video..साढ़े 7 लाख की उठाईगिरी का घुटकू कनेक्शन..पढें..भिखारिनों तक कैसे पहुंची पुलिस

बिलासपुर—अक्सर लोग कहते हैं कि हमारी पुलिस फिल्मी है..फिल्मी मतलब घटना के बाद और बहुत बाद पुलिस मौके पर पहुंचती है। लेकिन शनिवार को बिलासपुर पुलिस की कार्यशैली के बाद लोग अब कहने को मजबूर होंगे कि पुलिस घटना के बाद नहीं…बल्कि पहले भी पहुंचती है..और अपराधियों के मंसूबों को जवान होने से पहले ही जेल तक पहुंचाती है। जी हां बिलासपुर पुलिस ने ऐसा ही कुछ किया है।

               शनिवार की सुबह करीब साढ़े दस बजे लोधीपारा में वर्तन व्यापारी जयराम अग्रवाल दुकान में बैठे थे। ठीक उसी समय कुछ नाबालिग बच्चों के साथ तीन चार महिलाएं भीख मांगने पहुंचीं। महिलाएं दुकान के अन्दर दाखिल हो गयी। भीड़ को भगाने के लिए जयराम  अग्रवाल ने कुछ पैसे दिए। इसके बाद भिखारिन अपनी टीम के साथ चली गयी।

                           इसी दौरान जयराम ने महसूस किया कि भिखारियों की टीम कुछ जल्दी ही आंख से ओझल हो गयी है। यह सोचते हुए उन्होने देखा कि काउन्टर पर रखा नोटों से भरा बैग नहीं दिखाई दे रहा है। इसके बाद उन्हें समझने में देर नहीं लगी कि भिखारियों की टीम ने बैग के साथ साढ़े सात लाख रूपया पार कर दिया है। उन्हे समझने में देर नहीं लगी कि जब महिलाएं दुकान के अन्दर दाखिल हुई उस समय एक नाबालिग काउन्टर से चिपका था। और उसी ने जाते समय नोट से भरे बैग पर हाथ साफ किया है।

                 फिर क्या था…आनन फानन में जयराम अग्रवाल ने एडिश्नल एसपी उमेश कश्यप को जानकारी दिया। उमेश कश्यप ने तत्काल सरकन्डा सीएसपी स्नेहिल साहू को सूचित किया। खबर मिलते ही सरकन्डा पुलिस थानेदार परिवेश तिवारी की अगुवाई में घटला स्थल पहुंची। जांच पड़ताल के दौरान पीड़ित ने रिपोर्ट दर्ज कराया। ठीक उसी समय उमेश कश्यप ने सीएसपी स्नेहिल साहू को बताया कि इस प्रकार की उठाईगिरी महाराष्ट्र और बालाघाट क्षेत्र में रहने वाले लोग करते हैं। इसलिए पुलिस टीम को तत्काल रेलवे स्टेशन रवाना किया जाए। 

                       उमेश कश्यप ने बताया कि सरकन्डा पुलिस ने स्नेहिल साहू के निर्देश पर लोधीपारा स्थिल दुकानों के आस पास खड़े रहने वाले आटो चालकों से महिलाओं की हुलिया को लेकर पूछताछ करने लगी। इसी दौरान ई आटो चालक ने बताया कि महिलाओं की एक झुण्ड सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन की जानकारी मांग रही थी। हमने महिलाओ को बताया कि लोधीपारा से सबसे नजदीक रेलवे स्टेशन घुटकू है।

               खबर के बाद तत्काल पुलिस टीम को घुटकू रेलवे के लिए रवाना किया गया। एडिश्नल एसपी ने बताया कि अक्सर इस प्रकार की घटना के बाद आरोपी रेलवे और बस स्टेशन जाते हैं। इसलिए बिलासपुर रेलवे स्टेशन और तिफरा बस स्टैण्ड में नाकाबन्दी कर आरोपियों की पतासाजी शुरू की गयी। इस बीच घुटकू पहुंची टीम ने बताया कि तीन महिलाओं समेत एक नाबालिग को पकड़ा गया है। महिलाओं के पास से नोट से भरा बैग बरामद किया गया है।

             महिलाओं और नाबालिग से  सरकन्डा थाना लाने के बाद पूछताछ हुई। सभी ने आरोप कबूल किया। उमेश ने बताया कि जब पीड़ित रिपोर्ट दर्ज करवा रहा था..तब तक पुलिस जवानों ने आरोपियों को घुटकू रेलवे स्टेशन से हिरासत मे ले लिया था। उठाईगिरी की जानकारी के ठीक चालिस मिनट के अन्दर तीन महिलाओं समेत एक नाबालिग को उठाईगीरी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *