मेरा बिलासपुर

टीएस ने ठोका प्रदेश के दूसरे AIIMS पर दावा…केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री को लिखा पत्र..कहा..बिलासपुर का पहला अधिकार

बिलासपुर में प्रदेश का दूसरा AIIMS खोले जाने की मांग

बिलासपुर— प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखकर बिलासपुर के लिए प्रदेश के दूसरे एम्स को लेकर दावा ठोका है। अपने पत्र में प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री ने बिलासपुर में एम्स खोले जाने का तर्क भी दियाहै। उन्होने कहा है कि बिलासपुर आबादी के अनुसार प्रदेश का दूसरा सबसे बड़ा संभाग और शहर है। ऐसी सूरत में यदि प्रदेश को दूसरा एम्स दिया जाता है तो सबसे पहला अधिकार बिलासपुर का है। क्योंकि रायपुर से जितना दूर जगदलपुर है। उतना ही दूरी बिलासपुर से कमोबेश सरगुजा संभाग की  भी है। यदि बिलासपुर को एम्स दिया जाता है तो राजधानी की तरह न्यायधानी के साथ न्याय होगा।

 प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने केन्द्रीय मंत्री मनसुख मंडावी को बिलासपुर में एम्स खोले जाने को लेकर पत्र लिखा है। सिंहदेव ने केन्द्रीय मंत्री को बताया कि छत्तीसगढ़ पांच संभाग वाला राज्य है। राज्य के उत्तर में सरगुजा और दक्षिण में बस्तर संभाग है। दोनों की दूरी राजधानी से कमोबेश तीन सौ किलोमीटर से ज्यादा है। केन्द्र सरकार यदि राज्य में एम्स खोले जाने पर विचार कर रही है तो उस पर पहला अधिकार बिलासपुर का है। यदि बिलासपुर में एम्स खोला जाता है तो जनआंकाक्षओं की जीत होगी।

पत्र में स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि बिलासपुर जिला और संभाग मुख्यालय है। शहर मुम्बई हावड़ा प्रमुख रेल मार्ग पर बसा है। यहां वायु सेवा और विकसित सड़क मार्ग भी है। उत्तर में सरगुजा के सभी जिला बिलासपुर से जुड़े हुए हैं। बिलासपुर संभाग समेत सरगुजा संभाग के लोगों को उच्च चिकित्सा के लिए अधिक दूरी तय कर रायपुर जाना पड़ता है। जाहिर सी बात है कि खर्च के साथ ही मरीजों की जिन्दगी दांव पर होती है। जनसंख्या के  हिसाब से भी बिलासपुर रायपुर के बाद दूसरा बड़ा जिला और शहर है। संभाग में करीब एक करोड़ लोगो का घर है।

तालाबंदी के बीच रिकॉर्ड,दुकान खुली..और पहले ही दिन कुछ घंटों में बिक गई 25 करोड़ की शराब

यदि बिलासपुर में AIIMS स्थापित किया जाता है तो इसका फायदा बिलासपुर जिला समेत मुंगेली, कोरबा, रायगढ़, जांजगीर चांपा,गौरेला पेन्ड्रा मरवाही को होगा। इसके अलावा एम्स खुलने का फायदा सरगुजा संभाग के सभी 6 जिले और सीमावर्ती राज्य उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, झारखण्ड और ओडिशा के जिले के लोगों को भी होगा।

बिलासपुर के पास एम्स की नजर से जमीन समेत सभी संसाधन है। सिंहदेव ने पत्र में यह भी बताया कि जगदलपुर में शासकीय चिकित्सालय महाविद्यालय के अलावा सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल,कांकेर में नवीन मेडीकल कालेज और अस्पताल संचालित है। इसलिए बिलासपुर में प्रदेश को मिलने वाला दूसरा एम्स का खोला जाना जरूरी है। निवेदन है कि छत्तीसगढ़ की भौगोलिक स्थिति और उत्तर छत्सीगढ़ समेत अन्य राज्यों को ध्यान में रखते हुए बिलासपुर में AIIMS का खोलो जाना उचित होगा।

 

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS