VIDEO-केन्द्रीय विश्वविद्लाय कुलपति निज सचिव ने कहा-मैडम को,फालतू लोगों से मिलने के लिए फालतू समय नहीं..छात्र नेताओं से किया दुर्व्यवहार

बिलासपुर—-सेशन शुरू होने के साथ ही केन्द्रीय विश्वविद्यालय से एक बार फिर छात्र परिषद और प्रबंधन के बीच विवाद का नया मामला सामने आया है। विश्वविद्यालय खुलने से पहले 2 मार्च को छात्र परिषद पदाधिकारी छात्र हित में तीन सूत्रीय मांग को लेकर कुलपति से मिलने पहुंचे। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियो ने छात्र पदाधिकारियों के साथ ना केवल दुर्व्यवहार किया। बल्कि निज सचिव  सूरज मेहर ने कहा कि कुलपति के पास छात्रों से मिलने का फालतू समय नहीं है। इतना सुनते ही छात्र नेताओं ने हंगामा शुरू कर दिया।
 
                        केन्द्रीय विश्वविद्यालय खुलने से पहले छात्र हितों को ध्यान में रखकर विश्वविद्यालय छात्र परिषद अध्यक्ष उपाध्यक्ष और अन्य पदाधिकारी 2 मार्च को सुबह 10 बजे कुलपति से मिलने पहुंचे। छात्र प्रतिनिधियों ने आरोप लगाया कि इसी दौरान विश्वविद्यालय अधिकारियों ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया। बार बार अनुरोध के बाद भी अधिकारियों ने छात्र परिषद पदाधिकारियों को कुलपति से नहीं मिलने दिया गया। जबकि छात्र नेता कहते रहे कि उन्हें मिलने के लिए पांच मिनट का समय दिया जाए। ताकि छात्रों के हितों से जुड़े मांगों को कुलपति के सामने रख सकें।
 
               छात्र नेता सचिन गुप्ता ने बताया कि छात्र परिषद ने सामुहिक निर्णय लेते हुए कुलपति के सामने तीन बिन्दुओं को छात्र हित में रखना चाहते थे। इसमें प्रमुख रूप से विश्वविद्यालय में अध्ययन करने वाले प्रथम वर्ष के छात्रों के परीक्षा फॉर्म संबंधी नामांकन क्रमांक और अनुक्रमांक उपलब्ध कराने की बात थी। हम कुलपति से मिलकर बताना चाहते थे कि विश्वविद्यालय खुलने से पहले संपूर्ण क्षेत्र में सेनेटाइजेशन व्यवस्था की मांग को रखना चाहते थे।
 
         सचिन गुप्ता ने बताया कि वैश्विक महामारी के दौरान छात्रों की पढ़ाई को बहुत नुकसान हुआ है। कोरोना के दौरान विश्वविद्यालय ने यूजीसी दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया। इसलिए शैक्षणिक क्षति की पूर्ति करने छात्रों को 15 प्रतिशत अतिरिक्त अंक देने की मांग कुलपति के सामने रखना था। लेकिन अधिकारियों ने कुलपति से मिलने ने दिया। 
 
                  छात्र नेता ने कहा कि यद्यपि इस बीच छात्र कल्याण डीन प्रोफेसर एमएन त्रिपाठी ने आश्वासन दिया कि जल्द ही एकेडमी काउंसिल के समक्ष छात्र प्रतिनिधियों को बात रखने का मौका दिया जाएगा। लेकिन कुलपति के निज सचिव ने ऐसा कुछ भी करने से इंकार कर दिया। उन्होने छात्रों को अपमानित करते हुए कहा कि कुलपति कि मैडम से मुलाकात का सवाल ही नहीं उठता है। क्योंकि वीसी के पास फालतू लोगों से मिलने के लिए फालतू समय नहीं है। 
 
               निज सचिव सूरज मेहर के इस बात को लेकर छात्र परिषद नाराज हो गए। नाराजगी के खिलाफ जाते हुए सूरज मेहर ने अधिकारियों से मिलकर छात्र नेताओं के साथ हाथपाई पर उतारू हो गए। सचिन ने बताया कि छात्र परिषद के साथ दुर्व्यवहार को छात्र बर्दास्त नहीं करेंगे। देखे वीडियों….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *