया..चाचा नशा करने से रोकता था

बिलासपुर— सोमवार की सुबह चिल्हाटी धनवारपारा निवासी धनीराम यादव ने थाना सरकंडा पहुंचकर बताया कि गांव से कुछ दूर नदी के पास उसका छोटा भाई तीरथ राम यादव अचेत अवस्था में पड़ा है। सिर से खून निकल रहा है। घर में उसकी पत्नी भी घायल अचेत अवस्था में है। दोनों पर किसी ने प्राणघातक हमला किया है। खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। जांच पड़ताल में दोनों मृत पाए गए। पुलिस ने मामले की जानकारी पुलिस कप्तान को दी। अज्ञात आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर छानबीन शुरू हुई। और शाम होते ही दोहरे हत्या के आरोप में मृतक के भतीजे समेत उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

                    अब से कुछ देर पहले ही सरकन्डा थाना में पुलिस के आलाधिकारियों ने चिल्हाटी में सुबह दोहरे हत्याकाण्ड का खुलासा किया है। पुलिस ने हत्याकाण्ड का खुलासा करते हुए बताया कि सोमवार सुबह चिल्हाटी निवासी धनीराम यादव थाना पहुंचकर बताया कि उसका छोटा भाई लहुलुहान गांव से दूर नदी के पास घायल अवस्था में पड़ा है। घर लौटकर मामले की जानकारी पत्नी को दी। इसके बाद जब हम दोनों तीरथ के घर गए तो उसकी पत्नी कुमारी यादव भी लहुलुहान अचेत अवस्था में मिली।

                  पुलिस को धनीराम ने बताया कि दोनों को देखने के बाद सीधे थाना शिकायत करने आया है। घटना की जानकारी मिलते ही सरकन्डा पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची। पुलिस ने जांचपड़ताल में पाया कि तीरथ राम यादव और उसकी पत्नी का किसी ने धारदार हथियार से हत्या कर दिया है। मामले की जानकारी तत्काल पुलिस कप्तान को दी गयी।

                   खबर मिलते ही पुलिस कप्तान ने तत्काल आरोपी को पकड़ना का आदेश दिया। छानबीन के बीच जानकारी मिली कि मृतक का भतीजा 4 अक्टूबर की शाम अपने दोस्त के साथ तीरथ राम के घर गया था। इसके बाद वह दिखाई नहीं दिया है।

             इसके बाद पुलिस ने तीरथराम यादव के भतीजा की तलाश शुरू की। घेराबन्दी कर मुक्कु ऊर्फ मुकेश यादव को पकड़ा गया।

                        पुलिस की प्रारम्भिक पूछताछ में मुकेश ने घटना के बारे में पहले तो कुछ भी जानकारी होने से इंकार किया। कड़ाई से पूछताछ किए जाने पर मुकेश जल्द ही टूट गया। मुकेश ने पुलिस को बताया कि चाचा तीरथ राम छोटी छोटी बातों को लेकर डांटता था। शराब पीने के लिए मना करता था। एक दिन पहले 4 सितम्बर की शाम करीब 7 बजे अपने साथी से शराब पीने के लिए मंगाया। चाचा ने शराब मंगाते देख लिया।

                     इसके बाद चाचा ने उसे डांटा और दो थप्पड़ भी मारा। बावजूद इसके वह साथी के साथ शराब पीया। नशा चढ़ने के बाद रात्रि दस बजे टंगिया लेकर चाचा के घर गया। चाची ने बताया कि मछली पकड़ने नदी गए है। इसके बाद वह साथी के साथ नदी की तरफ गया। रास्ते में चाचा पर टंगिया से हमला कर मौत के घाट उतार दिया।

               घटना के बाद वह चाचा के घर आया। और चाची को भी टंगिया के वार से मार डाला। चाची की हत्या के बारे में मुकेश ने बताया कि वह नहीं चाहता था कि चाचा को मारने से पहले चाची से मिला था। यदि चाची बच जाएगी तो वह पुलिस को सब कुछ बता देगी।

                          आरोपी ने पुलिस को जानकारी दी कि चाचा और चाची की हत्या के बाद टंगिया को झाड़ी में फेंक दिया है। पुलिस ने मुकेश की निशानदेही पर झाडी से टंगिया को बरामद कर हत्या में शामिल उसके साथी रोहित यादव को गिरफ्तार कर लिया। दोनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 और 307 के अपराध में गिरफ्तार कर लिया गया है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...