पर्यटन बोर्ड अध्यक्ष ने कहा..तीनों धार्मिक पहाड़ियों का होगा विकास..विकास कार्यों का लिया जायजा .बैठक कर बताया.पर्यटन को दिया जाएगा बढ़ावा..

बिलासपुर—पर्यटन मण्डल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव डोंगरगढ़ पहुंचकर माँ बमलेश्वरी का दर्शन किया। इस दौरान उन्होने माता से प्रदेश देश के लिए शांति की कामना की। साथ ही अधिकारियों के साथ बैठक कर पर्यटन विकास को लेकर विस्तार से बातचीत की है। अटल श्रीवास्तव ने प्रसाद योजना का भी निरीक्षण किया।
 
             छत्तीसगढ़ पर्यटन मण्डल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव एक दिवसीय प्रवास पर डोंगरगढ़ पहुंचे। चैयरमैन ने  माँ बमलेश्वरी के दर्शन कर छत्तीसगढ़ और बिलासपुर के लिए अमन चयन की दुआ मांगी। साथ ही डोंगरगढ़ में र्यटन विकास के अंतर्गत चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया। उन्होने बम्लेश्वरी मंदिर का विकास, प्रज्ञागिरी ट्रस्ट, चन्द्रगिरी ट्रस्ट, मां बम्लेश्वरी ट्रस्ट पर्यटन विभाग के कार्यों का निरीक्षण किया। 
 
                अधिकारियों के साथ बैठकर डोंगरगढ़ में आसपास के तीनों धार्मिक रूप से प्रसिद्ध  पहाड़ियों पर चर्चा कर विकसित सुविधा दिए जाने की बात कही।  की। उन्होने बताया कि बौद्ध धर्म का प्रज्ञागिरी, जैन धर्म का चन्द्रगिरी और मां बम्लेश्वरी ट्रस्ट तीन पहाड़ियों पर स्थित है। तीनों पहाड़ियों को जोड़कर जल विहार केन्द्र, सुगम पहुंच मार्ग और विदेशी पर्यटकों के लिए आवास की व्यवस्था का निर्माण किया जा रहा है।
 
           अटल ने राज्य सरकार के सहयोग से केन्द्र सरकार की संचालित प्रसाद परियोजना का  जायजा लिया। बताया परियोजना पर 44 करोड़ रूपये खर्च किया जाएगा। तेजी से कार्य चल रहे कार्य को देखने के बाद चैयरमैन ने संतोष जाहिर किया। इस दौरान अटल श्रीवास्तव ने पर्यटन विभाग के अधिकारी, स्थानीय एस.डी.एम. और डोंगरगढ़ नगर पालिका के अधिकारियों, विधायक भुवनेश्वर बघेल, जिला सहकारी बैेक अध्यक्ष नवाज खान, डोंगरगढ़ नगर पालिका अध्यक्ष सुदेश मेश्राम की उपस्थित में जरूरी दिशा-निर्देश दिये। , विधायक भुवनेश्वर बघेल, जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष नवाज खान ने तीनों पहा़ड़ियों के पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के अनेक सुझाव दिये। साथ ही प्रस्ताव भेजने की बात कही। 
 
               जानकारी देते चलें कि मां बम्लेश्वरी के दर्शन के लिए प्रतिवर्ष 18 से 20 लाख लोग डोंगरगढ़ पहुंचते हैं। छत्तीसगढ़ प्रदेश के अलावा महाराष्ट्र समेत अनेक प्रांतों के लोग माता के दरबार में पहुंचकर अपनी आस्था और विश्वास को जाहिर करते हैं। वहीं प्रज्ञागिरी ट्रस्ट में बौद्ध धर्म के अनुयायी देश और विदेश से बड़ी संख्या में आते हैं। चन्द्रगिरी पर्वत में पूरे देश से जैन धर्म के लोग एकत्रित होते हैं।
 
                    पर्यटन मण्डल अध्यक्ष ने सभी श्रद्धालुओं के लिए समुचित व्यवस्था करने का निर्देश दिया।उन्होने कहा कि  प्रसाद परियोजना के पूरे होने से लगभग 700 लोगों के रहने की व्यवस्था, मेडिटेशन हॉल और सामुदायिक धर्मशाला तैयार हो जायेगी।

              पर्यटन मंडल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव के पहुंचने पर विधायक भुवनेश्वर बघेल, सहकारी बैंक अध्यक्ष नवाज खान, नगर पालिका अध्यक्ष सुदेश मेश्राम सहित बड़ी कांग्रेसजनों ने स्वागत किया।  डोंगरगढ़ के बाद पर्यटन मंडल अध्यक्ष राजनांदगांव एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *