कलेक्टर जनदर्शन में संबंधित विभागों से प्राप्त हुए कुल 43 आवेदन,आला अधिकारियों के फरमान बेअसर

रामनुजगंज(पृथ्वीलाल केशरी) जिला मुख्यालय बलरामपुर में आयोजित कलेक्टर जनदर्शन में कुल 43 आवेदन प्राप्त हुए। जिसमें से स्कूल में गुणवत्ता विहिन भोजन देने,भूमि कब्जा दिलाने,लोक सेवा केन्द्र की लाइसेन्स प्रदान करने,आंख की इलाज के संबंध में,जिगड़ी संकुल संगठन को मदरसा संकुल के लिए नहीं देने,जाति प्रमाण पत्र जारी करने,भू-अर्जन तैयार कर मुआवजा राशि प्रदान करने,स्कूल निर्माण गलत खसरा नम्बर में होने से सुधार करवाने,वनभूमि पट्टा, निजी आवास निर्माण हेतु सहयोग प्रदान करने,हल्का पटवारी द्वारा अनावश्यक रूप से परेशान करने, आर्थिक सहायता,बंदोबस्त के दौरान हुई गलती को सुधार करवाने,अवैध अहाता निर्माण पर रोक लगाने, भूमि वापसी के संबंध में,स्वामी आत्मानंद स्कूल में प्रवेश दिलाने से संबंधित आवेदन पत्र प्राप्त हुए। इसी प्रकार पर्यवेक्षक की मानदेय रोके जाने के संबंध में, जमीन विवाद,भूमि की अवैध कब्जे पर दावा-आपत्ति, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता नियुक्ति नहीं होने,ग्राम सभा में पंचायत सचिव द्वारा कोई सूचना नहीं देने,शासकीय उद्यान में नियमित रोजगार उपलब्ध कराने,शौचालय निर्माण कार्य का भुगतान नहीं होने,सर्पदंश से मृत्यु होने पर पीड़ित परिवार को सहायता राशि नहीं मिलने, ऋण पुस्तिका का द्वितीय प्रति प्राप्त करने,पशुहानि की मुआवजा राशि नहीं मिलने से संबंधित आवेदन प्राप्त हुए थे। कलेक्टर विजय दयाराम के.ने संबंधित विभाग के अधिकारियों से प्राप्त आवेदनों पर आवश्यक कार्यवाही करते शीघ्र निराकरण करने के निर्देश दिये।

कलेक्टर के लाख निर्देश के बाद भी नहीं हो रहा निराकरण

आम जनता की समस्याओं को लेकर बलरामपुर कलेक्टर द्वारा टीएल के बैठक सहित अन्य बैठकों में विभागीय प्रमुख की समीक्षा बैठक में लगातार जनता से जुड़ी समस्याओं का निराकरण करने हेतु प्रत्येक सप्ताह निर्देशित किए जा रहे हैं बावजूद इसके आम जनता की समस्या ज्यो कि त्यों बरकरार रहरही हैं। यही मुख्य कारण है कि कलेक्टर जनदर्शन में सबसे अधिक राजस्व विभाग से संबंधित आवेदन पहुंच रही है पटवारियों की लापरवाही से राजस्व विभाग आए दिन सुर्खियों में रह रहा है यदि इन मनमानी करने वाले पटवारियों पर लगाम नहीं लगाया गया तो विभाग की बदनामी निश्चित ही होती रहेगी और जिले की जनता इसी तरह हमेशा परेशान नजर आते रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *