मेरा बिलासपुर

अधिकारी ने ऑनलाइन सट्टा में उड़ाया दो करोड़…रेलवे के खाते से निकाला रूपया..विजीलेन्स टीम ने मामला पुलिस के हवाले किया

रोहित पालीवॉल पर पुलिस ने कसा शिकंजा..उड़ा दिया सरकारी धन

बिलासपुर—जुआ की लत का शिकार रेलवे अधिकारी ने रेलवे के खाते से आनलाइन सट्टा में दो करोड़ रूपया उड़ा दिया। मामला सामने आने के बाद रेलवे प्रशासन ने पुलिस के हवाले कर दिया है। जुआ की लत का शिकार रेलवे अधिकारी रोहित पाल रायपुर रेलवे मंडल में कार्यालय अधीक्षक के पद पर है। नेट बैंकिंग के जरिए अलग अलग सरकारी खातों से रूपया आनलाइन सट्टा में लगाया। और दो करोड़ रूपया हार गया।
  पुलिस से हासिल जानकारी के अनुसार रोहित पालीवाल रायपुर रेल मंडल में वर्कशॉप प्रबंधक के पद पर कार्यरत है। विभाग में रोहित पालीवाल अपने कई आदतों को लेकर विख्यात है। इसमें एक आदत आनलाइन सट्टा खेलने का भी है। शौक को पूरा करने रोहित ने रेलवे की सरकारी खाते में जमा रूपयों का जमकर उपयोग किया। लेकिन इसकी भनक विभाग के अधिकारियों को भी नहीं लगी कि रोहित आनलाइन सट्टा में रूपया लगा कहां से रहा है। 
         इसी बीच अन्य अधिकारियों ने देखा कि खाते में मात्र चार हजार रुपए ही बचे है। इसके बाद विभाग में हड़कम्प मच गया। तब तक रोहित पालीवाल करीब दो करोड़ रुपए आनलाइन सट्टा में हार चुका था। रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार वर्कशॉप प्रबंधक के खाते से 2 करोड़ रुपये निकालने वाला रोहित बेहद शातिर है। उसने नेट बैंकिंग के जरिए रेलवे के खातों से आनलाइन सट्टा खेला। शौक को पूरा करने अपने करीबियों के खातों का भी इस्तेमाल किया।
 रोहित कार्यालय अधीक्षक के पद पर कार्यरत है। उसको अच्छी तरह जानकारी थी कि किस विभाग के खाते में कितना रूपया जमा है। नेट बैंकिंग का पासवर्ड मालूम होने के कारण उनसे खाते से समय समय पर रकम निकलता रहा। इसके चलते इस बात की भनक किसी को भी नहीं हुई।
 खाते में मात्र चार हजार होने की जानकारी के बाद रेलवे प्रबंधन ने मामले को रेलवे विजिलेंस के हवाले कर दिया। जांच पड़ताल के दौरान विजीलेन्स की टीम ने पाया कि पैसों का ट्रांजैक्शन रोहित पालीवाल के खाते से हुआ है। जानकारी के बाद रेलवे प्रशासन ने विजिलेंस की रिपोर्ट को पुलिस के हवाले कर उचित कार्रवाई करने को कहा। पुलिस ने जांच पड़ताल में पाया कि रोहित का ट्रांसफर वैगन रिपेयर वर्कशाप से दूसरे विभाग मे किया गया है। बावजूद इसके उसने रायपुर रेल मंडल के वैगन रिपेयर वर्कशॉप में ही रहकर काम कर रहा है।
बहरहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर रोहित पालीवाल को पकड़ा है। पुलिस का दावा है कि घोटाले में कुछ और भी अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध है। जल्द ही सभी को तलब कर उचित कार्रवाईको अंजाम दिया जाएगा।

ग्रामीणों ने कहा...फोरलेन से उजड़ गया घर...सरकार मकान बनाकर दे..अन्यथा नहीं छो़ड़ेंगे स्थान
Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS